PNB Scam Nirav Modi को भारत लाने का रास्ता साफ! - Naya India
ताजा पोस्ट | समाचार मुख्य| नया इंडिया|

PNB Scam Nirav Modi को भारत लाने का रास्ता साफ!

PNB Scam Nirav Modi

PNB Scam Nirav Modi लंदन। ब्रिटेन की अदालत ने भगोड़े हीरा कारोबारी नीरव मोदी (PNB Scam Nirav Modi ) के भारत प्रत्यर्पण को रोकने के लिए उसकी ओर से दायर आवेदन को खारिज कर दिया है। इसके बाद नीरव को भारत लाने का रास्ता साफ हो गया है। नीरव मोदी ने आदेश के खिलाफ अपील करने की अनुमति के लिए लंदन हाई कोर्ट में एक आवेदन दिया था। लंदन हाई कोर्ट के जज ने अपील के लिए पेश किए गए कागजात पर फैसला किया और तय किया कि धोखाधड़ी और धन शोधन के आरोपों का सामना करने के लिए मोदी के भारत प्रत्यर्पण के पक्ष में वेस्टमिन्स्टर मजिस्ट्रेट कोर्ट के फरवरी के फैसले के खिलाफ अपील करने का कोई आधार नहीं है।

Political Battle in Rajasthan : Pilot गुट ने दिखाए तीखे तेवर, कहा- पायलट ‘बाहरी’ नहीं बल्कि, ‘भारी नेता’, BJP ने भी दिया साथ

गौरतलब है कि फरवरी में ब्रिटेन की वेस्टमिन्स्टर कोर्ट में नीरव के प्रत्यर्पण पर आखिरी सुनवाई हुई थी। कोर्ट ने भी नीरव को भारत भेजने की मंजूरी दे दी थी। इसके बाद 15 अप्रैल को ब्रिटेन की गृह सचिव प्रीति पटेल ने भी नीरव के प्रत्यर्पण का आदेश दिया था। अब लंदन हाई कोर्ट के फैसले से नीरव को भारत लाने का रास्ता लगभग साफ हो गया है। गौरतलब है कि नीरव मोदी पर पंजाब नेशनल बैंक से लोन लेकर करीब 14 हजार करोड़ रुपए की धोखाधड़ी करने का आरोप है।

PNB Scam : नीरव को भारत लाने का रास्ता साफ!

पीएनबी घोटाला सामने आने के बाद नीरव मोदी जनवरी 2018 में ( PNB Scam Nirav Modi ) देश छोड़ कर फरार हो गया था। नीरव को साउथ-वेस्ट लंदन से 19 मार्च, 2019 को गिरफ्तार किया गया था। उसे वांड्सवार्थ जेल में रखा गया है। वहीं, 23 जून को प्रवर्तन निदेशालय द्वारा नीरव मोदी सहित मेहुल चौकसी और विजय माल्या की कुल जब्त संपत्ति करीब 18,170.02 करोड़ रुपए की है। इसमें से 9,371.17 करोड़ रुपए की संपत्ति को वह सरकार और सरकारी बैंकों को देगी। ईडी  की ओर से जारी बयाने के मुताबिक उसके पास जब्त कुल संपत्ति बैंकों को हुए कुल नुकसान का 80.42 फीसदी है। इसका 41 फीसदी हिस्सा वह सरकार और बैंकों को देने का ऐलान किया है। माना जा रहा है कि इससे तीनों से रकम की रिकवरी की जा सकेगी। इन पर बैंकों के 22,585.83 करोड़ रुपए की देनदारी है।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *