nayaindia भारत जवाब देने में सक्षम: मोदी - Naya India
समाचार मुख्य| नया इंडिया|

भारत जवाब देने में सक्षम: मोदी

नई दिल्ली। पूर्वी लद्दाख की गलवान घाटी में सोमवार की रात भारत और चीन के सैनिकों के बीच हुई हिंसक झड़प के 36 घंटे के बाद सरकार की ओर से इस घटना पर आधिकारिक प्रतिक्रिया दी गई। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सैनिकों की बहादुरी को सलाम किया और कहा कि उनका बलिदान व्यर्थ नहीं जाएगा। उन्होंने यह भी कहा कि भारत जवाब देने में सक्षम है। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने बयान दिया और गृह मंत्री अमित शाह ने भी सैनिकों के सर्वोच्च बलिदान को सलाम किया।

बुधवार को प्रधानमंत्री मोदी ने राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ वीडियो कांफ्रेंसिंग की शुरुआत में एक संक्षिप्त बयान दिया। चार मिनट से कुछ ज्यादा समय के इस बयान में उन्होंने कहा- जवानों का बलिदान व्यर्थ नहीं जाएगा। देश की संप्रभुता सर्वोच्च है। देश की सुरक्षा करने से हमें कोई भी रोक नहीं सकता। इस बारे में किसी को भी जरा भी भ्रम या संदेह नहीं होना चाहिए।

प्रधानमंत्री ने आगे कहा- भारत शांति चाहता है, लेकिन भारत उकसाने पर हर हाल में यथोचित जवाब देने में सक्षम में है। हमारे दिवंगत शहीद वीर जवानों के विषय में देश को इस बात का गर्व होगा कि वे मारते-मारते मरे हैं। मेरा आप सभी से, सभी मुख्यमंत्रियों से आग्रह है कि हम खड़े होकर दो मिनट मौन रख कर इन वीर सपूतों को पहले श्रद्धांजलि देंगे। फिर मीटिंग को आगे बढ़ाएंगे।

गृह मंत्री अमित शाह ने शहीद सैनिकों को श्रद्धांजलि देते हुए कहा- मैं उन परिवारों को नमन करता हूं, जिन्होंने देश की सेना को ऐसे वीर सपूत दिए। इस शहादत के लिए भारत हमेशा सैनिकों का आभारी रहेगा। चीन-भारत सीमा पर शहीद हुए जवानों के परिवारों के साथ मोदी सरकार और पूरा देश खड़ा है। अपनी मातृभूमि की रक्षा करते हुए जान गंवाने वाले वीरों के बलिदान को शब्दों में बयां नहीं किया जा सकता।

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि गालवान घाटी में सैनिकों को गंवाना बहुत परेशान करने वाला और दुखद है। उन्होंने ट्विट किया कि भारतीय जवानों ने कर्तव्य का पालन करते हुए अदम्य साहस एवं वीरता का प्रदर्शन किया और अपनी जान न्योछावर कर दी।  उन्होंने लिखा- देश अपने सैनिकों की बहादुरी और बलिदान को कभी नहीं भूलेगा। शहीद सैनिकों के परिवारों के प्रति मेरी संवेदनाएं हैं। देश इस मुश्किल समय में उनके साथ कंधे से कंधा मिलाकर खड़ा है। हमें भारत के वीरों की बहादुरी और साहस पर गर्व है। गौरतलब है कि पूर्वी लद्दाख की गालवान घाटी में सोमवार रात चीनी सैनिकों के साथ हिंसक झड़प में भारतीय सेना के एक कर्नल सहित 20 सैन्यकर्मी शहीद हो गए।

सर्वदलीय बैठक

चीन के साथ वास्तविक सीमा रेखा, एलएसी पर बढ़ते तनाव और सोमवार की रात को दोनों देशों के सैनिकों के बीच हुई हिंसक झड़प के बाद की स्थितियों पर विचार के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सभी पार्टियों की बैठक बुलाई है। प्रधानमंत्री के साथ सभी पार्टियों की बैठक 19 जून को होगी। इससे पहले कई पार्टियां और नेता इस बात की मांग कर रहे थे कि ऐसी समस्या पर सभी पार्टियों के साथ बैठक होनी चाहिए और सबको साथ लेकर सरकार को कोई कार्रवाई करनी चाहिए। वैसे विपक्षी पार्टियों ने सरकार को इस मसले पर पूरा समर्थन देने का वादा किया है।

Leave a comment

Your email address will not be published.

four × three =

ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
सीएनजी की कीमत दो रुपए बढ़ी