समाचार मुख्य

अनुच्छेद 371 को कोई हटा नहीं सकता: शाह

ईटानगर। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने आज अनुच्छेद 371 हटाए जाने की अटकलों पर विराम लगाते हुए कहा कि इसे कोई हटा नहीं सकता है और न ही इसे हटाने की किसी की मंशा है।

शाह ने आज यहां अरुणाचल प्रदेश के 33वें स्थापना दिवस अवसर पर आयोजित कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा अगस्त में जब अनुच्छेद 370 हटाने का फैसला लिया गया, तो पूर्वोत्तर में भी अफवाहें और गलतफहमी फैलाई गई कि 370 के साथ ही 371 को भी हटा दिया जायेगा।

उन्होंने कहा, मैं आज समग्र नार्थ ईस्ट को बताना चाहता हूं कि अनुच्छेद 371 को कोई हटा नहीं सकता है और न ही हटाने की किसी की मंशा है। नरेंद्र मोदी सरकार के छह वर्ष के कार्यकाल के दौरान पूर्वोत्तर के राज्यों के तेजी से विकास का उल्लेख करते हुए शाह ने कहा कि अरुणाचल प्रदेश में मुख्यमंत्री पेमा खांडू के नेतृत्व में तेज गति से विकास कार्य हो रहे हैं। उन्होंने कहा कि देश के विभिन्न हिस्सों में बधाई देने के अलग-अलग तरीके हैं लेकिन अरुणाचल प्रदेश ही एक मात्र ऐसा राज्य है, जहां लोग जब एक दूसरे को बधाई देते है तो वह ‘जय हिंद’ पुकारते हैं।

गृह मंत्री ने कहा कि देश के लिए पूर्वोत्तर का क्षेत्र हमेशा महत्वपूर्ण रहा है। देश के सभी लोग पूर्वोत्तर क्षेत्र के विकास और यहां रहने वाले लोगों के कल्याण में विश्वास करते हैं। देश के लिए पूर्वोत्तर हमेशा से बहुत महत्वपूर्ण रहा है। इस दुर्गम क्षेत्र में बसने वाली जनजातियां भारतीय संस्कृति के लिए एक श्रृंगार से कम नहीं है। उन्होंने कहा कि देश की संस्कृति इस क्षेत्र की संस्कृति के बिना अधूरी ही नहीं, अपंग भी है।

इसे भी पढ़ें :- मोदी के लिट्टी-चोखा खाने पर विपक्ष ने किया कटाक्ष

शाह ने कहा कि केंद्र में मोदी की अगुवाई में सरकार बनने के बाद पूर्वोत्तर क्षेत्र की समस्याओं को दूर करने के लिए तेजी से कदम उठाये गये जिससे क्षेत्र विकासोन्मुखी बने। मोदी ने पिछले पांच साल के दौरान पूर्वोत्तर के राज्यों का 30 बार दौरा किया। इसका अर्थ यह हुआ कि प्रधानमंत्री इस क्षेत्र के लोगों से हर साल छह बार मिले। चौदहवें वित्त आयोग ने 13 वें वित्त आयोग की तुलना में पूर्वोत्तर के बजट में 251 प्रतिशत की बड़ी बढ़ोतरी की।

गृह मंत्री ने कहा कि पिछले तीन वर्षों के दौरान पूर्वोत्तर में सड़क मार्ग को सुगम बनाने के लिए 38 हजार करोड़ रुपए के 3800 किलोमीटर लंबे मार्गों को मंजूरी दी गई और इसमें से 1200 किलोमीटर को पूरा किया जा चुका है। पूर्वोत्तर की 900 किलोमीटर रेलवे लाइन को ब्राॅड गेज में बदला गया है। त्रिपुरा-सुंदरी एक्सप्रेस-वे नयी दिल्ली से त्रिपुरा के बीच शुरू की गयी। उन्होंने कहा कि वह क्षेत्र के लोगों को यह आश्वस्त करना चाहते हैं कि पूर्वोत्तर के राज्यों की सभी राजधानियों को सड़क और वायु मार्ग से आपस में जोड़ा जायेगा।

Latest News

इंडियन आइडल12 से सवाई भट्ट हुए बाहर तो फूटा नव्या नवेली का गुस्सा, लोग बोले-शनमुखा को बचाने के लिए हो रहा ड्रामा
मुंबई |  रिएलिटी शो इंडियन आइडल 12 आए दिन सुर्खियों में बना रहता है। कभी किशोर कुमार के बेटे अमित कुमार को…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

देश | उत्तर प्रदेश | फोटो गैलरी

खुले बालों में चीखती-चिल्लाती महिलाएं, अजीब व्यवहार करते पुरुष, यहां के भूत मेले में दूर-दूर से पहुंचते हैं लोग..

