गहलोत ने दी आगे बढ़ने की सलाह - Naya India
देश | राजस्थान | समाचार मुख्य| नया इंडिया|

गहलोत ने दी आगे बढ़ने की सलाह

जयपुर। राजस्थान में एक महीने तक चली सियासी उठापटक खत्म होने के बाद मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने पार्टी के विधायकों से कहा है कि बीती बातों को भूल कर आगे बढ़ना चाहिए। उन्होंने पूर्व उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट या उनके समर्थक विधायकों का जिक्र किए गए बगैर कांग्रेस के विधायकों से अब उनको भूलो, माफ करो और आगे बढ़ो का मंत्र अपनाना चाहिए। गौरतलब है कि पायलट सहित 19 विधायक करीब एक महीने तक हरियाणा के मानेसर में रहे थे और इस वजह से गहलोत को भी कांग्रेस के विधायकों को एकजुट रखने के लिए बड़ी मशक्कत करनी पड़ी थी।

मुख्यमंत्री ने कहा- देश के हित में, प्रदेश के हित में, प्रदेशवासियों के हित में, डेमोक्रेसी के हित में, विधायकों को भूलो और आगे बढ़ो की नीति अपनानी चाहिए। पिछले एक महीने से चल रहे घटनाक्रम के बारे में गहलोत ने कहा- यह डेमोक्रेसी को बचाने की लड़ाई है। ऐसे में सभी भूलो और माफ करो की स्थिति में रहें। गहलोत ने पत्रकारों से बातचीत में कहा- यह लड़ाई डेमोक्रेसी के हित में है। इसमें हमारे विधायकों ने इतना साथ दिया। एक सौ से ज्यादा विधायकों का एक साथ इतने लंबे समय के लिए रुकना, ऐसा हिंदुस्तान के इतिहास में कभी नहीं हुआ होगा। यह डेमोक्रेसी को बचाने की लड़ाई है। आगे भी जारी रहेगी हमारी लड़ाई।

दूसरी ओर सचिन पायलट के समर्थन में गए विधायक विश्वेंद्र सिंह ने कहा कि यह टेस्ट मैच था जो ड्रॉ हो चुका है। उन्होंने कहा- हम बागी नहीं हैं। हमने पार्टी के खिलाफ कुछ नहीं कहा था। मैंने मजाकिया तौर पर कहा था कि यह एक टेस्ट मैच है। अब मैच ड्रॉ हो चुका है और हम अब फिर पवेलियन में लौट आए हैं।

होटल में ही रहेंगे अभी विधायक

राजस्थान विधानसभा के सत्र से पहले कांग्रेस के विधायक होटल में ही रहेंगे। सत्र से दो दिन पहले विधायक जैसलमेर से जयपुर लौट आए हैं, लेकिन उनको वापस उसी फेयरमाउंट होटल में रखा गया है, जहां से उनको जैसलमेर भेजा गया था। बताया जा रहा है कि 14 अगस्त को होने वाले सत्र के बाद ही विधायक अपने क्षेत्र में जाएंगे। इससे पहले बुधवार को विधायक जैसलमेर से जयपुर लौटे। सभी विधायकों को हवाईअड्डे से सीधे होटल फेयरमाउंट ले जाया गया।

गौरतलब है कि कांग्रेस के एक सौ करीब विधाक लगातार 31 दिनों तक जयपुर और जैसलमेर के होटल में रहे। पहले विधायकों को 13 जुलाई से जयपुर के फेयरमाउंट होटल में रखा गया फिर 31 जुलाई को उन्हें जैसलमेर के सूर्यगढ़ होटल ले जाया गया। बुधवार को जैसलमेर से लौट रहे विधायकों का एक वीडियो भी सामने आया, जिसमें वे बस में बैठ कर हवाईअड्डा जा रहे थे। सरकार का संकट टलने की खुशी विधायकों के चेहरे पर साफ दिख रही थी। पार्टी के मुख्य सचेतक महेश जोशी ने गाना भी गाया।

जैसलमेर से बुधवार को 90 विधायक और 20 कांग्रेस नेता लौटे हैं। इससे पहले मुख्यमंत्री मंगलवार सुबह जैसलमेर गए थे। वहां उन्होंने विधायकों से ताजा राजनीतिक हालात पर चर्चा की। गौरतलब है कि शुक्रवार से विधानसभा सत्र शुरू होना है जिसके इस बार काफी हंगामेदार रहने के आसार हैं।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *