फडणवीस की ही जल्द बनेगी सरकार - Naya India
समाचार मुख्य| नया इंडिया|

फडणवीस की ही जल्द बनेगी सरकार

मुंबई। भाजपा के वरिष्ठ नेता चंद्रकांत पाटिल ने मंगलवार को कहा कि महाराष्ट्र में मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडणवीस के नेतृत्व में नई सरकार का गठन ‘बहुत जल्द’ होगा। राज्य भाजपा कोर टीम की बैठक के बाद पाटिल ने पत्रकारों से कहा कि महाराष्ट्र की जनता ने भाजपा-शिवसेना महायुति (गठबंधन) को अगली सरकार बनाने के लिए जनादेश दिया है। उन्होंने कहा,शिवसेना ने अभी तक हमें कोई प्रस्ताव नहीं दिया है लेकिन भाजपा के दरवाजे उनके लिए चौबीसो घंटे खुले हैं।

उन्होंने कहा, हमें कोई संदेह नहीं है कि फडणवीस के नेतृत्व वाली सरकार जल्द ही बनेगी। दूसरी ओर, शिवसेना सांसद संजय राउत ने कहा कि अगर भाजपा महाराष्ट्र में मुख्यमंत्री पद ढाई-ढाई साल के लिये साझा करने के बारे में सोच रही है तो यह समझदारी वाली बात है। राउत ने कहा कि हम भाजपा से (मुख्यमंत्री पद साझा करने को लेकर) लिखित आश्वासन चाहते हैं क्योंकि हमारा पहले दिन से यही रुख रहा है।  हाल ही में शिवसेना में शामिल हुए किशोर तिवारी ने कहा है कि आरएसएस के प्रमुख मोहन भागवत को केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी को भाजपा और शिवसेना के बीच चल रहे सत्ता संघर्ष को सुलझाने की जिम्मेदारी सौंपनी चाहिए।

भागवत को लिखे पत्र में तिवारी ने कहा कि आरएसएस प्रमुख को इस स्थिति का गंभीरता से संज्ञान लेना चाहिए और महाराष्ट्र में सरकार गठन में गतिरोध दूर करने के लिए हस्तक्षेप करना चाहिए। तिवारी ने भागवत को उनके द्वारा लिखे गये पत्र के बारे में पूछे जाने पर कहा, गडकरी दो घंटे के अंदर इस स्थिति का समाधान करने में कामयाब होंगे।

भाजपा से शिवसेना नाता तोड़े-एनसीपी

राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी ने मंगलवार को कहा कि अगर शिवसेना यह घोषणा कर दे कि उसने भाजपा के साथ अपना संबंध तोड़ दिया है तो महाराष्ट्र में एक राजनीतिक विकल्प बनाया जा सकता है। राकांपा सूत्रों ने बताया कि पार्टी चाहती है कि केंद्र सरकार में शिवसेना के इकलौते मंत्री अरविंद सावंत भी इस्तीफा दे दें। महाराष्ट्र में विधानसभा चुनाव के बाद सत्ता के बंटवारे को लेकर शिवसेना और उसके सहयोगी दल भाजपा के बीच गतिरोध बना हुआ है।

राकांपा के मुख्य प्रवक्ता नवाब मलिक ने यहां कहा कि इससे बढ़िया कुछ नहीं हो सकता अगर भाजपा शिवसेना को मुख्यमंत्री पद दे देती है लेकिन अगर भाजपा इनकार कर रही है तो एक विकल्प दिया जा सकता है। लेकिन शिवसेना को यह एलान करना होगा कि उसका भाजपा और राजग से अब कोई नाता नहीं है। इसके बाद विकल्प मुहैया कराया जा सकता है।

राकांपा सूत्रों ने यह भी कहा कि मंगलवार सुबह शिवसेना नेतृत्व को कहा गया है कि केंद्र सरकार में शिवसेना के इकलौते मंत्री सावंत को इस्तीफा दे देना चाहिए। इसके बाद सरकार गठन के लिए नये राजनीतिक गठबंधन की संभावना को तलाशा जा सकता है। सूत्रों ने कहा कि सावंत को सरकार से इस्तीफा दे देना चाहिए। इसके बाद ही राकांपा अपने पत्ते खोलेगी। महाराष्ट्र में 24 अक्टूबर को चुनाव नतीजों की घोषणा के बाद से किसी भी पार्टी या गठबंधन ने सरकार बनाने का अब तक दावा पेश नहीं किया है।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

});