भाजपा फैसला पढ़े बिना खुशी मना रही

नई दिल्ली। राफेल लड़ाकू विमान सौदे में केंद्र सरकार को क्लीन चिट देने के फैसले को चुनौती देने वाली याचिकाएं

खारिज करने के सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद भाजपा और कांग्रेस आपस में उलझे हैं।

भाजपा ने इसे सत्य की जीत बताते हुए कांग्रेस से माफी मांगने को कहा है तो कांग्रेस ने कहा है कि

भाजपा के नेता पूरा फैसला पढ़े बिना खुशी मना रहे हैं। कांग्रेस ने दावा किया है कि

सुप्रीम कोर्ट में राफेल मामले की आपराधिक जांच का दरवाजा खोज दिया है।

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने ट्विट किया-  सुप्रीम कोर्ट के जज जस्टिस जोसफ ने

राफेल मामले की जांच के लिए बड़ा दरवाजा खोल दिया है। इसे तुरंत शुरू किया जाना चाहिए।

एक संयुक्त संसदीय समिति का गठन होना चाहिए, जो इस घोटाले की जांच करे।

इससे पहले सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि हमें इस मामले में एफआईआर का

आदेश देने या जांच बैठाने की जरूरत महसूस नहीं हुई।

कांग्रेस के मीडिया प्रभारी रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि भाजपा बिना फैसला पढ़े खुशी मना रही है।

उन्होंने कहा कि भाजपा और उसके मंत्री देश को एकबार फिर गुमराह कर रहे हैं।

सुरजेवाला ने दावा किया कि सुप्रीम कोर्ट ने आपराधिक जांच का दरवाजा खोल दिया है।

उन्होंने कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने साफ़ कहा है कि संवैधानिक वजहों से

सुप्रीम कोर्ट के हाथ बंधे हो सकते हैं पर जांच एजेंसियों के नहीं।

सुरजेवाला ने कहा कि राफेल मामले के कई पहलू संविधान के अनुच्छेद 32 से बाहर का है।

अनुच्छेद 32 सुप्रीम कोर्ट के हाथ बांधता है पर पुलिस या सीबीआई के नहीं।

अदालत ने पैरा 73 और 87 में साफ कहा है।

इस मामले में सबूत जुटाना जांच एजेंसियों की जिम्मेदारी है क्योंकि उनके हाथ खुले हैं।

सर्वोच्च अदालत ने गुरुवार को कहा है किसी तरह की जांच में कोर्ट का आज का या पिछला फैसला कोई अड़चन नहीं डालेगा।

उन्होंने कहा कि कांग्रेस के राफ़ेल पर नौ सवालों का सरकार ने आज तक जवाब नहीं दिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Shares