• डाउनलोड ऐप
Friday, April 23, 2021
No menu items!
spot_img

हरिशंकर व्यास कॉलम

न बीमारी रुकेगी, न बरबादी और न मौतें!

इसलिए कि वायरस भला अंधेर नगरी, चौपट राजाकी भीड़ का मौका क्यों चूके? इस पृथ्वी के साढे सात अरब...

दुनिया सचमुच देख रही हमें!

दुनिया भर के देशों ने कोरोना वायरस के संक्रमण को जब गंभीरता से लिया, उसके तीन-चार महीने बाद भारत...

कोरोना कभी खत्म भी होगा या नहीं?

लाख टके का सवाल है कि कोरोना वायरस का प्रकोप कभी खत्म भी होगा या नहीं? पिछले साल अक्टूबर...

डा. वेदप्रताप वैदिक कॉलम

नेता कोरोना-दंगल बंद करें

ऑक्सीजन की कमी के कारण नाशिक के अस्पताल में हुई 24 लोगों की मौत दिल दहलानेवाली खबर है। ऑक्सीजन...

कोरोनाः तालाबंदी हल नहीं है

कोरोना महामारी इतना विकराल रुप आजकल धारण करती जा रही है कि उसने सारे देश में दहशत का माहौल...

अजीत द्विवेदी कॉलम

बेसिर पैर की वैक्सीन नीति!

केंद्र सरकार को अपनी नई वैक्सीन नीति में तत्काल बदलाव करना चाहिए क्योंकि यह नीति तमाम किस्म के तर्क...

लेख स्तम्भ

जब सवाल ना पूछे जाएं

भारत इस समय बर्बादी के जिस हाल में है, फिलहाल उससे बदतर हालात की कल्पना करना भी मुश्किल लगता...
- Advertisement -spot_img

राजरंग

चुनाव बाद केंद्र शायद ले फैसले!

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कोरोना वायरस की दूसरी लहर में राष्ट्र के नाम अपने पहले संबोधन में राज्यों को...

ताज़ा खबर

UP में कोराना ने तोड़े सारे रिकाॅर्ड, 37 हजार पार हुए नए मामले, मौतों के आंकड़ों ने भी चौंकाया

लखनऊ। UP Corona Update : उत्तर प्रदेश में कोरोना संक्रमण (COVID 19) ने कोहराम मचा दिया है. कोरोना के बढ़ते प्रकोप के कारण राज्य...

हरिशंकर व्यास कॉलम

चीन की मजबूरी हिटलरी विस्तार

भविष्य में चीन से अनिवार्य संकट-4: चीन फैक्टरी है दुनिया की। पृथ्वी के लोगों की जरूरतों का आपूर्तिकर्ता है।...

न बीमारी रुकेगी, न बरबादी और न मौतें!

इसलिए कि वायरस भला अंधेर नगरी, चौपट राजाकी भीड़ का मौका क्यों चूके? इस पृथ्वी के साढे सात अरब...

जिंदगीनामा ठहरा, ठिठका!

 ‘पंडित का जिंदगीनामा’ लिखना कोई साढ़े तीन महिने स्थगित रहा। ऐसा होना नहीं चाहिए था। आखिर जब मौत हवा में व्याप्त है तो जिंदगी पर  सोचना अधिक हो जाता है। तब स्मृति, आस्था, जिंदगी के गुजरे वक्त की याद ज्यादा कुनबुनाती है।

महामारी में ‘मृत्यु’ ही है विषय!

अच्छा नहीं लगा, एक पुण्यात्मा की स्मृति में चंद लोगों को देख कर। वजह? शायद महामारी काल! मतलब मृत्यु काल! वक्त का यह रूप सभी सभ्यताओं में मौत का प्रतिबिंब है।

गेस्ट कॉलम

देश

विदेश

- Advertisement -spot_img

खास खबर

Video News

- Advertisement -spot_img

खेल की दुनिया

फिल्मी दुनिया

- Advertisement -spot_img

युवा और कॅरियर

लाइफ स्टाइल