• नासा के नेतृत्व में अमेरिकी शोधकर्ता चंद्रमा की अत्यधिक आवेशित धूल का करेंगे अध्ययन

    NASA :- अंतरिक्ष एजेंसी नासा के नेतृत्व में अमेरिकी शोधकर्ताओं की एक टीम चंद्रमा की धूल (रेजोलिथ) को बेहतर ढंग से समझने के लिए हालिया सबऑर्बिटल उड़ान परीक्षण के दौरान एकत्र आँकड़ों का अध्ययन कर रही है। इलेक्ट्रोस्टैटिक रेजोलिथ इंटरेक्शन एक्सपेरिमेंट (ईआरआईई) पिछले साल दिसंबर में ब्लू ओरिजिन के न्यू शेपर्ड अनक्रूड रॉकेट पर लॉन्च किए गए 14 नासा समर्थित पेलोड में से एक था।  उड़ान परीक्षण के दौरान, ईआरआईई ने फ्लोरिडा में एजेंसी के कैनेडी स्पेस सेंटर के शोधकर्ताओं को माइक्रोग्रैविटी में ट्राइबोचार्जिंग, या घर्षण-प्रेरित चार्ज का अध्ययन करने में मदद करने के लिए आँकड़े एकत्र किए। नासा और...

  • यूपी बोर्ड परीक्षाओं में छात्रों की समस्याओं का पोर्टल से होगा समाधान

    UP Board Exams :- उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षा परिषद की परीक्षाओं में सम्मिलित होने वाले छात्रों की सुविधा के लिए शुरू किया गया 'समाधान' पोर्टल उनकी हर समस्या का समाधान कर रहा है। एक माह पूर्व शुरू हुए इस पोर्टल पर एक माह में कुल 1,847 प्रकरण अपलोड कराए गए हैं, जिनमें से परिषद के सभी क्षेत्रीय कार्यालयों के माध्यम से 1,694 प्रकरणों का निस्तारण किया जा चुका है। मात्र 153 प्रकरण ऐसे हैं, जो छात्र एवं छात्राओं द्वारा प्रपत्रों को पोर्टल पर अपलोड न करने के कारण लंबित हैं। उल्लेखनीय है कि 6 जनवरी 2024 को छात्र एवं छात्राओं...

  • यूपी बोर्ड परीक्षा: केंद्र व्यवस्थापकों को मास्टर्स ट्रेनर्स दे रहे प्रशिक्षण

    UP Board Exam :- यूपी बोर्ड की परीक्षाओं को लेकर एक बार फिर तैयारी तेज है। इसके लिए पुरानी व्यवस्थाओं के साथ-साथ नवीन पहल भी की जा रही है। इसी क्रम में इस बार केंद्र व्यवस्थापकों को परीक्षाओं की समुचित व्यवस्था देखने के लिए मास्टर्स ट्रेनर्स के माध्यम से तैयार किया जा रहा है। उन्हें परीक्षाओं से जुड़ी एक से एक बारीक बातों का प्रशिक्षण दिया जा रहा है, ताकि परीक्षा में किसी तरह की त्रुटि न हो। उल्लेखनीय है कि यूपी बोर्ड की परीक्षाएं 22 फरवरी से शुरू हो रही हैं, जो 9 मार्च तक चलेंगी। इस बार हाईस्कूल...

  • 40 लाख भारतीय बच्चों की शिक्षा पर फोकस करेगी किंग चार्ल्स की चैरिटी

    King Charles Charity :- किंग चार्ल्स III द्वारा स्थापित चैरिटी ब्रिटिश एशियन ट्रस्ट एक शैक्षिक पहल का नेतृत्व कर रहा है जो पांच वर्षों में भारत में चार मिलियन बच्चों के जीवन को बदल देगा। शिक्षा को बदलने के लिए मूलभूत साक्षरता और संख्यात्मकता में लिफ्टएड लर्निंग एंड इनोवेशन पहल का उद्देश्य भारत के शिक्षा पारिस्थितिकी तंत्र को मजबूत करना है और इसे पिछले सप्ताह अंतर्राष्ट्रीय शिक्षा दिवस पर लॉन्च किया गया था। ग्रेड 1-3 के पब्लिक स्कूल के बच्चों को लक्षित करने वाला लिफ्टएड भारत में मूलभूत साक्षरता और संख्यात्मकता में सुधार के लिए शिक्षा विशेषज्ञों के एक विविध...

