nayaindia फर्जी टीवी रेटिंग की जांच करेगी सीबीआई - Naya India
समाचार मुख्य| नया इंडिया|

फर्जी टीवी रेटिंग की जांच करेगी सीबीआई

नई दिल्ली। न्यूज चैनलों की रेटिंग बढ़ाने के लिए होने वाले फर्जीवाड़े की जांच अब सीबीआई करेगी। उत्तर प्रदेश में इस सिलसिले में एक मामला दर्ज होने के बाद राज्य सरकार ने इस मामले की जांच सीबीआई को सौंप दी है। वैसे इस मामले का खुलासा मुंबई में हुआ था और मुंबई पुलिस इस मामले की जांच कर रही है पर हैरान करने वाली बात यह है कि उत्तर प्रदेश में एक मामला दर्ज हुआ और आनन-फानन में राज्य सरकार ने सीबीआई जांच की सिफारिश की और सीबीआई ने मामला दर्ज भी कर लिया।

सीबीआई ने केस दर्ज करने के लिए उत्तर प्रदेश में दर्ज शिकायत को आधार बनाया है। अधिकारियों ने बताया कि रेटिंग में हेराफेरी के आरोपों पर एफआईआर दर्ज किए जाने के बाद सीबीआई ने लखनऊ पुलिस से जांच का जिम्मा अपने हाथ में लिया है। गौरतलब है कि मुंबई पुलिस भी इस मामले की जांच कर रही है और उसने रिपब्ल‍िक टीवी सहित तीन चैनलों को आरोपी बनाया है।

रिपब्ल‍िक टीवी ने सीबीआई जांच की मांग की है और मुंबई पुलिस पर आरोप लगाया है कि सुशांत सिंह राजपूत मामले को लेकर सवाल उठाने की वजह से वह उसके खिलाफ बदले की कार्रवाई कर रही है। इस बीच मंगलवार को भाजपा प्रशासित उत्तर प्रदेश में एक शिकायत दर्ज होने के बाद योगी आदित्यनाथ सरकार ने सीबीआई जांच की सिफारिश कर दी। सीबीआई को हाथरस मामले में सिफारिश मिलने के बाद एफआईआर दर्ज करने में एक हफ्ते लग गए लेकिन इस मामले में एक ही दिन में जांच शुरू हो गई।

गौरतलब है कि इस महीने की शुरुआत में मुंबई पुलिस ने कहा था कि न्यूज ट्रेंड्स के विश्लेषण के बाद एक रेटिंग घोटाला उभर कर सामने आया है कि कैसे गलत कहानी फैलाई गई, विशेष कर अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की मौत के मामले में। मुंबई के पुलिस प्रमुख परमबीर सिंह ने कहा था कि घरों में रेटिंग मीटर लगाने वाली एजेंसी हंसा के पूर्व कर्मचारियों ने तीन चैनलों के साथ खुफिया आंकड़े साझा किए, जिनके खिलाफ जांच की जा रही है। हंसा के आंकड़ों का इस्तेमाल  ब्रॉडकास्ट ऑडिएंस रिसर्च कौंसिल, बार्क द्वारा किया जाता है जो देश भर के चैनलों की साप्ताहिक रेटिंग जारी करता है।

Leave a comment

Your email address will not be published.

three × 1 =

ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
इनामी नक्सलियों का पुलिस के आगे समर्पण
इनामी नक्सलियों का पुलिस के आगे समर्पण