जरूरी दो बच्चों का कानून: भागवत

मुरादाबाद। राष्ट्रीय स्वंयसेवक संघ के प्रमुख मोहन भागवत ने जनसंख्या नियंत्रण कानून की जरूरत बताई है। उन्होंने कहा है कि आरएसएस का अगला एजेंडा जनसंख्या नियंत्रण कानून को लेकर देश भर में आंदोलन करने का है। उन्होंने कहा कि संघ हमेशा से दो बच्चों के समर्थन में रहे हैं। हालांकि, इस बारे में कानून बनाने का अंतिम फैसला केंद्र सरकार को करना है। उन्होंने यह भी कहा कि सरकार कानून बनाए तो संघ उसका समर्थन करेगा।

संघ के एजेंडे को लेकर मुरादाबाद में पांच दिन एक कार्यक्रम चल रहा है, जिसमें भागवत ने गुरुवार को यह बात कही। उन्होंने कहा- सरकार को ऐसे कदम उठाने चाहिए, जिससे जनसंख्या पर लगाम लग सके। संघ प्रमुख ने संशोधित नागरिकता कानून का भी समर्थन किया। देश भर में नागरिकता संशोधन कानून पर जारी प्रदर्शन पर उन्होंने कहा- यह देश के हित में है, मगर कुछ लोग इसे लेकर विरोध कर रहे थे। उन्होंने कहा- अनुच्छेद 370 हटाने के बाद देश भर में उत्साह और आत्मविश्वास का माहौल था। इसके बाद नागरिकता कानून आया और फिर प्रदर्शन शुरू हो गए। जिन लोगों को इसे लेकर थोड़ा भी संशय है तो उन्हें इसकी हकीकत के बारे में बताया जाना चाहिए। उन्होंने दो टूक अंदाज में कहा- इस मामले में कदम पीछे लेने का सवाल ही नहीं उठता।

अयोध्या राम जन्मभूमि विवाद मामले में सुप्रीम कोर्ट का आदेश आने के बाद संघ की भूमिका पर भागवत ने कहा- मंदिर निर्माण के लिए बनने वाले ट्रस्ट के गठन के बाद संघ का काम खत्म हो जाएगा। इसके बाद संघ राम मंदिर मामले से अलग हो जाएगा। काशी-मथुरा कभी भी संघ के एजेंडे में नहीं रहे और न भविष्य में होंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Shares