nayaindia गरीबों को चार हजार रुपए देगी स्टालिन सरकार - Naya India
सर्वजन पेंशन योजना
देश | समाचार मुख्य| नया इंडिया|

गरीबों को चार हजार रुपए देगी स्टालिन सरकार

चेन्नई। विधानसभा चुनाव में शानदार जीत हासिल करने वाले डीएमके नेता एमके स्टालिन ने शुक्रवार को मुख्यमंत्री पद की शपथ ली। उनके साथ 33 मंत्रियों को भी पद और गोपनीयता की शपथ दिलाई गई। मुख्यमंत्री बनने के बाद स्टालिन ने कार्यभार संभालते ही पहले आदेश में गरीबों को चार हजार रुपए देने की घोषणा की। उन्होंने हर परिवार के लिए दो हजार रुपए की पहली किस्त तत्काल जारी करने के आदेश पर दस्तखत कर दिए। पहले आदेश में सरकार ने कोरोना वायरस के इलाज को सरकारी बीमा योजना के तहत लाने की भी घोषणा की ताकि लोगों को तत्काल राहत मिल सके।

कोविड-19 महामारी से राहत के लिए आर्थिक पैकेज की घोषणा के साथ साथ स्टालिन सरकार ने पहले दिन आविन दूध के दाम में कटौती और सरकारी परिवहन बसों में महिलाओं के लिए मुफ्त यात्रा की घोषणा भी कर दी। उनकी पार्टी डीएमके ने विधानसभा चुनाव में इन सबका वादा किया था। मुख्यमंत्री के तौर पर कार्यभार संभालने के बाद पहला आदेश जारी करते हुए स्टालिन ने निजी अस्पतालों में कोराना वायरस के इलाज को सरकारी बीमा योजना के दायरे में लाने की भी घोषणा की ताकि ऐसे लोगों को राहत मिल सके।

सरकार की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि गरीब परिवारों को नकद पैसे देने की योजना लागू करने के लिए मुख्यमंत्री ने मई में दो हजार रुपए की पहली किस्त के तौर पर 4,153.69 करोड़ रुपए की धनराशि मुहैया कराने के आदेश पर दस्तखत किए हैं, जिससे दो करोड़ सात लाख 67 हजार राशन कार्ड धारकों को लाभ मिलेगा। उन्होंने एक और आदेश पर दस्तखत करते हुए राज्य द्वारा संचालित आविन दूध के दाम में तीन रुपए तक की कटौती की। यह आदेश 16 मई से प्रभावी होगा।

एक अन्य चुनावी वादे को पूरा करते हुए कहा गया है कि महिलाएं शनिवार से राज्य परिवहन निगम द्वारा संचालित सभी बसों में मुफ्त यात्रा कर सकती हैं और सरकार ने इसके लिए सब्सिडी के तौर पर 12 सौ करोड़ रुपए आवंटित किए हैं।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

19 − 15 =

सर्वजन पेंशन योजना
सर्वजन पेंशन योजना
ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
भागने में इस्तेमाल की गई बाइक जब्त, अमृतपाल अभी भी फरार
भागने में इस्तेमाल की गई बाइक जब्त, अमृतपाल अभी भी फरार