स्वदेशी उत्पादों पर गर्व करने की सलाह - Naya India
समाचार मुख्य| नया इंडिया|

स्वदेशी उत्पादों पर गर्व करने की सलाह

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आकाशवाणी से प्रसारित साल के दूसरे मन की बात कार्यक्रम में आत्मनिर्भर भारत अभियान के बारे में बात की। उन्होंने आत्मनिर्भर भारत के बारे में अपने मंत्र साझा करते हुए लोगों से कहा कि उन्हें अपने देश में बनी वस्तुओं पर गर्व करना सीखना होगा। उन्होंने देश में बने उत्पादों पर गर्व करने को भारत की आत्मनिर्भरता की पहली शर्त करार देते हुए रविवार को कहा कि जब हर देशवासी ऐसा करेगा तो आत्मनिर्भर भारत अभियान सिर्फ एक आर्थिक अभियान न रह कर राष्ट्रीय भावना बन जाएगा।

प्रधानमंत्री ने विज्ञान को प्रयोगशाला से खेती किसानी की ओर आगे बढ़ाने की अपील करते हुए कहा कि इसे सिर्फ भौतिकी और रसायन तक सीमित नहीं किया जा सकता। उन्होंने कहा कि विज्ञान की शक्ति का आत्मनिर्भर भारत अभियान में भी बहुत योगदान है। प्रधानमंत्री ने अपने संबोधन में इस बात पर खुशी जताई कि आत्मनिर्भर भारत का मंत्र देश के गांव-गांव में पहुंच रहा  है।

मोदी ने कहा- जब आसमान में अपने देश में बने तेजस लड़ाकू विमानों को कलाबाजियां करते देखते हैं, जब भारत में बने टैंक, भारत में बनी मिसाइलें, हमारा गौरव बढ़ाते हैं, जब समृद्ध देशों में हम भारत में निर्मित मेट्रो ट्रेन के डिब्बे देखते हैं और जब दर्जनों देशों तक भारत में बने कोरोना के टीके पहुंचते देखते हैं तो देशवासियों का माथा और ऊंचा हो जाता है।

उन्होंने कहा- ऐसा नहीं है कि बड़ी-बड़ी चीजें ही भारत को आत्मनिर्भर बनाएंगी। भारत में बने कपड़े, भारत के प्रतिभाशाली कारीगरों द्वारा बनाए गए हस्तकला के सामान, भारत के इलेक्ट्रॉनिक उपकरण, भारत के मोबाइल, हर क्षेत्र में, हमें, इस गौरव को बढ़ाना होगा। प्रधानमंत्री ने कहा कि जब इसी सोच के साथ देश आगे बढ़ेगा तभी सही मायने में भारत आत्मनिर्भर बन पाएगा। उन्होंने कहा- मुझे खुशी है कि आत्मनिर्भर भारत का ये मंत्र देश के गांव-गांव में पहुंच रहा है। देश में आत्मनिर्भर अभियान को गांवों में मिल रहे समर्थन के कुछ उदाहरण देते हुए प्रधानमंत्री ने कहा- आत्मनिर्भर भारत अभियान एक भाव बन चुका है, जो आम जनों के दिलों में प्रवाहित हो रहा है।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

});