नारायणसामी सरकार का गिरना तय! - Naya India
समाचार मुख्य| नया इंडिया|

नारायणसामी सरकार का गिरना तय!

पुड्डुचेरी। कांग्रेस की एक और सरकार संकट में है। कर्नाटक और मध्य प्रदेश के बाद पुड्डुचेरी सरकार का गिरना भी लगभग तय हो गया है। 22 फरवरी को बहुमत साबित करने से एक दिन पहले डीएमके और कांग्रेस के एक-एक विधायक ने इस्तीफा दे दिया है। दो विधायकों के इस्तीफे के बाद विधानसभा की सदस्य संख्या 28 हो गई है पर सत्तारूढ़ गठबंधन के विधायकों की संख्या सिर्फ 12 रह गई है, जबकि बहुमत का आंकड़ा 15 का है। गौरतलब है कि राज्य की कार्यवाहक उप राज्यपाल तमिलिसाई सुंदरराजन ने राज्य सरकार को 22 फरवरी को बहुमत साबित करने को कहा है।

बहुमत साबित करने से एक दिन पहले रविवार को कांग्रेस विधायक के लक्ष्मीनारायणन और डीएमके विधायक के वेंकटेशन ने विधानसभा अध्यक्ष वीपी शिवकोझुंडू को अपना इस्तीफा सौंपा। इससे पहले कांग्रेस के चार विधायक इस्तीफा दे चुके हैं और एक विधाय़क को कांग्रेस ने पार्टी से निकाल दिया था। राज्य में सियासी संकट के बीच मुख्यमंत्री नारायणसामी ने रविवार को पार्टी विधायकों के साथ बैठक की।

कांग्रेस ने विधानसभा चुनाव में 15 सीटें जीती थीं लेकिन अब उसके पास सिर्फ नौ विधायक बचे हैं। दूसरी ओर विपक्षी खेमे में 14 विधायक हैं। हालांकि विपक्ष सरकार बनाने का दावा पेश नहीं करेगा। गौरतलब है कि अप्रैल-मई में राज्य में विधानसभा के चुनाव होने वाले हैं। ऐसा लग रहा है कि राष्ट्रपति शासन में ही विधानसभा चुनाव होंगे।

बहरहाल, विधानसभा अध्यक्ष वीपी शिवकोझुंडू ने कांग्रेस और डीएमके विधायकों के इस्तीफे की पुष्टि की है। उन्होंने इसकी सूचना मुख्यमंत्री वी नारायणसामी और विधानसभा सचिव को दे दी है। लक्ष्मीनारायणन के इस्तीफे के बाद पुड्डुचेरी विधानसभा में कांग्रेस विधायकों की संख्या 15 से घटकर नौ हो गई है। इससे पहले कांग्रेस विधायक ए जॉन कुमार, ए नमस्सिवम, मल्लादी कृष्णा राव और ई थेपयन्थन ने इस्तीफा दिया था। इनके अलावा कांग्रेस विधायक एन धनवेलु को पार्टी विरोधी गतिविधियों में शामिल होने के कारण अयोग्य घोषित कर दिया गया था।

कांग्रेस से इस्तीफा देने वाले नमस्सिवम और थेपयन्थन भाजपा में शामिल हो चुके हैं। बताया जा रहा है कि बाकी नेता भी जल्दी ही भाजपा में जा सकते हैं। दूसरी ओर डीएमके के विधायकों की संख्या तीन से घट कर दो हो गई है। चार विधायकों के इस्तीफे के बाद मुख्यमंत्री नारायणसामी ने बहुमत में होने का दावा किया था। पुड्डुचेरी की कार्यवाहक उप राज्यपाल डॉ. तमिलिसाई सुंदरराजन से उन्होंने मुलाकात भी की थी। तीन दिन पहले उप राज्यपाल ने 22 फरवरी को शाम पांच बजे तक बहुमत साबित कराने का निर्देश दिया था। इससे ठीक पहले उप राज्यपाल किरण बेदी को पद से हटाया गया था।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ट्रेंडिंग खबरें arrow