यूरोपीय सांसदों के कश्मीर दौरे पर विवाद

नई दिल्ली। यूरोपीय सांसदों के कश्मीर दौरे को लेकर कांग्रेस ने केंद्र सरकार पर हमला तेज कर दिया है। बुधवार को कांग्रेस ने कहा कि सरकार ने अपनी नासमझी में देश की कूटनीति को अंतरराष्ट्रीय दलाल के हाथों गिरवी रख दिया है। कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने भी इस मामले में अंतरराष्ट्रीय दलाल के शामिल होने की बात कही। गौरतलब है कि कांग्रेस के नेता इस दौरे का आयोजन करने वाली मादी शर्मा के ऊपर बिना नाम लिए हमले कर रहे हैं।

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने यूरोपीय सांसदों के कश्मीर दौरे को लेकर बुधवार को नरेंद्र मोदी सरकार पर हमला किया। उन्होंने कहा कि इंटरनेशनल ब्रोकर की प्रधानमंत्री कार्यालय तक पहुंच है, लेकिन देश के किसानों और बेरोजगारों को यह सुविधा हासिल नहीं है। इसके साथ उन्होंने यह सवाल भी किया कि प्रधानमंत्री कार्यालय में इंटरनेशनल ब्रोकर की पहुंच कैसे बनी? प्रियंका ने ट्विट कर कहा- भारत के किसानों-बेरोजगार युवाओं के लिए ये सुविधा नहीं है कि प्रधानमंत्री से मुलाकात हो सके, समस्याएं सुनी जा सकें। लेकिन मादी शर्मा जैसे इंटरनेशनल बिजनेस ब्रोकर बड़ी शान से लिख सकते हैं कि भारत आइए, हम आपका खर्चा भी उठाएंगे, प्रधानमंत्री कार्यालय में हमारी पहुंच है, हम आपको प्रधानमंत्री से भी मिलवाएंगे।

कांग्रेस के मीडिया प्रभारी रणदीप सुरजेवाला ने इस मामले में पत्रकारों से कहा- पिछले तीन दिनों में देश ने एक इंटरनेशनल ब्रोकर द्वारा प्रायोजित मोदी सरकार का अपरिपक्व, विवेकहीन व मूर्खतापूर्ण पीआर स्टंट देखा। उन्होंने आगे कहा- एक पूर्णतया अनजान थिंकटैंक द्वारा प्रायोजित यूरोपीय संसद के 27 सदस्यों को भारत लाया गया और उनकी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात कराई गई। इसके बाद उन्हें कश्मीर भेजा गया। सुरजेवाला ने कहा कि कश्मीर हमेशा भारत का आंतरिक मामला रहा है और तीसरे पक्ष को शामिल करके केंद्र सरकार ने अक्षम्य अपराध किया है।

ये खबर भी पढ़ें: यूरोपीय सांसदों ने किया भारत का समर्थन

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Shares