वीपी सिंह, मुफ्ती, फारूक से थी हिंदू ‘एथनिक क्लींजिंग’!

क्या 19 जनवरी 1990 की आधी रात में श्रीनगर की मस्जिदों से अल्लाह हो अकबर, काफिरों इस्लाम अपनाओ, नहीं तो भागो, मरो के नारों व सड़कों पर मुसलमानों ने शोर बनाकर कश्मीरी पंडितों को इकठ्ठा कर भगाया, मारा और घाटी को हिंदुओं से खाली कराया गया उसे कश्मीरी पंडितों का एक्सोडस (घाटी से विदाई), फ्ली (घाटी से भागना) कहेंगे या इतिहास की वह घटना ‘एथनिक क्लींजिंग’

‘एथनिक क्लींजिंग’ का सियासी प्री-प्लान

कश्मीर घाटी ऐसे किरदारों, ऐसे सियासतदानों से कलंकित है, जिसमें कोई कश्मीरियत से भले प्रधानमंत्री बना हो लेकिन कुल मिलाकर वह धोखेबाज प्रमाणित हुआ। जिसे भारत का गृह मंत्री बनने का मौका मिला उसके हाथ भी जन सफाए-संहार याकि ‘एथनिक क्लींजिंग’ के खून से रंगे हुए।

हिंदूओं को भगवाने की भूमिका शेख की!

यदि हिंदू राज में हर शाख पर उल्लू के अंदाज में घाटी हैंडल हुई है तो भला आईएसआई का इस्लामियत रंग क्यों नहीं चढ़ेगा? कश्मीर में एक तरफ शेख अब्दुल्ला की गिरफ्तारी (1953 में) के बाद श्रीनगर में जहां कठपुतली मुख्यमंत्री थे तो दूसरी और कश्मीरी मुसलमानों का दिल-दिमाग जीतने की आईएसआई की जमीनी कोशिशें थीं।

उफ! हर शाख पर उल्लू ….

आजाद भारत का कश्मीर अनुभव इस एक वाक्य में है- भारत राष्ट्र-राज्य, उसके हिंदू नेता डरे और भागते हुए, जबकि कश्मीरी मुसलमान संविधान, धर्मनिरपेक्षता, जम्हूरियत, इंसानियत और कश्मीरियत को अल्लाह हो अकबर के नारे से खारिज करता हुआ

नेहरू को धोखा या शेख को?

कश्मीर अनुभव धोखे और विश्वासघात से तरबतर है। न केवल नेताओं, एजेंसियों, अफसरों ने देश, धर्म और कौम को गुमराह किया व लूटा, बल्कि धोखे में दोस्ती भी कुरबान! हां, पंडित नेहरू और शेख अब्दुल्ला की दोस्ती में विश्वासघात वह वाकया है, जिससे अंततः कश्मीरियत, इंसानियत, धर्मनिरपेक्षता भी कुरबान हुई।

उफ! शेख का हिंदुओं से वह खेला!

कश्मीर मामले को नेहरू-पटेल संभालते थे तो गांधी बोलते हुए थे। वे हर मोड़ पर राय देते थे। तीनों जिन्ना-लियाकत अली की रणनीति को समझ नहीं पाए। जिन्ना ने रियासत के जम्मू क्षेत्र में हिंदू-मुस्लिम हिंसा का ऐसा भंवर बनवाया कि महाराजा, नेहरू, पटेल और गांधी सभी उसी में उलझे।

भोले हिंदू नेता, शेख को बनाया शेर!

 शेख अब्दुल्ला शेर-ए-कश्मीर कहलाए। क्यों? इसका अधिकारिक खुलासा नहीं है। तथ्य है न उनके कारण राजशाही खत्म हुई और न वे और उनके कार्यकर्ता पाकिस्तानी हमलावरों को ललकारने, कबाईलियों को रोकने जैसी बहादुरी की दास्तां लिए हुए हैं।

जम्मू में था रक्तपात न कि घाटी में!

झूठी धारणा है कि 1947 में हिंदू बनाम मुस्लिम का विभाजक सेंटर घाटी थी। या यह मानना कि शेख अब्दुला धुरी थे। उनसे घाटी में शांति रही। ये फालतू बातें हैं। सन् 1946-1948 में जो हुआ वह महाराजा हरिसिंह और जम्मू केंद्रीत था। जम्मू में ही सर्वाधिक रक्तपात हुआ।

नेहरू ही नहीं सभी हिंदू दोषी!

कश्मीर मसले का एक टर्निंग प्वाइंट 1946-48 का वह संक्रमण काल है, जिसमें जवाहरलाल नेहरू सहित भारत के पहले सर्वदलीय कैबिनेट ने गलतियां की तो महाराजा हरि सिंह ने अपने पांवों खुद कुल्हाड़ी मारी।

उफ! ऐसा इतिहास, कैसे क्या?

कश्मीर घाटी का सत्य-4: कश्मीर का पहले आदि सनातनी पुराण जानें। नीलमत पुराण के अनुसार पानी से निकला इलाका यानी घाटी। यह धारणा ज्योलॉजी-भूर्गभविज्ञान में मान्य है। और हां, कश्मीर शब्द संस्कृत से है सो, कश्य+मीर मतलब कश्यप ऋषि का सागर।

सत्य भयावह और झांकें गरेबां!

