सुधारों पर मोदी ने दिया जोर

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सुधारों पर जोर देते हुए कहा है कि इनमें समग्रता और निरंतरता होनी चाहिए। उन्होंने आगरा मेट्रो रेल परियोजना के निर्माण कार्य की वर्चुअल शुरुआत  करते हुए सोमवार को कहा कि पिछली सदी में उपयोगी रहे कानून अगली सदी के लिए बोझ बन जाते हैं। इसलिए सुधारों की प्रक्रिया लगातार चलती रहनी चाहिए। प्रधानमंत्री का यह बयान केंद्रीय कृषि कानूनों के खिलाफ चल रहे आंदोलन की वजह से अहम हो जाता है।

प्रधानमंत्री ने आगरा मेट्रो रेल परियोजना के निर्माण कार्यों की वर्चुअल तरीके से शुरुआत करने के बाद अपने भाषण में किसी खास कानून का जिक्र किए बगैर कहा- नई सुविधाओं और व्यवस्थाओं के लिए सुधार बहुत जरूरी हैं। हम पिछली शताब्दी के कानून लेकर अगली शताब्दी का निर्माण नहीं कर सकते। जो कानून पिछली शताब्दी में बहुत उपयोगी हुए, वे अगली शताब्दी के लिए बोझ बन जाते हैं और इसलिए सुधार की लगातार प्रक्रिया होनी चाहिए।

प्रधानमंत्री ने कहा- लोग अक्सर सवाल पूछते हैं कि पहले की तुलना में अब हो रहे सुधार ज्यादा बेहतर तरीके से काम क्यों करते हैं। इसका कारण बहुत ही सीधा है। पहले सुधार टुकड़ों में होते थे। कुछ सेक्टरों और कुछ विभागों को ध्यान में रख कर होते थे, मगर अब एक संपूर्णता की सोच से सुधार किए जा रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Shares