कांग्रेस की विधानसभा सत्र की रणनीति बनी

जयपुर। कांग्रेस पार्टी ने 14 अगस्त से होने वाले विधानसभा सत्र को लेकर अपनी रणनीति पर रविवार को चर्चा की। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत रविवार को जैसलमेर पहुंचे, जहां कांग्रेस पार्टी के विधायक रूके हुए हैं। उन्होंने कांग्रेस विधायकों के साथ सत्र की रणनीति पर चर्चा की। कांग्रेस पार्टी में विधानसभा सत्र के दौरान फ्लोर मैनेजमेंट के लिए एक टीम भी बनाई है। गहलोत ने इस मौके पर पार्टी के बागी विधायकों से वापस लौटने की अपील भी की। जैसलमेर में अशोक गहलोत ने कहा कि कांग्रेस छोड़ने वालों के लिए हर घर में गुस्सा है। उम्मीद है, कांग्रेस छोड़ने वाले इस बात को समझकर हमारे पास वापस लौट आएंगे।

बहरहाल, कांग्रेस ने फ्लोर मैनेजमेंट के लिए एक टीम बनाई है, जो सदन में सभी सदस्यों के साथ तालमेल करेगी। संसदीय कार्य मंत्री शांति धारीवाल इस टीम का नेतृत्व करेंगे और नीतिगत पहलुओं पर वे ही बात रखेंगे। पार्टी के दूसरे वरिष्ठ नेता जैसे डॉ. बीडी कल्ला, महेश जोशी और महेंद्र चौधरी धारीवाल की मदद करेंगे। गैर कांग्रेसी सदस्य के तौर पर इस टीम में सुभाष गर्ग, संयम लोढ़ा, बलवान पूनिया, बलजीत यादव, बाबूलाल नागर, राजकुमार गौड को रखा गया है।

सत्र शुरू होने से पहले तेज हुई राजनीतिक हलचल के बीच गहलोत ने भाजपा पर भी निशाना साधा। उन्होंने कहा- मुझे लगता है कि भाजपा में जोरदार फूट पड़ गई है। सत्ता में सरकार हमारी है और बाड़ेबंदी भाजपा कर रही है। इससे साफ है कि उनकी साजिश सफल नहीं हो रही। उन्होंने कहा- मैंने चुनी हुई सरकार को गिराने के प्रयासों का हमेशा विरोध किया। भाजपा के कैलाश मेघवाल पहले ही कह चुके हैं कि चुनी हुई सरकार को गिराने की परंपरा गलत है। भाजपा के कई विधायक भी ऐसा मानते हैं। गौरतलब है कि भाजपा ने भी अपने विधायकों को होटल में रखा है।

भाजपा विधायकों की बैठक 11 अगस्त को

जयपुर। भारतीय जनता पार्टी ने अपने जिन विधायकों को गुजरात भेजा था उन्हें वापस बुलाया जा रहा है। अब पार्टी अपने सारे विधायकों को जयपुर में ही रखेगी। बताया जा रहा है कि भाजपा 11 अगस्त से जयपुर में ही अपने विधायकों को बाड़ेबंदी में रखेगी। उसी दिन शाम चार बजे टोंक रोड पर स्थित होटल क्राउन प्लाजा में भाजपा विधायक दल की बैठक होगी। इसके बाद सभी विधायक होटल में ही ठहरेंगे।

गौरतलब है कि पार्टी ने शुक्रवार और शनिवार को दो खेप में 20 विधायकों को गुजरात भेजा था। उन वापस जयपुर बुलाया जा रहा है। नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया के आवास पर हुई बैठक में यह फैसला किया गया। कटारिया ने कहा कि 14 अगस्त को निर्णायक दिन है। उन्होंने कहा- इसमें फैसला होगा कि सरकार रहेगी या नहीं। इस दिन क्या करना है इसके लिए सभी विधायकों के साथ बैठक करके चर्चा कर लेंगे। विधायकों को गुजरात भेजने को भाजपा की समझदारी कहना चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Shares