रैलियों में भीड़ देखकर बोले दुष्यंत “अब चंडीगढ़ दूर नहीं” - Naya India
समाचार मुख्य| नया इंडिया|

रैलियों में भीड़ देखकर बोले दुष्यंत “अब चंडीगढ़ दूर नहीं”

जींद । जननायक जनता पार्टी (जजपा) के वरिष्ठ नेता एवं पूर्व सांसद दुष्यंत चौटाला ने आज छह रैलियों को संबोधित किया और रैलियों में जुटी भीड़ को देखकर वो बोले अब चंडीगढ़ दूर नहीं । दुष्यंत चौटाला सीएम मनोहर लाल के गृह जिले करनाल में इंद्री व घरौंडा हलके में दहाड़े तो वहीं खरखौदा, पानीपत ग्रामीण, पिहोवा और थानेसर विधानसभा क्षेत्र में भी विशाल रैलियों को संबोधित करते हुए जेजेपी प्रत्याशियों के लिए जनता से वोट की अपील की।उन्होंने कहा कि 21 अक्टूबर को जनता प्रदेश में बदलाव लाते हुए जजपा के चुनाव चिन्ह चाबी का बटन दबाकर सत्ता के अहंकार में डूबी भाजपा को सबक सिखाएगी।

उन्होंने कहा कि जननायक जनता पार्टी जमीन से जुड़े हुए लोगों की पार्टी है। प्रदेश में बेरोजगारी कैसे कम होगी, इसके लिए पार्टी के पास विजन भी है और इसे धरातल पर उतानने के लिए मास्टर प्लान भी है। जजपा की सरकार बनने पर सरकारी नौकरी के लिए आवेदन के लिए कोई फीस नहीं ली जाएगी। फीस के नाम पर बेरोजगारों की जेब पर आर्थिक बोझ डालना न्यायसंगत नहीं है।

चौटाला ने कहा कि नौकरी के लिए परीक्षाओं के आयोजन भी अपने ही गृह जिले में होगा तथा पूर्ण रूप से पारदर्शिता बरती जाएगी। उन्होंने कहा कि हर शहर कस्बे में रोजगार मेले लगाए जाएंगे और इन रोजगार मेलों में युवकों की योग्यता के अनुसार रोजगार प्रदान किए जाएंगे। दिल्ली, गुरुग्राम जैसे बड़े शहरों में युवाओं के लिए छात्रावास खोले जाएंगे। वहीं ग्रामीण क्षेत्र के युवाओं के लिए सरकारी नौकरियों में 10 प्रतिशत अतिरिक्त अंक प्रदान किए जाएंगे।

सीएम सिटी करनाल में दहाड़ते हुए दुष्यंत चौटाला ने कहा कि अब झूठे व अहंकारियों से निपटाने का समय है। युवाओं के रोजगार के मुद्दे पर बोलते हुए दुष्यंत चौटाला ने कहा कि मुख्यमंत्री बाहरी व्यक्ति की नियुक्तियों को लेकर कम से कम जनता के सामने सफेद झूठ न बोले। उन्होंने कहा कि ओएसडी से लेकर सरकारी नौकरियों में एसडीओ तक, विश्वविद्यालय के कुलपति के पदों से लेकर चपरासी तक हरियाणा से बाहर के लोगों की नियुक्ति कर दी है।

वहीं दुष्यंत चौटाला ने कहा कि भाजपा सरकार ने नौकरियों में पारदर्शिता के नाम पर बेरोजगार युवकों को धोखा दिया है। उन्होंने कहा कि भाजपा ने हरियाणा प्रदेश के विभिन्न विभागों में ठेकेदारी प्रथा के लिए 20 कंपनियों की अनुशंसा की थी और इस सीएम ने इसकी मंजूरी प्रदान की थी।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ट्रेंडिंग खबरें arrow