उन्नाव की घटना पर मोदी का मौन असंवेदनशीलता: कांग्रेस - Naya India
समाचार मुख्य| नया इंडिया|

उन्नाव की घटना पर मोदी का मौन असंवेदनशीलता: कांग्रेस

नई दिल्ली। कांग्रेस ने उन्नाव दुष्कर्म पीड़िता की मौत पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी तथा भारतीय जनता पार्टी के शीर्ष नेतृत्व की चुप्पी को अंसवेदनशीलता करार देते हुए कहा है कि इस घटना से साफ है कि उत्तर प्रदेश में कानून तथा न्याय व्यवस्था दम तोड़ चुकी है।

कांग्रेस प्रवक्ता सुप्रिया श्रीनेत ने शनिवार को यहां पार्टी मुख्यालय में संवाददाताओं से कहा कि उन्नाव की दुष्कर्म पीड़िता की मौत की वजह उत्तर प्रदेश पुलिस है, जिसने पीड़िता की शिकायत पर चार माह से कोई प्राथमिकी दर्ज नहीं की।

बलात्कार का आरोपी भाजपा का नेता है इसलिए उसे बचाने के लिए राज्य सरकार ने पीड़िता को प्रताड़ित किया और आरोपी को संरक्षण दिया है। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश में कानून व्यवस्था किस तरह से ध्वस्त हो गयी है इसका उदाहरण उन्नाव है जहां पहले युवती से दुष्कर्म किया जाता है और फिर उसके पिता को मार दिया जाता है और अब पीड़िता को ही जिंदा जला दिया गया। युवती मरना नहीं चाहती थी बल्कि वह आरोपियों को सजा दिलाने के लिए संघर्ष कर रही थी लेकिन राज्य की पुलिस ने उसकी नहीं सुनी और हालात समझते हुए उसे सुरक्षा भी नहीं दी।

इसे भी पढ़ें :- उन्नाव दुष्कर्म पीड़िता की मौत के लिए उप्र सरकार को जिम्मेदार: प्रियंका

सुश्री श्रीनेत ने कहा कि उन्नाव में 11 माह में दुष्कर्म की 86 घटनाएं हुई हैं और तीन साल की बच्ची के साथ भी ऐसे घिनौने अपराध की खबर है लेकिन आश्चर्य की बात यह है श्री मोदी तथा भाजपा के शीर्ष नेतृत्व ने इन घटनाओं को लेकर कभी कुछ नहीं बोला और वे आश्चर्यजनक मौन साधे हुए हैं।

प्रवक्ता ने कहा कि उत्तर प्रदेश में कानून और न्याय व्यवस्था नाम की कोई चीज नहीं रह गयी है इसलिए दुष्कर्म पीड़ितों को जिंदा रहते न्याय नहीं मिल पाया। राज्य सरकार अपने अपराधी नेताओं को संरक्षण देती है और इसलिए युवती की उसने सुध नहीं ली लेकिन उसे अब असंवेदनशीलता छोड़कर सुनिश्चित करना चाहिए कि आरोपियों को जल्द से जल्द सजा मिले।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
दिल्ली की जेलों में कोरोना विस्फोट! 66 कैदी और 48 जेल स्टाफ पॉजिटिव, अब प्राइवेट दफ्तर भी बंद, आज से नए प्रतिबंध लागू
दिल्ली की जेलों में कोरोना विस्फोट! 66 कैदी और 48 जेल स्टाफ पॉजिटिव, अब प्राइवेट दफ्तर भी बंद, आज से नए प्रतिबंध लागू