ट्विटर इंडिया के एमडी को राहत - Naya India Twitter India Managing Director
ताजा पोस्ट | समाचार मुख्य| नया इंडिया| %%title%% %%page%% %%sep%% %%sitename%% Twitter India Managing Director

ट्विटर इंडिया के एमडी को राहत

twitter india Managing Director

बेंगलुरू। ट्विटर इंडिया के प्रबंधन निदेशक ( Twitter India Managing Director ) को कर्नाटक हाई कोर्ट से बड़ी राहत मिली है। एक मुस्लिम व्यक्ति से जुड़े मामले में गाजियाबाद में दर्ज पुलिस केस में हाई कोर्ट ने ट्विटर इंडिया के प्रबंध निदेशक मनीष माहेश्वरी के खिलाफ किसी तरह की कठोर कार्रवाई करने पर रोक लगा दी है और यह भी कहा कि पुलिस उनसे वर्चुअल पूछताछ कर सकती है। ट्विटर इंडिया के एमडी ने याचिका में कहा था कि पुलिस ने उनको गवाह से आरोपी बना दिया है इसलिए उनको अंदेशा है कि उन्हें गिरफ्तार किया जा सकता है।

गौरतलब है कि उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद में मुस्लिम बुजुर्ग के साथ मारपीट और दाढ़ी काटने के वायरल वीडियो मामले में ट्विटर इंडिया के प्रबंधन निदेशक ( Twitter India Managing Director ) को गुरुवार को गाजियाबाद के लोनी बॉर्डर थाने में हाजिर होना था। अब इस मामले की आगे की सुनवाई 29 जून को होगी, तब तक पुलिस उनको गिरफ्तार नहीं कर सकेगी। अदालत ने कहा कि पुलिस चाहे तो वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए पूछताछ कर सकती है।

Vasundhara के समर्थक पूर्व मंत्री Rohitash Sharma को नोटिस, बोले- राजे मेरी नेता, नहीं निकाल सकते हैं पार्टी से

उससे पहले उन्होंने कर्नाटक हाई कोर्ट में अग्रिम जमानत की अर्जी पेश की थी। अदालत ने इसी अर्जी पर उन्हें अंतरिम राहत दी है। हाई कोर्ट ने धारा 41ए सीआरपीसी के तहत गाजियाबाद पुलिस की ओर से जारी नोटिस के खिलाफ ट्विटर के एमडी मनीष माहेश्वरी की याचिका पर सुनवाई की। माहेश्वरी के वकील ने कर्नाटक हाई कोर्ट कहा कि सुप्रीम कोर्ट और हाई कोर्ट ने कहा है कि वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए बयान दर्ज किया जा सकता है, लेकिन गाजियाबाद पुलिस उनकी व्यक्तिगत उपस्थिति चाहती है।

गौरतलब है कि गाजियाबाद पुलिस ने माहेश्वरी को अपने वकील के साथ थाने में हाजिर होने का निर्देश दिया था। पुलिस उनसे 11 सवालों के जवाब चाहती थी। इनमें सबसे अहम सवाल भ्रामक वीडियो पर आपत्ति के बावजूद उसे नहीं हटाने को लेकर है। गाजियाबाद पुलिस ने 17 जून को ट्विटर इंडिया के एमडी को कानूनी नोटिस भेजा था। पुलिस ने उन्हें सात दिन के अंदर लोनी बॉर्डर पुलिस स्टेशन आकर बयान दर्ज कराने को कहा था। इस पर माहेश्वरी ने कहा था कि वे वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए जांच में जुड़ सकते हैं, लेकिन पुलिस ने उन्हें 24 जून को निजी तौर पर हाजिर होने को कहा था।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *