मोदी ने राष्ट्र को संबोधित किया

नई दिल्ली। अयोध्या में राम जन्मभूमि और बाबरी मस्जिद भूमि विवाद में आए सुप्रीम कोर्ट के फैसले का स्वागत करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इसे ऐतिहासिक फैसला बताया। उन्होंने कहा कि इससे दुनिया के भारत के जीवंत लोकतंत्र का पता चला है। उन्होंने शनिवार को राष्ट्र के नाम संबोधन में कहा- दशकों तक चली न्याय प्रक्रिया खत्म आज हुई। इससे दुनिया को हमारे जीवंत लोकतंत्र के बारे में पता चलता है। अयोध्या के फैसले को पूरे देश ने खुले दिल से स्वीकार किया है। यह हमारी विविधता में एकता दिखाती है।

इससे पहले मोदी ने ट्विट कर कहा था कि इस फैसले को किसी की हार या जीत के लिहाज से न देखा जाए। उन्होंने ट्विट किया खा- न्याय के मंदिर ने दशकों साल पुराने विवाद को सुलझा दिया है। सभी नागरिकों को राष्ट्र भक्ति की भावना को बनाए रखने पर बल देना चाहिए। बाद में राष्ट्र के नाम संबोधन में मोदी ने कहा- सुप्रीम कोर्ट ने एक ऐसे महत्वपूर्ण मामले पर फैसला सुनाया है, जिसके पीछे सैकड़ों वर्षों का दीर्घकालीन इतिहास है। पूरे देश की यह इच्छा थी कि इस मामले की अदालत में हर रोज सुनवाई हो। यह हुआ और आज निर्णय आ चुका है।

मोदी ने कहा- दशकों तक चली न्याय प्रक्रिया और उस पूरी प्रक्रिया का अब समापन हुआ है। पूरी दुनिया यह तो मानती है कि भारत दुनिया का सबसे बड़ा लोकतांत्रिक देश है। आज दुनिया ने यह भी जान लिया है कि भारत का लोकतंत्र कितना जीवंत है और कितना मजबूत है। फैसला आने के बाद जिस तरह हर वर्ग, समुदाय, पंथ और पूरे देश ने खुले दिल से स्वीकार किया है। वह भारत की पुरातन संस्कृति और सद्भाव की भावना का प्रतिनिधित्व करता है। विविधता में एकता, आज यह मंत्र अपनी पूर्णता के साथ खिला हुआ नजर आता है। इस पर गर्व होता है।

मोदी ने कहा- न्यायपालिका के लिए भी यह ऐतिहासिक दिन है। सुप्रीम कोर्ट ने सभी को बहुत धैर्य से सुना। पूरे देश के लिए खुशी की बात है कि फैसला सर्वसम्मति से आया। एक नागरिक के नाते हम सब जानते हैं कि परिवार में भी छोटा मसला सुलझाना हो तो कितनी दिक्कत आती है। सुप्रीम कोर्ट ने इस फैसले के पीछे दृढ़ इच्छाशक्ति के दर्शन कराए। इसके लिए देश के न्यायाधीश, न्यायालय और न्यायिक प्रणाली विशेष अभिनंदन के लाया हैं।

यह खबर भी पढ़े:- कोर्ट के फैसले को हार-जीत के तौर पर न देखें: मोदी

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Shares