संसद में प्याज की कीमतों पर हंगामा - Naya India
समाचार मुख्य| नया इंडिया|

संसद में प्याज की कीमतों पर हंगामा

नई दिल्ली। संसद के शीतकालीन सत्र में मंगलवार को दोनों सदनों में विपक्षी पार्टियों ने प्याज की बढ़ती कीमतों को लेकर हंगामा किया। इसके साथ ही अर्थव्यवस्था की खराब स्थिति और बेरोजगारी का मुद्दा भी उठाया गया। कांग्रेस के लोकसभा सांसद गौरव गोगोई ने बाद में ट्विट करके कहा कि सरकार प्याज की कीमतों को लेकर चर्चा नहीं होने दे रही है। वह इसे बाधित करने का प्रयास कर रही है।

कांग्रेस और दूसरी विपक्षी पार्टियों के हंगामे के बीच दूसरी ओर भाजपा ने कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृह मंत्री अमित शाह और वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण पर सोमवार को की गईं टिप्पणियों पर माफी मांगने को कहा। भाजपा सांसद पूनम महाजन ने मंगलवार को कहा- कल सभी सदस्य तेलंगाना में डॉक्टर की हत्या और दुष्कर्म की घटना को लेकर साथ खड़े थे, लेकिन कुछ देर बाद जिनके नाम में धीर है, ऐसे अधीर रंजन जी के धीर का बांध टूट गया। उन्होंने सीतारमण पर टिप्पणी की, बहुत बुरा हुआ।

मंगलवार को प्रश्न काल में बलवंत सिंह राजोआना की फांसी की सजा बदले जाने का मुद्दा भी उठा। इस पर गृह मंत्री अमित शाह ने लोकसभा में कहा- पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री बेअंत सिंह के हत्यारे बलवंत सिंह राजोआना की मौत की सजा बदली नहीं गई है। सांसद इस संबंध में मीडिया में आ रही खबरों पर यकीन न करें। यह मुद्दा बेअंत सिंह के पोते और सांसद रवनीत सिंह बिट्‌टू ने प्रश्न काल में उठाया था। मीडिया में कुछ दिनों से गृह मंत्रालय की ओर से राजोआना की सजा बदलने का निर्देश पंजाब सरकार को भेजे जाने की खबरें आ रही थीं।

सांसदों को राजनाथ ने दी नसीहत

भाजपा के वरिष्ठ नेता और रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने अपनी पार्टी के सांसदों को नसीहत देते हुए कहा कि वे संसद की कार्यवाही में हिस्सा लें। मंगलवार को हुई भाजपा संसदीय दल की बैठक में रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा- प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी संसद सत्र में सांसदों की कम उपस्थिति से संतुष्ट नहीं हैं। सरकार की ओर से बिल पर चर्चा में सभी सदस्य मौजूद रहें। उन्होंने कहा कि भाजपा को विपक्ष पर ज्यादा हमलावर होने की जरूरत है, लेकिन सदन में कांग्रेस की तरह व्यवहार न किया जाए। भाजपा हमेशा दूसरी पार्टियों से अलग नजर आनी चाहिए।

इसे भी पढ़ें :- लोकसभा में पबजी पर प्रतिबंध लगाने की मांग

 

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *