रेलवे ने 32 अफसरों को किया जबरन रिटायर

नई दिल्ली। रेल मंत्रालय ने अपने 32 अफसरों को जबरन रिटायर कर दिया है। यह कदम उन अधिकारियों की काम काज की समीक्षा के आधार पर उठाया गया है। रेलवे इस तरह के कदम आगे भी उठा सकती है क्योंकि अभी भी कई अधिकारियो के काम काज की समीक्षा की जा रही है। जो अधिकारी कार्य समीक्षा में अक्षम, संदेहास्पद निष्ठा रखने वाले और प्रतिकूल आचरण वाले है उन्हें जबरन सेवानिवृत्त किया जाएगा। रेलवे ने जिन 32 अफसरों को रिटायर किया है उन्हें भी इस मापदंड पर परखा गया है।

सूत्रों ने बताया कि अफसरों के काम की समीक्षा विभिन्न स्तरों पर गठित की गयीं समितियों द्वारा की गयीं। कुल 1780 अधिकारियों की समीक्षा के बाद 32 अधिकारियों को अनिवार्य सेवानिवृत्ति देने का फैसला किया गया। इनमें से ग्रेड ‘ए’ के 1410 अधिकारियों की समीक्षा करके 22 को अनिवार्य सेवानिवृत्ति दी गयी। रेलवे बोर्ड की आरबीएसएस और आरबीएसएसएस मिस्लीनियस ‘ए’ और ‘बी’ के क्रमश: 131 और 118 अधिकारियों के काम की समीक्षा की गयी जिनमें दो-दो अधिकारियाें को अनिवार्य सेवानिवृत्ति देने का निर्णय हुआ। सी एंड डी सेवा के 121 अधिकारियों की समीक्षा करके छह को घर भेजने का फैसला हुआ।

सूत्रों ने बताया कि जूनियर एडमिनिस्ट्रेशन ग्रेड और गैर राजपत्रित अधिकारियों के कामकाज की समीक्षा अभी जारी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Shares