विपक्षी बैठक में केंद्र पर हमला - Naya India
समाचार मुख्य| नया इंडिया|

विपक्षी बैठक में केंद्र पर हमला

नई दिल्ली। कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने शुक्रवार को विपक्षी पार्टियों के नेताओं के साथ वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए बैठक की। उन्होंने इस बैठक में केंद्र सरकार पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार ने खुद के लोकतांत्रिक होने का दिखावा करना भी छोड़ दिया है और इसके मन में गरीबों व मजदूरों के मन में किसी भी तरह की दया और करुणा का भाव नहीं है। सोनिया ने यह भी कहा कि सरकार की ओर से घोषित किए गए आर्थिक पैकेज में सुधारों के नाम पर केवल दिखावा ही किया गया है।

विपक्षी पार्टियों की बैठक में कोरोना वायरस संकट और खास कर मजदूरों के बारे में चर्चा हुई। कोविड-19 महामारी से निपटने में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उनकी सरकार के काम करने तरीके की आलोचना करते हुए कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा- सारी शक्ति अब एक कार्यालय, पीएमओ में केंद्रित हैं। उन्‍होंने कहा- संघवाद की भावना हमारे संविधान का अभिन्न अंग है लेकिन इसे भुला दिया गया है। इस बात के कोई संकेत नहीं है कि संसद के दोनों सदनों या स्थायी समितियों को कब मिलने के लिए बुलाया जाएगा।

सोनिया की बुलाई इस बैठक में पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी और महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे शामिल हुए लेकिन मायावती की बहुजन समाज पार्टी, समाजवादी पार्टी के प्रमुख अखिलेश यादव और आम आदमी पार्टी के अरविंद केजरीवाल ने इसमें हिस्सा नहीं लिया। बैठक में सोनिया गांधी ने आर्थिक पैकेज को देश के साथ क्रूर मजाक बताया।  इस दौरान सोनिया गांधी ने सरकार की कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ने की रणनीति पर निशाना साधा और कहा कि लगातार लॉकडाउन ने बहुत अधिक सकारात्‍मक नतीजे नहीं दिए।

कांग्रेस अध्‍यक्ष ने कहा- कोरोना वायरस के खिलाफ युद्ध को 21 दिनों में जीतने की प्रधानमंत्री की शुरुआती आशा सही साबित नहीं हुई। ऐसा लगता है कि वायरस दवा बनने तक मौजूद रहने वाला है। मेरा मानना है कि सरकार लॉकडाउन के मापदंडों को लेकर निश्चित नहीं थी। उसके पास इससे बाहर निकलने की कोई रणनीति भी नहीं है।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *