पाकिस्तान ने 88 आतंकियों पर पाबंदी लगाई - Naya India
समाचार मुख्य| नया इंडिया|

पाकिस्तान ने 88 आतंकियों पर पाबंदी लगाई

इस्लामाबाद। पाकिस्तान ने अंतरराष्ट्रीय पाबंदियों से बचने के लिए अपने यहां आतंकवादियों पर कार्रवाई शुरू की है। भले यह कार्रवाई दिखावे के लिए की गई हो पर पाकिस्तान ने यह भी माना है कि भारत का भगोड़ा आतंकवादी और अंडरवर्ल्ड सरगना दाऊद इब्राहिम भी उसके यहां हैं। दाऊद इब्राहिम सहित कुल 88 आतंकवादियों पर पाकिस्तान ने पाबंदी लगाई है। गौरतलब है कि फाइनेंशियल एक्शन टास्क फोर्स, एफएटीएफ की अक्टूबर में बैठक होने वाली है। उससे पहले पाकिस्तान ने यह कार्रवाई करके अपने को काली सूची में डाले जाने से बचने का प्रयास किया है। पाकिस्तान अभी एफएटीएफ की ग्रे लिस्ट में है।

जिन आतंकियों पर प्रतिबंध लगाए गए हैं, वे मुख्य तौर पर इस्लामिक स्टेट, अल कायदा और तालिबान के छोटे संगठनों से जुड़े हैं। अगर पाकिस्तान एफएटीएफ की ग्रे लिस्ट में ही बना रहता है या फिर उसे ब्लैक लिस्ट किया जाता है तो उसे आईएमएफ सहित दूसरे संगठनों से कर्ज मिलना नामुमकिन हो जाएगा। तभी पाकिस्तान ने आतंकवादियों पर कार्रवाई का दिखावा किया है। उसने माना है कि भारत का भगोड़ा आतंकी

पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय ने एक बयान में कहा- हम यूएन चार्टर के हिसाब से कदम उठा रहे हैं। हमें उम्मीद है कि दूसरे देश भी पाकिस्तान के इस कदम का समर्थन करते हुए ऐसा ही करेंगे। इन आतंकियों पर प्रतिबंध लगाए जाने से पहले प्रधानमंत्री इमरान खान ने शुक्रवार को कैबिनेट मीटिंग की। इसमें देश की अर्थव्यवस्था और एफएटीएफ की मीटिंग के बारे में चर्चा हुई।

Latest News

ग्रामीणों को पासपोर्ट, आधार कार्ड और PAN Card बनवाने के लिए अब दलालों की आवश्यकता नहीं, पंचायत भवनों में खुले जनसुविधा केंद्र
ग्रामीणों को पासपोर्ट, आधार कार्ड और PAN Card बनवाने के लिए अब दलालों की आवश्यकता नहीं, पंचायत भवनों में खुले जनसुविधा केंद्र

By वेद प्रताप वैदिक

हिंदी के सबसे ज्यादा पढ़े जाने वाले पत्रकार। हिंदी के लिए आंदोलन करने और अंग्रेजी के मठों और गढ़ों में उसे उसका सम्मान दिलाने, स्थापित करने वाले वाले अग्रणी पत्रकार। लेखन और अनुभव इतना व्यापक कि विचार की हिंदी पत्रकारिता के पर्याय बन गए। कन्नड़ भाषी एचडी देवगौड़ा प्रधानमंत्री बने उन्हें भी हिंदी सिखाने की जिम्मेदारी डॉक्टर वैदिक ने निभाई। डॉक्टर वैदिक ने हिंदी को साहित्य, समाज और हिंदी पट्टी की राजनीति की भाषा से निकाल कर राजनय और कूटनीति की भाषा भी बनाई। ‘नई दुनिया’ इंदौर से पत्रकारिता की शुरुआत और फिर दिल्ली में ‘नवभारत टाइम्स’ से लेकर ‘भाषा’ के संपादक तक का बेमिसाल सफर।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

});