शिवसेना एनडीए से हुई बाहर, केंद्रीय मंत्री सावंत का इस्तीफा

मुंबई। शिवसेना—बीजेपी में दरार और बढ़ गई है। शिवसेना से केंद्रीय मंत्रिमंडल में शामिल अरविंद सावंत ने मंत्री पद से इस्तीफे का ऐलान कर दिया है। सावंत ने ट्वीट कर अपने फैसले की जानकारी दी।

गौरतलब है कि महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी ने भाजपा से सरकार बनाने के बारे में उसकी मंशा पूछी थी। भाजपा ने राज्यपाल को बता दिया है कि वह सरकार नहीं बनाएगी। भाजपा के इस कदम के बाद महाराष्ट्र में गैर भाजपा सरकार की संभावना पैदा हो गई है। अब राज्य की दूसरी सबसे बड़ी पार्टी शिव सेना के लिए मौका है। शरद पवार की एनसीपी और कांग्रेस पार्टी की भी अब सरकार गठन में भूमिका हो सकती है।
बहरहाल, रविवार को भारतीय जनता पार्टी की एक अहम बैठक हुई, जिसके बाद पूर्व मुख्यमंत्री और भाजपा विधायक दल के नेता देवेंद्र फड़नवीस राजभवन पहुंचे और राज्यपाल को सरकार बनाने के बारे में अपनी असमर्थता के बारे में सूचित किया। महाराष्ट्र भाजपा के अध्यक्ष चंद्रकांत पाटिल ने प्रेस कांफ्रेंस कर शिव सेना पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि शिव सेना ने महाराष्ट्र के लोगों द्वारा दिए गए जनादेश का अपमान किया है।
चंद्रकांत पाटिल ने कहा- विधानसभा चुनावों में भाजपा ने शिव सेना व दूसरी पार्टियों के साथ मिलकर महायुति बनाई थी। जनता ने महायुति को जनादेश देकर सरकार चलाने की जिम्मेदारी दी लेकिन शिव सेना ने जनादेश का अनादर किया है। लिहाजा हम राज्यपाल को जानकारी देने के लिए आए हैं कि हम सरकार नहीं बनाएंगे। उन्होंने कहा- राज्यपाल ने हमे सरकार बनाने का आमंत्रण भेजा था लेकिन बहुमत की संख्या नहीं होने की वजह से हम सरकार नहीं बनाएंगे। गौरतलब है कि महाराष्ट्र विधानसभा चुनावों में भाजपा को 105 सीटें मिली थीं वहीं शिव सेना 56 सीटें जीत कर दूसरे नंबर की पार्टी बनी थी। महाराष्ट्र में भाजपा-शिव सेना गठबंधन को स्पष्ट बहुमत मिला था लेकिन नतीजों के बाद शिव सेना मुख्यमंत्री पद के बंटवारे पर अड़ गई, जिससे दोनों पार्टियों में झगड़ा शुरू हो गया। इस वजह से राज्य सरकार के गठन का मामला अधर में लटक गया। राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी की तरफ से सबसे बड़े दल भाजपा को शनिवार को सरकार बनाने का न्योता दिया गया था, जिसके जवाब में भाजपा ने सरकार बनाने पर अपनी असमर्थता जता दी है। लिहाजा अब राज्यपाल दूसरे सबसे बड़े दल को सरकार बनाने का आमंत्रण देंगे या सरकार बनाने की संभावना तलाशेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Shares