• डाउनलोड ऐप
Wednesday, May 12, 2021
No menu items!
spot_img

अपन तो कहेंगे

बुद्धि जब कलियुग से पैदल हो!

मेरे तो गिरधर गोपाल (मोदी) दूसरा न कोई-2:  हम हिंदू मानते है कि हम कलियुग में रह रहे है। कलियुग के उसके क्या त्रास, क्या कष्ट, क्या व्यथा है? भूख, भय और गुलामी। भूख कलियुग में लगातार लूटे जाने...

मेरे तो गिरधर गोपाल (मोदी), दूसरा न कोई!

‘नया इंडिया’ के एक सुधी पाठक, हैदराबाद के सोहन लाल कादेल ने पिछले सप्ताह मुझे मैसेज भेज पूछा- आपकी नजर में राज करने योग्य कौन है जी? ममता, राहुल, प्रियंका या कोई और जी? मैंने उनकी व्यथा समझी और...

अमेरिका-यूरोप के बनो शुक्रगुजार!

अच्छी खबर जो पुर्तगाल के पोर्तो में यूरोपीय संघ के नेताओं ने भारत की चिंता की। भारत के साथ मुक्त व्यापार समझौते पर फिर बात करने को रजामंद हुआ। भारत को वायरस से लड़ने के लिए हर संभव मदद...

यमराज

मृत्यु का देवता!... पर देवता?..कैसे देवता मानूं? वह नाम, वह सत्ता भला कैसे देवतुल्य, जो नारायण के नर की सृष्टि रचना, सृष्टि नियमों को ताक में रख मृत्यु की सुनामी लाए?.. देवता मानना तो शायद इसलिए हुआ होगा कि...

श्मशान

अंतिम पड़ाव.. सबका अंतिम सत्य।.. पर हे राम!.. सत्य?.. कहां है 21वीं सदी के सन् 21 के श्मशान में सत्य? श्मशान पर तो मृत्यु के सत्य पर पर्दा है! दंडनीय अपराध है अर्थियों की सत्य संख्या जानना..बताना..अर्थियों-चिताओं के फोटो-वीडियो...

सांस!

मैं और मेरा धड़कता जीवन... फिर सुबह चिड़ियों की चहचहाहट पर भन्ना बैठा! इंसान दुबका हुआ, न टहलता, न बोलता और घरों में, कमरों में बंद अपनी सांसें काउंट करता हुआ और चिड़िया की चीं चीं चूं चूं! हां,...

मोदीजी, सुन लें मेरी प्रार्थना देश को और मरघट न बनाएं!

यों मैं जानता हूं मेरा लिखना व्यर्थ है। यदि मेरा (नया इंडिया का) लिखना मतलब लिए होता तो फरवरी 2020 से मैंने लगातार कोरोना वायरस को लेकर जो लिखा है तो मोदीजी की सत्ता इंच-दो इंच तो खदबदाई होती!...

मोदी की ऑक्सीजन और वक्त के ‘नतीजे’!

यों ‘वक्त’ क्षणभंगुर रूप में है। मेरे, आपके, किसी के भी ऑक्सीजन को वक्त किस क्षण डाउन कर दे, जीवन को लुप्त कर दे यह मौजूदा समय की सच्चाई है। तो कौम-देश का राजा अपने आपको कितना ही अजेय,...

बाइडेन के अच्छे, भले सौ दिन!

पृथ्वी के साढ़े सात अरब लोगों की सांस दो संकटों में अटकी है। एक, कोविड-19 के विषाणुओं से। दूसरे, तानाशाह-नीच प्रवृत्ति के उन नेताओं से जो वायरस से अपनी सत्ता और साम्राज्यवादी मंसूबों का मौका मानते हैं। चीन और...

मोदी पर दुनिया की कड़ी नजर!

महामारी है वैश्विक! लेकिन विश्व में अकेले भारत बना ‘वैश्विक विपदा’! पूरा विश्व हिंदू श्मशानों की अराजकता, चौबीसों घंटे जलती चिताओं व ऑक्सीजन की कमी से तड़पते-मरते लोगों से दहला हुआ हैं! लोग अमेरिका में मरे, ब्राजील में मरे,...

Latest News

कांग्रेस के प्रति शिव सेना का सद्भाव

भारत की राजनीति में अक्सर दिलचस्प चीजें देखने को मिलती रहती हैं। महाराष्ट्र की महा विकास अघाड़ी सरकार में...