nayaindia देश छुएगा नई ऊंचाइयां: मोदी - Naya India
kishori-yojna
समाचार मुख्य| नया इंडिया|

देश छुएगा नई ऊंचाइयां: मोदी

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा है कि भारत का इतिहास आपदाओं और चुनौतियों पर जीत हासिल कर और ज्यादा निखरकर निकलने का रहा है।

मोदी ने आज अपने मासिक कार्यक्रम ‘मन की बात’ में कहा, स्वाभाविक है कि जो वैश्विक महामारी आयी, मानव जाति पर जो संकट आया, उस पर, हमारी बातचीत कुछ ज्यादा ही रही, लेकिन इन दिनों मैं देख रहा हूं, लगातार लोगों में, एक विषय पर चर्चा हो रही है, कि, आखिर ये साल कब बीतेगा।

कोई किसी को फोन भी कर रहा है तो बातचीत इसी विषय से शुरू हो रही है कि ये साल जल्दी क्यों नहीं बीत रहा है। कोई लिख रहा है, दोस्तों से बात कर रहा है, कह रहा है, कि, ये साल अच्छा नहीं है, कोई कह रहा है 2020 शुभ नहीं है। बस, लोग यही चाहते हैं कि किसी भी तरह से ये साल जल्द-से-जल्द बीत जाए।

उन्होंने कहा कि 6-7 महीना पहले हम कहां जानते थे कि कोरोना जैसा संकट आएगा और इसके खिलाफ़ ये लड़ाई इतनी लम्बी चलेगी । ये संकट तो बना ही हुआ है, ऊपर से, देश में नित नयी चुनौतियाँ सामने आती जा रही हैं। अभी, कुछ दिन पहले, देश के पूर्वी छोर पर अम्फान तूफान आया, तो, पश्चिमी छोर पर निसर्ग तूफान आया।

इसे भी पढ़ें :- लॉक डाउन से अधिक अनलॉक में सतर्कता जरूरी: मोदी

कई राज्यों में हमारे किसान भाई–बहन टिड्डी दल के हमले से परेशान हैं, और कुछ नहीं, तो, देश के कई हिस्सों में छोटे-छोटे भूकंप रुकने का ही नाम नहीं ले रहे, और इन सबके बीच, हमारे कुछ पड़ोसियों द्वारा जो हो रहा है, देश उन चुनौतियों से भी निपट रहा है। वाकई, एक-साथ इनती आपदाएं, इस स्तर की आपदाएं, बहुत कम ही देखने-सुनने को मिलती हैं । हालत तो ये हो गयी है कि कोई छोटी घटना भी हो रही है, तो लोग उन्हें भी इन चुनौतियों के साथ जोड़कर के देख रहें हैं ।

प्रधानमंत्री ने कहा कि मुश्किलें आती हैं, संकट आते हैं, लेकिन सवाल यही है, कि, क्या इन आपदाओं की वजह से हमें साल 2020 को ख़राब मान लेना चाहिए? क्या पहले के छह महीने जैसे बीते, उसकी वजह से, ये, मान लेना कि पूरा साल ही ऐसा है, क्या ये सोचना सही है ? जी नहीं। बिल्कुल नहीं। एक साल में एक चुनौती आए, या, पचास चुनौतियां आएँ, नंबर कम-ज्यादा होने से, वो साल, ख़राब नहीं हो जाता।

भारत का इतिहास ही आपदाओं और चुनौतियों पर जीत हासिल कर, और ज्यादा निखरकर निकलने का रहा है। सैकड़ों वर्षों तक अलग- अलग आक्रांताओं ने भारत पर हमला किया, उसे संकटों में डाला, लोगों को लगता था कि भारत की संरचना ही नष्ट हो जाएगी, भारत की संस्कृति ही समाप्त हो जाएगी, लेकिन इन संकटों से भारत और भी भव्य होकर सामने आया।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

17 − eight =

kishori-yojna
kishori-yojna
ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
संसद ने भी माना दिल्ली की वायु गुणवत्ता सुधरी: केजरीवाल