बेंगलुरू में धारा 144, दंगाइयों पर मुकदमा दर्ज

बेंगलुरू। कर्नाटक की राजधानी बेंगलुरू में हुई हिंसा के मामले में पुलिस ने गुरुवार को मुकदमा दर्ज किया। इसमें नवाज, नासिर, एजाज और दो सौ अज्ञात लोगों को आरोपी बनाया गया है। साथ ही कर्नाटक सरकार ने तय किया है कि वह दंगाइयों की पहचान कर सार्वजनिक संपत्ति को हुए नुकसान की वसूली करेगी। इस बीच गुरुवार को बेंगलुरू के हिंसा प्रभावित क्षेत्रों में केंद्रीय सुरक्षा बलों ने फ्लैग मार्च किया। कर्नाटक के गृह मंत्री बसवराज भोमई ने एक मुस्लिम राजनीतिक दल एसडीपीआई को हिंसा के लिए ज़िम्मेदार ठहराया है।

दंगे से प्रभावित इलाकों में गुरुवार को भी कर्फ्यू जारी रहा। साथ ही एहतियात के तौर पर पूरे बेंगलुरु शहर में 15 अगस्त तक धारा 144 लगा दी गई है। बहरहाल, पुलिस की एफआईआर में कुछ आरोपी नामजद किए गए है तो साथ ही दो सौ अज्ञात लोगों के खिलाफ भी एफआईआर दर्ज की गई है। डीजे हल्ली के सब इंस्पेक्टर राघवेंद्र की शिकायत पर मुकदमा दर्ज किया गया है। एफआईआर में नवाज, नासिर, एजाज और दो सौ अज्ञात लोगों का नाम हैं।

डीजे हल्ली के सब इंस्पेक्टर की एफआईआर में लिखा गया है कि फेसबुक पर आपत्तिजनक टिप्पणी करने वाले नवीन के खिलाफ एफआईआर करने के लिए फिरोज पाशा नाम का एक युवक 11 अगस्त की शाम पौने आठ बजे पुलिस स्टेशन आया थे। उसकी शिकायत पर 295ए के तहत केस दर्ज कर लिया गया। सब इंस्पेक्टर ने कहा- मैं नवीन की तलाश में आठ बजे तक उसके घर पहुंच गया था। मुझे देखकर आरोपी घर से फरार हो गया, मेरे बाहर आने तक इलाके में दूसरे पक्ष के सैकड़ों लोग जमा हो गए। उनके हाथ में धारदार हथियार थे, तलवारें थी, डंडे थे। एफआईआर में कहा गया है कि इन लोगों ने नवीन के घर में तोड़फोड़ की और घर के एक हिस्से में आग लगा दी। एफआईआर में सब इंस्पेक्टर ने कहा है- नवाज, नासिर और एजाज के साथ कई लोगों ने हिंसा की, मैंने रोकने की कोशिश की तो मुझे धक्का दे दिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Shares