nayaindia Seventh phase : सातवें चरण में 75 फीसदी से ज्यादा मतदान
समाचार मुख्य| नया इंडिया| Seventh phase : सातवें चरण में 75 फीसदी से ज्यादा मतदान

सातवें चरण में 75 फीसदी से ज्यादा मतदान

Seventh phase : कोलकाता। पश्चिम बंगाल में सातवें चरण के मतदान में 75 फीसदी से ज्यादा लोगों ने वोट डाले हैं। चुनाव आयोग के प्रांरभिक आंकड़ों के मुताबिक शाम छह बजे मतदान का समय खत्म होने तक 75.06 फीसदी लोगों ने अपने मताधिकार का इस्तेमाल किया था। अंतिम आंकड़ों में मतदान का प्रतिशत बढ़ सकता है। सातवें चरण में 36 सीटों पर मतदान होना था लेकिन दो सीटों पर प्रत्याशियों का निधन हो जाने से 34 सीटों पर ही मतदान हुआ। मतदान सुबह सात बजे से शुरू हुआ था और छिटपुट हिंसा की खबरों को छोड़ कर मतदान शांतिपूर्ण रहा।

सातवें चरण में कुल 284 उम्मीदवार मैदान में हैं, जिनमें 37 महिलाएं हैं। आयोग के शुरुआती आंकड़ों के मुताबिक मुर्शिदाबाद और दक्षिण दिनाजपुर में सबसे ज्यादा 80 फीसदी से उपर वोटिंग हुई है। मालदा में 78.76 फीसदी और पश्चिम बर्धमान में 70 फीसदी से ज्यादा वोट डाले गए हैं। (Seventh phase)

चुनाव आयोग ने मतदान के बीच सोमवार को बंगाल के कुछ पुलिस अधिकारियों का तबादला भी किया। आयोग ने आर्थिक अपराध महानिदेशालय के इंस्पेक्टर शांतनु सिन्हा बिस्वास का जलापाईगुड़ी के डीआईजी ऑफिस में ट्रांसफर किया है। उन पर भाजपा ने पोस्टल बैलेट में हेरा-फेरी करने का आरोप लगाया था। आसनसोल-दुर्गापुर के असिस्टेंट कमिश्नर श्रीमंत कुमार बंदोपाध्याय को बोलपुर में एसडीओ बना कर भेजा गया है।(Seventh phase)

बहरहाल, राज्य में जिन 34 सीटों पर मतदान हो रहा है, वे पांच जिलों में हैं। इनमें दक्षिण दिनाजपुर और मालदा जिले की छह-छह, मुर्शिदाबाद की नौ, कोलकाता की चार और बर्धमान की नौ विधानसभा सीटें शामिल हैं। आठवें और आखिरी चरण में 35 विधानसभा सीटों पर 29 अप्रैल को मतदान होना है। नतीजे दो मई को आएंगे। सातवें चरण में 36 सीटों पर मतदान होना था, लेकिन मुर्शिदाबाद जिले की शमशेरगंज और जंगीपुर सीट से प्रत्याशियों के निधन के बाद चुनाव आयोग ने इन सीटों पर चुनाव स्थगित कर दिये थे।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

6 + fifteen =

ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
धुंध की चादर में लिपटी दिल्ली, एक्यूआई ‘बेहद खराब’
धुंध की चादर में लिपटी दिल्ली, एक्यूआई ‘बेहद खराब’