nayaindia नए सिरे से इतिहास लिखना जरूरत - Naya India
समाचार मुख्य| नया इंडिया|

नए सिरे से इतिहास लिखना जरूरत

वाराणसी। भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष और केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने अब तक लिखे गए इतिहास पर सवाल उठाते हुए कहा है कि नए सिरे से देश का इतिहास लिखने की जरूरत है। उन्होंने यह भी आरोप लगाया कि कब तक अंग्रेजों पर दोष लगाया जाएगा। शाह ने कहा कि भारत के नजरिए से इतिहास लिखा जाना चाहिए।

अमित शाह ने कहा- वक्त आ गया है, जब देश के इतिहासकारों को इतिहास नए नजरिए से लिखना चाहिए। उन लोगों के साथ बहस में नहीं पड़ना चाहिए, जिन्होंने पहले इतिहास लिखा है। उन्होंने जो कुछ भी लिखा है, उसे रहने दीजिए। हमें सत्य को खोजना चाहिए और उसे लिखना चाहिए। यह हमारी जिम्मेदारी है कि हम अपना इतिहास लिखें। हम कितने वक्त तक अंग्रेजों पर आरोप लगाते रहेंगे?

गृह मंत्री अमित शाह ने गुरुवार को वाराणसी में एक रैली में कहा कि अगर वीर सावरकर नहीं होते तो 1857 का स्वतंत्रता संग्राम इतिहास में दर्ज नहीं हो पाता। गौरतलब है कि भाजपा ने महाराष्ट्र में अपने घोषणा पत्र में कहा है कि पार्टी सावरकर को भारत रत्न देने की मांग करेगी। इसके बाद कांग्रेस नेताओं ने सावरकर को गांधीजी की हत्या की साजिश रचने वाला बताया था। शाह ने वाराणसी के काशी हिंदू विश्वविद्यालय में इन्हीं बयानों का जवाब दिया। शाह ने कहा- अगर सावरकर नहीं होते तो हम 1857 के स्वतंत्रता संग्राम को अंग्रेजों के नजरिए से देख रहे होते। वीर सावरकर ही वह व्यक्ति थे, जिन्होंने 1857 की क्रांति को पहले स्वतंत्रता संग्राम का नाम दिया था।

Leave a comment

Your email address will not be published.

17 + 1 =

ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
Azam Khan Release : बालों में लाल मेंहदी और चेहरे पर एक जानी-पहचानी मुस्कान, स्वागत के लिए भतीजे के जगह चाचा शिवपाल…
Azam Khan Release : बालों में लाल मेंहदी और चेहरे पर एक जानी-पहचानी मुस्कान, स्वागत के लिए भतीजे के जगह चाचा शिवपाल…