लिट्टी-चोखा के बहाने बिहार चुनाव की तैयारी शुरू?

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने बुधवार 19 फरवरी को नई दिल्ली में इंडिया गेट के लान में लगे हुनर हाट में खटिया पर बैठकर लिट्टी चोखा खाया और कुल्हड़ में चाय पी। उसकी तस्वीरें जमकर वायरल हुई।

प्रधानमंत्री ने खुद ट्विटर पर तस्वीर डाल दी थी। वह बुधवार दोपहर अचानक हुनर हाट पहुंच गए थे। वह अलग-अलग स्टालों पर गए और कारीगरों से बात की।

उनका कार्यक्रम पूर्व निर्धारित नहीं था, फिर भी केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी उनका स्वागत करने के लिए हाट में मौजूद थे। इस घटनाक्रम का संकेत यह है कि अब बिहार विधानसभा के चुनाव की तैयारी शुरू हो गई है। मोदी को अब बिहार की जनता से जुड़ना है और नीतीश कुमार उनके साथ है ही। चुनाव से पहले इतनी तैयारी कर लेनी है कि जनता फिर से भाजपा की तरफ झुक जाए।

दिल्ली विधानसभा चुनाव में भाजपा को बहुमत नहीं मिल पाया। इससे पहले बिहार के पड़ोसी राज्य झारखंड में भाजपा सरकार गंवा चुकी है। अब बिहार की तरफ निगाहें हैं। अर्थ व्यवस्था इतनी जोरदार नहीं है कि लोगों को विकास के सपने दिखाए जा सकें। इसलिए बिहार में भावनात्मक मुद्दों का ही सहारा है। लिट्टी चोखा बिहार की पहचान है।

अगर प्रधानमंत्री लिट्टी चोखा पसंद करते हैं तो इसका असर पड़ेगा। यही वजह थी कि मोदी ने फोटो खिंचवाने के लिए लिट्टी चोखा का स्टाल चुना। वहां आम आदमी की तरह खटिया पर बैठे। लिट्टी चोखा खाया, कुल्हड़ में चाय पी और तस्वीर के साथ ट्वीट किया कि आज लंच में लिट्टी चोखा खाया और कुल्हड़ में चाय पी। अब जब तक बिहार में विधानसभा चुनाव नहीं हो जाता, तब तक लिट्टी चोखा गूंजता रहेगा। यह कोई नहीं जानता कि यह प्रायोजित कार्यक्रम था या स्वाभाविक। हालांकि खबर यही है कि प्रधानमंत्री अचानक वहां पहुंच गए थे।

प्रधानमंत्री अगर अचानक भी कहीं चले जाते हैं तो उसके गूढ़ राजनीतिक अर्थ होते हैं। गुजरात का खान-पान पसंद करने वाले मोदी का लिट्टी चोखा को महत्व देना भी ऐसा ही प्रतीत होता है। क्या बिहार में भाजपा लिट्टी चोखा के सहारे चुनाव जीतेगी? मोदी की तस्वीर वायरल होने के बाद बिहार के विपक्षी नेता तीर चलाने लगे हैं।

One thought on “लिट्टी-चोखा के बहाने बिहार चुनाव की तैयारी शुरू?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Shares