कश्मीर घाटी का सत्य दो टूक व सपाट है। सोचें, कश्मीर घाटी क्या है? मुश्किल से छह हजार वर्ग मील का सौ किलोमीटर चौड़ा एक इलाका। जबकि नए लद्दाख राज्य का एरिया 23 हजार वर्ग मील और जम्मू डिवीजन का फैलाव कोई 10 हजार वर्ग मील है।

साझा खत्म, हिंदू लुप्त!

अनुच्छेद 370 भले खत्म हो लेकिन सौ किलोमीटर चौड़ी कश्मीर घाटी में न हिंदू हैं और न हिंदू लौटता हुआ है। घाटी बिना हिंदू धड़कन के है।

घाटी: इस्लाम का कलंक नहीं तो क्या?

इस्लाम यदि इंसान व इंसानियत का धर्म है तो क्योंकर कश्मीर घाटी अब बिना हिंदुओं के है? क्या घाटी के मौलानाओं, इमामों, जमायतियों, तबलीगियों और अब्दुला-मुफ्तीयों व आम मुसलमानों ने कभी सोचा कि कश्मीरियत खत्म करके, इस्लामियत बना कर उन्होने घाटी को पृथ्वी का स्वर्ग बनाया है या दोजख?

मलेरकोटलाः एक बेमिसाल मिसाल

पंजाब के मलेरकोटला कस्बे के बारे में ज्ञानी जैलसिंहजी मुझे बताया करते थे कि अब से लगभग 300 साल पहले जब गुरु गोविंदसिंह के दोनों बेटों को दीवार में जिंदा चिनवाया जा रहा था, तब मलेरकोटला के नवाब शेर मोहम्मद खान ने उसका डटकर विरोध किया था और भरे दरबार में उठकर उन्होंने कहा था कि यह कुकर्म इस्लाम और कुरान के खिलाफ है। यह भी पढ़ें: पोस्टरबाजों की हास्यास्पद गिरफ्तारी यह वही मलेरकोटला है, जिसे अब पंजाब की सरकार ने एक अलग जिला घोषित किया है। इसके अलग जिला बनाने का विरोध उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने किया है। उनका तर्क है कि मलेरकोटला का क्षेत्र मुस्लिम-बहुल है। उसे सांप्रदायिक आधार पर पृथक जिला बनाना बिल्कुल गलत है। योगी का तर्क इस दृष्टि से ठीक माना जा सकता है कि यदि सांप्रदायिक आधार पर नए जिले, नए ब्लाक और नए प्रांत बनने लगे तो यह भारत-विभाजन की भावना को दुबारा पनपाना होगा। यह भी पढ़ें: काबुलः पाक आगे, भारत पीछे चले योगी ने यह तर्क इसलिए दिया है कि मलेरकोटला की आबादी एक लाख 35 हजार है। इसमें से 92000 मुस्लिम हैं, 28 हजार हिंदू हैं और 12 हजार सिख हैं। शेष कुछ दूसरे संप्रदायों के लोग हैं।… Continue reading मलेरकोटलाः एक बेमिसाल मिसाल

मध्यप्रदेश में धर्म परिवर्तन बना दंडनीय अपराध, जबरिया शादी और धर्म बदलने पर रोक के लिए आया यह कानून

भोपाल | जोर-जबरदस्ती से धर्म परिवर्तन कराने और धोखा देकर विवाह रचाने की वारदात पर रोक लगाने के लिए मध्य प्रदेश में धार्मिक स्वतंत्रता अधिनियम 2021 लागू किया गया है। गौरतलब है कि राज्य में बीते साल धार्मिक स्वतंत्रता अधिनियम लागू किए जाने का प्रस्ताव कैबिनेट में पारित किया गया था। विधानसभा में भी इस अधिनियम को पारित किया गया था। भाजपा की सत्ता में हुई वापसी के बाद इसकी चर्चा जोरों पर थी। विधानसभा द्वारा पारित अधिनियम राज्यपाल की अनुमति के बाद मध्यप्रदेश के राजपत्र में 27 मार्च 2021 को इस कानून को प्रकाशित कर दिया गया है। मध्यप्रदेश धार्मिक स्वतंत्रता अधिनियम के तहत अब एक धर्म से दूसरे धर्म में परिवर्तन दंडनीय अपराध माना गया है। इसी तरह धर्म परिवर्तन करने के आशय के साथ किया गया विवाह भी अकृत तथा शून्य माना जाएगा। इस संबंध में संपरिवर्तित व्यक्ति खुद के साथ उसके माता—पिता अथवा सहोदर भाई—बहन न्यायालय की अनुमति से याचिका लगा सकेंगे। धर्म परिवर्तन में व्यक्ति ही नहीं बल्कि कोई संस्था या संगठन इस अधिनियम के किसी उपबंध का उल्लंघन करता है, उसे भी सजा होगी। इस अधिनियम के अधीन मामलों की जांच उप निरीक्षक स्तर व उससे उच्च अफसर ही कर सकेंगे। Must Read :… Continue reading मध्यप्रदेश में धर्म परिवर्तन बना दंडनीय अपराध, जबरिया शादी और धर्म बदलने पर रोक के लिए आया यह कानून

और लोड करें