Loading... Please wait...

तीन तलाक: अरबों की अंधी नकल!

तीन तलाक पर सर्वोच्च न्यायालय के फैसले को 3-2 का फैसला माना जा रहा है याने तीन जजों ने तीन तलाक के विरुद्ध और दो ने उसके समर्थन में फैसला दिया है। मुझे ऐसा नहीं लगता। मैं जजों के तर्कों पर नहीं जा रहा हूं। तर्क तो उन्होंने एक-दूसरे के विरुद्ध जरुर दिए हैं। क्यों नहीं देंगे ? वे सब विद्वान हैं। सबका अपना-अपना नजरिया है लेकिन मेरा सवाल है कि सबके तर्कों का कुल नतीजा क्या है ?

कुल नतीजा यह है कि तीन तलाक की कुप्रथा खत्म करो। तीन जजों ने उसे संविधान के विरुद्ध बता कर अदालत में ही मार गिराया और बाकी दो ने कहा कि वे उसे नहीं छुएंगे लेकिन उन्होंने संसद से कहा है कि वह तीन तलाक की चटनी बनाना चाहे तो बना दे। इतना ही नहीं, मुख्य न्यायाधीश जस्टिस जे.एस. खेहर ने अगले छह माह तक तीन तलाक पर रोक लगा दी। क्यों लगा दी ? क्योंकि वह गलत है।

वे अपने मुंह से जो बात नहीं बोलना चाहते हैं, उसका इशारा करते हैं और उसे संसद से बोलवाना चाहते हैं। पता नहीं, अब संसद को तकलीफ करने की जरुरत है या नहीं ? अब तो जरुरी यह है कि 1986 में शाह बानो के मामले में राजीव गांधी ने सर्वोच्च न्यायालय के फैसले के खिलाफ संसद से जो गुनाह करवाया था, उसे धुलवाने का कार्य संसद से ही करवाएं, नरेंद्र मोदी !

मोदी अगर थोड़ी हिम्मत दिखाएं तो राजीव के मंत्री भाई आरिफ मोहम्मद खान के महान त्याग (इस्तीफे) की भरपाई तो होगी ही, तलाकशुदा मुस्लिम औरतों को पर्याप्त गुजारा भत्ता भी मिल सकेगा। इस फैसले का सभी इस्लामी जमातों द्वारा स्वागत किया जाना चाहिए, क्योंकि इसने इस्लाम की इज्जत बढ़ाई है।

जरुरी यह है कि अब या तो हमारी अदालत या संसद बहुपत्नी प्रथा और हलाला जैसी गई-गुजरी कुप्रथाओं को भी खत्म करें। तीन-तलाक जैसे कई अरबी रिवाजों को ज्यादातर मुस्लिम देशों ने त्याग दिया है। इस मामले में पाकिस्तान हमसे भी आगे है। अरबों की अंधी नकल करना इस्लाम नहीं है। यदि भारतीय इस्लाम को दुनिया का सर्वश्रेष्ठ इस्लाम बनाना है तो हमें डेढ़ हजार साल पुराने अरबी देश-काल से ऊपर उठना होगा और कुरान-शरीफ की क्रांतिकारी और बुनियादी आध्यात्मिक मान्यताओं पर जोर देना होगा।

Tags: , , , , , , , , , , , ,

338 Views

  1. भारत का मुसलमान दकियानूसी इसलिए है कि वह यह दिखाना चाहता है कि उनका भारत जूनियर पाकिस्तान है | जब हामिद अंसारी को दिन में नहीं दिखा और कह दिया कि यहाँ का मुस्लमान भयभीत है और शाहरूख, सलमान, और आमिर जिन्होंने हिन्दुओं से अरबों कमाए क्योंकि हिन्दू सेक्युलर है, वे भी चुप रहे | मैं कई वर्षों से कह रहा हूँ कि नेहरू और गांधी हिन्दू विरोधी और कायर नेता थे | पार्टीशन के बाद उन्होंने हिदु हित का ध्यान नहीं रखा |वह दिन दूर नहीं है जब भारत का हिन्दू इनकी प्रतिमाओं को उखाड फेंकेगा |कश्मीर और चीन नेहरू के घमण्ड और कम अकली की देन है |

बताएं अपनी राय!

हिंदी-अंग्रेजी किसी में भी अपना विचार जरूर लिखे- हम हिंदी भाषियों का लिखने-विचारने का स्वभाव छूटता जा रहा है। इसलिए कोशिश करें। आग्रह है फेसबुकट, टिवट पर भी शेयर करें और LIKE करें।

नीचे नजर आ रहे कॉमेंट अपने आप साइट पर लाइव हो रहे है। हमने फिल्टर लगा रखे है ताकि कोई आपत्तिजनक शब्द, कॉमेंट लाइव न हो पाए। यदि ऐसा कोई कॉमेंट- टिप्पणी लाइव हुई और लगी हुई है जिसमें अर्नगल और आपत्तिजनक बात लगती है, गाली या गंदी-अभर्द भाषा है या व्यक्तिगत आक्षेप है तो उस कॉमेंट के साथ लगे ‘ आपत्तिजनक’ लिंक पर क्लिक करें। उसके बाद आपत्ति का कारण चुने और सबमिट करें। हम उस पर कार्रवाई करते उसे जल्द से जल्द हटा देगें। अपनी टिप्पणी खोजने के लिए अपने कीबोर्ड पर एकसाथ crtl और F दबाएं व अपना नाम टाइप करें।

आपका कॉमेट लाइव होते ही इसकी सूचना ईमेल से आपको जाएगी।

आगे यह भी पढ़े

सर्वाधिक पढ़ी जा रही हालिया पोस्ट

भारत ने नहीं हटाई सेना!

सिक्किम सेक्टर में भारत, चीन और भूटान और पढ़ें...

बेटी को लेकर यमुना में कूदा पिता

उत्तर प्रदेश में हमीरपुर शहर के पत्नी और पढ़ें...

पाक सेना प्रमुख करेंगे जाधव पर फैसला!

पाकिस्तान की जेल में बंद भारतीय और पढ़ें...

अबु सलेम को उम्र कैद!

कोई 24 साल पहले मुंबई में हुए और पढ़ें...

© 2016 nayaindia digital pvt.ltd.
Maintained by Netleon Technologies Pvt Ltd