Bhoot Mela Ganga Ghat

Bhoot Mela Ganga Ghat कानपुर | हमारे देश भारत में अंधविश्वास हमेशा से एक बड़ी समस्या रही है. एक बार फिर से कानपुर की गंगा घाटों में अंधविश्वास का खेल देखने को मिला. आप भी इन तस्वीरों को देख कर चौक जाएंगे क्योंकि यहां आज भूतों और तांत्रिकों का मेला लगा. तस्वीरें भी ऐसी की देख कर ही रूह कांप जाए.  खुले बालों में चीखती-चिल्लाती महिलाएं हो या फिर अजीबोगरीब व्यवहार करते पुरुष. आखिर आज गंगा की घाटों में ये क्या हो रहा है? बता दें कि यह मेला पिछले कई 100 सालों से गंगा के घाटों में लगता है. यहां दूर-दूर से लोग अपनी भूत बाधा दूर करने पहुंचते हैं.

तांत्रिकों से करनी होती है पहले से बात

उत्तर प्रदेश के लखनऊ से अपनी बेटी का भूत भगाने के लिए Bhoot Mela Ganga Ghat पहुंचे राम बल्लभ शर्मा ने बताया कि यह इतना आसान नहीं है. उन्होंने कहा कि इस काम के लिए तांत्रिकों से पहले से कॉटेक्ट में रहना पड़ता है. उन्होंने कहा कि तांत्रिक पहले से पूजा सामग्री की लिस्ट देते हैं जिसे लेकर आज के विशेष दिन यहां पहुंचना होता है. उन्होंने कहा कि मैंने यहां आए कई लोगों से सुना है कि इससे यहां भूत बाधा दूर हो जाती है. उन्होंने कहा कि मेरी बेटी है पिछले 4 सालों से परेशान हैं और डॉक्टरों के चक्कर लगाकर हम सब परेशान हो गए हैं. लेकिन आज जब यहां पहुंचे तो पूजा पाठ के बाद से ही बेटी में कुछ चमत्कारी परिवर्तन देखने को मिले हैं. ऐसा लगता जय की अब सब ठीक हो गया है.

इसे भी पढ़ें- Uttar Pradesh : धर्मांतरण कराने के लिए मिलते थे विदेश से पैसे, ATS ने रैकेट का खुलासा करते हुए 2 मौलानाओं को किया गिरफ्तार

सैकड़ों साल से लगता है मेला

गंगा के तट पर दुकान लगाने वाले सोहन का कहना है कि यहां सैकड़ों सालों से मेला लगता रहा है. उसने बताया कि बाप दादा से भी हमने इस मेले के बारे में सुना है. हालांकि सुमन का कहना है कि दशहरा के समय यहां पर विशेष भीड़ उमड़ती है. उसने कहा कि इसके लिए पहले से विशेष तिथियां निर्धारित कर दी जाती है. सोहन का कहना कि मेरे होश संभालने के बाद से मैंने कई बार लोगों को संतुष्त होकर जाते देखा है. सोहन ने कहा कि इसलिए हम तो इन सब पर विश्वास करते हैं. सोहन का कहना है कि खासकर एकादशी और पूर्णिमा को इस मेले का आयोजन किया जाता है . उन्होंने ये भी बताया कि कोरोना का कारण इस बार बहुत ज्यादा समय के बाद यहां मेला लगाया गया है.

इसे भी पढें- Salute : एक ओर अपने बच्चे को तो दूसरी ओर वैक्सीन बांधे ग्रामीण इलाकों में टीके के लिए नदी पार कर जाती मानती की कहानी…

 

Latest News

aaइंडियन आइडल12 से सवाई भट्ट हुए बाहर तो फूटा नव्या नवेली का गुस्सा, लोग बोले-शनमुखा को बचाने के लिए हो रहा ड्रामा
मुंबई |  रिएलिटी शो इंडियन आइडल 12 आए दिन सुर्खियों में बना रहता है। कभी किशोर कुमार के बेटे अमित कुमार को…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *