रावण जल्दी नहीं मरता!

राष्ट्रपति पुतिन न हताश होंगे और न हार मान सकते हैं। दुनिया और खास कर पश्चिमी दुनिया यूक्रेन का ध्वंस देख बूझ रही है कि रावण अब समझेगा।

इतिहास लाइव!

इस नाते नोट रखें 24 मार्च 2022 के इतिहास दिन को। ठीक एक महीने पहले किसने सोचा था कि तानाशाह व्लादिमीर पुतिन अपनी राक्षसी ताकत से यूक्रेनियों के घुटने नहीं टिका देंगे?

‘कश्मीर फाइल्स’: मुसलमान पश्चाताप करें, माफी मांगें!

हिंदुओं को श्रीनगर में लौटने के लिए उनके घर लौटाएं, उनकी अलग कॉलोनियां बनवाएं। वे दुनिया को बताएं कि उनकी कथित जन्नत में इस्लाम के सच्चे बंदे रहते हैं न कि जाहिल, काहिल और जंगली! 

हिंदू सोचें, इजराइल के आईने में!

हर हिंदू जरूर फिल्म देखे और सोचे कि कश्मीर घाटी का सत्य हमारे अपने इलहामी जीवन, झूठ में जीने, कायर-भयाकुल-भगोड़े, अल्प-नादान बुद्धि का प्रमाण है या नहीं?

कश्मीर फाइल्स:  हिंदू देखें ताकि सत्य जानें कि वे क्या? मुस्लिम भी देखें व सोचें क्या इस्लाम यही?

हिंदू जहां फिल्म के पहले सीन से आखिरी सीन तक सन्न दिमाग में देखता हुआ तो उधर मुसलमान शायद गुस्से या शर्म में बिलबिलाता और व्यथित।

चुनाव चिन्ह जब्त तब कांग्रेस का क्या?

इसे कल्पना न मानें। नोट रखें नरेंद्र मोदी हैं तो सब मुमकिन है। सोनिया गांधी और राहुल गांधी भले ऐसी कल्पना नहीं करें पर मोदी सरकार के लिए चुटकियों का काम है।

गांधी-नेहरू खूंटा तभी कांग्रेस और विकल्प भी!

मोटा मोटी कांग्रेसी हताश हैं, निराश हैं और अधिकांश राहुल गांधी को नासमझ, निकम्मा, नालायक मान सोच रहे होंगे कि उन्हें कब अक्ल आएगी? कब सोनिया गांधी समझेंगी?

रूस हारेगा!

महाबली रूस हार रहा है। वह यूक्रेन में हारेगा। बीस दिनों में पोल खुल गई है। वह कितना ही विनाश करे, यूक्रेन पर उसका कब्जा नहीं होगा।

तभी तय गृहयुद्ध की दिशा!

शर्मनाक है हिंदुओं की दशा और खौफनाक है दिशा! अपने ही देश में अपने हाथों कई कश्मीर व खालिस्तान की जमीन बनवाते हुए।

महादशा में दीया कैसे जीतेगा?

जो लोग योगी आदित्यनाथ और अरविंद केजरीवाल की आंधी से फूले नहीं समा रहे हैं वे नोट रखें कि इन नतीजों से अहंकार की राजनीति को नए पंख लगे हैं।

झूठ जीतेगा या जीवन सच्चाई?

यों अब भारत में झूठ व सत्य का फर्क खत्म है। भारत में सत्य और झूठ अब ‘इलहाम’ में तय होता है।

महाशक्ति (रूस) का ‘अछूत’ होना!

सवाल है मार्च 2014 से मार्च 2022 की विश्व राजनीति का क्या निचोड़? पहला यह कि महाशक्ति रूस लगभग पूरी तरह अब अछूत है।

दुनिया बदल गई!

सन् 2022 की चौबीस फरवरी को दुनिया कभी नहीं भूलेगी। बदल गई उस दिन दुनिया। योरोप बदला। अमेरिका बदला।

झेलेंस्की और यूरोपीय संसद को सलाम!

परमाणु हथियारों की धमकी, यूक्रेन की तरफ एटमी मिसाईलों के मुडे होने की स्थिति में राष्ट्रपति झेलेंस्की के साहस और उनका अभिनंदन करते हुए योरोपीय संघ का जोखिम उठाना मामूली बात नहीं है।

संयुक्त राष्ट्र आमसभा में मोदी  पीछे हटेंगे या भारत और ‘अछूत’?

आज भारतीयों के साथ बदसूलकी के वीडियों थे। भला क्यों? इसलिए क्योंकि यूक्रेन-पौलेंड आदि ने सुरक्षा परिषद् में भारत को पुतिन की निंदा करने नहीं पाया।

और लोड करें