Ramdev माफी मांगे: हर्षवर्धन - Naya India
ताजा पोस्ट | समाचार मुख्य| नया इंडिया|

Ramdev माफी मांगे: हर्षवर्धन

नई दिल्ली। इंडियन मेडिकल एसोसिएशन की ओर से आपत्ति जताने और दिल्ली मेडिकल एसोसिएशन की ओर से मुकदमा दर्ज कराए जाने के बाद केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉक्टर हर्षवर्धन ने पतंजलि समूह के रामदेव द्वारा डॉक्टरों पर दिए गए बयान को आपत्तिजनक बताया है और उनसे बयान वापस लेने को कहा है। हर्षवर्धन ने यह भी कहा है कि रामदेव ने जो सफाई दी है वह पर्याप्त नहीं है और उन्हें माफी मांगनी चाहिए।

हर्षवर्धन ने रविवार को रामदेव को पत्र लिख कर अपना विवादित बयान वापस लेने को कहा। हर्षवर्धन ने पत्र में लिखा- एलोपैथी से जुड़े हेल्थ वर्कर्स और डॉक्टर बहुत मेहनत से कोरोना मरीजों की जान बचा रहे हैं। आपके बयान से कोरोना के खिलाफ चल रही लड़ाई कमजोर पड़ सकती है। उम्मीद है कि आप अपने बयान को वापस लेंगे। इससे पहले शनिवार को इंडियन मेडिकल एसोसिएशन ने स्वास्थ्य मंत्री को चिट्‌ठी लिखकर एलोपैथी पर दिए बाबा रामदेव के बयान पर आपत्ति जताई थी और मुकदमा चलाने की मांग भी की थी।

इसके एक दिन बाद रविवार को स्वास्थ्य मंत्री ने रामदेव को चिट्ठी लिखी। उन्होंने लिखा- आप इस तथ्य से भली-भांति परिचित हैं कि कोरोना के खिलाफ इस लड़ाई में भारत सहित पूरे विश्व के असंख्य डॉक्टरों और स्वास्थ्यकर्मियों ने अपनी जानें न्योछावर की हैं। हर्षवर्धन ने लिखा- आज लाखों लोग कोरोना से ठीक होकर घर जा रहे हैं। आज अगर देश में कोरोना से मृत्यु दर सिर्फ 1.13 फीसदी और रिकवरी रेट 88 फीसदी से अधिक है, तो इसके पीछे एलोपैथी और उसके डॉक्टरों का अहम योगदान है।

स्वास्थ्य मंत्री ने लिखा- आप सार्वजनिक जीवन में रहने वाली शख्सियतों में से हैं। ऐसे में आपका कोई भी बयान बहुत मायने रखता है। मैं समझता हूं कि आपको किसी भी मुद्दे पर कोई भी बयान समय, काल और परिस्थिति देख कर देना चाहिए। ऐसे समय में इलाज के मौजूदा तरीकों को तमाशा बताना न सिर्फ एलोपैथी बल्कि उनके डॉक्टरों के मनोबल को तोड़ने और कोरोना महामारी के खिलाफ हमारी लड़ाई को कमजोर करने वाला साबित हो सकता है। उन्होंने आगे लिखा- आपको यह पता होना चाहिए कि चेचक, पोलियो, इबोला, सार्स और टीबी जैसे गंभीर रोगों का निदान एलोपैथी ने ही दिया है। आज कोरोना के खिलाफ वैक्सीन एक अहम हथियार साबित हो रही है। यह भी एलोपैथी की ही देन है।

हर्षवर्धन ने लिखा- आपने अपने स्पष्टीकरण में सिर्फ ये कहा है कि आपकी मंशा मॉडर्न साइंस और अच्छे डॉक्टरों के खिलाफ नहीं है। मैं आपके द्वारा दिए गए स्पष्टीकरण को पर्याप्त नहीं मानता। आशा है, आप इस विषय पर गंभीरतापूर्वक विचार करते हुए और विश्व भर के कोरोना योद्धाओं का सम्मान करते हुए अपना आपत्तिजनक और दुर्भाग्यपूर्ण वक्तव्य पूरी तरह से वापस लेंगे।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
Corona से राहत की खबर, 24 घंटे में नए संक्रमितों की संख्या घटकर हुई 15 हजार 981, मौतें भी घटी
Corona से राहत की खबर, 24 घंटे में नए संक्रमितों की संख्या घटकर हुई 15 हजार 981, मौतें भी घटी