  • भारत में पहली बार प्रयोगशाला में विकसित होगा मछली का मांस

    CMFRI :- एक ऐतिहासिक कदम में आईसीएआर-सेंट्रल मरीन फिशरीज रिसर्च इंस्टीट्यूट (सीएमएफआरआई) ने भारत में पहली बार प्रयोगशाला में विकसित मछली के मांस को विकसित करने की अग्रणी पहल की है। परियोजना का उद्देश्य भारत को समुद्री मछली के मांस के क्षेत्र में प्रगति करने के लिए स्थापित करना है, जिससे समुद्री भोजन की बढ़ती मांग को पूरा किया जा सके और जंगली संसाधनों पर अत्यधिक दबाव कम किया जा सके। संवर्धित मछली का मांस या प्रयोगशाला में विकसित मछली का मांस मछली से विशिष्ट कोशिकाओं को अलग करके और उन्हें पशु मुक्त मीडिया घटक का उपयोग करके प्रयोगशाला सेटिंग...

  • ज्‍यादा नौकरियों को प्रभावित नहीं कर पाएगा आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस

    Artificial Intelligence :- जहां दुनियाभर के शोधकर्ता आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (एआई) के कारण जल्द ही नौकरियां खत्म होने की उम्मीद कर रहे हैं, वहीं एक शोध में यह बात सामने आई है कि एआई ज्‍यादा नौकरियों को प्रभावित नहीं कर पाएगी। एमआईटी के कंप्यूटर साइंस एंड आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस लेबोरेटरी (सीएसएआईएल) द्वारा किए गए एक हालिया शोध में जांच की गई कि क्या एआई मनुष्यों की तुलना में अधिक कुशलता से कार्य कर सकता है और क्या व्यवसायों के लिए मानव श्रम को एआई के साथ बदलना लागत प्रभावी है।  शोध में श्रम बाजार में एआई कार्यान्वयन के व्यापक प्रभावों को ध्यान...

  • 2024 में नई नौकरी पर विचार कर रहे हैं 88 प्रतिशत भारतीय पेशेवर

    88 Percent Indian :- एक ताजा रिपोर्ट में यह बात सामने आई है कि भारत में लगभग 10 में से नौ (88 प्रतिशत) पेशेवर आर्थिक अनिश्चितता के बावजूद 2024 में नई नौकरी पर विचार कर रहे हैं। पेशेवर नेटवर्किंग प्लेटफॉर्म लिंक्डइन के अनुसार, 2023 की तुलना में संख्या में चार प्रतिशत की (वर्ष-दर-वर्ष) वृद्धि हुई है। रिपोर्ट में कहा गया यह दृष्टिकोण में बदलाव का संकेत देता है, जहां पेशेवर अपने करियर के मालिक खुद हैं और अपने करियर विकास पर ध्यान केंद्रित करके खोए हुए समय की भरपाई करना चाहते हैं।  24 नवंबर, 2023 से 12 दिसंबर, 2023 के...

  • सीबीएसई ने जारी की बोर्ड परीक्षा की डेटशीट

    CBSE :- केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) ने मंगलवार को 10वीं और 12वीं कक्षा की बोर्ड परीक्षाओं के लिए डेटशीट जारी कर दी। सीबीएसई की डेटशीट के मुताबिक 15 फरवरी से बोर्ड परीक्षाएं शुरू होगीं और 12वीं बोर्ड की आखिरी परीक्षा 2 अप्रैल तक चलेगी। जबकि, 10वीं कक्षा की परीक्षाएं 13 मार्च को समाप्त हो जाएंगी। बोर्ड परीक्षाएं लगभग 55 दिनों तक चलेंगी।  सीबीएसई 12वीं बोर्ड की पहली परीक्षा 15 फरवरी को है। पहली परीक्षा एंटरप्रेन्योरशिप की और आखिरी परीक्षा 2 अप्रैल को कंप्यूटर, इनफॉर्मेशन टेक्नोलॉजी की है। वहीं, 10वीं कक्षा की बात की जाए तो 15 फरवरी को पहली...

  • विश्‍व मधुमेह दिवस पर बीटो ने भौतिक क्लीनिक सहयोग में प्रवेश किया

    World Diabetes Day :- मधुमेह नियंत्रण और उपचार पर ध्यान केंद्रित करने वाले भारत के अग्रणी डिजिटल स्वास्थ्य मंच बीटओ ने मंगलवार को घोषणा की कि वह कई सूक्ष्म बाजारों में अग्रणी डॉक्टरों के साथ सहयोग करके भौतिक टचप्वाइंट लॉन्च करेगा। यह कदम बीटो को भारत के अग्रणी "फिजिटल" मधुमेह देखभाल प्रदाता के रूप में स्थापित करने के लिए तैयार है, जो भौतिक और डिजिटल दोनों दुनिया के सर्वोत्तम संयोजन का संयोजन करेगा। मंगलवार को विश्‍व मधुमेह दिवस के अवसर पर दिल्ली-एनसीआर में पांच ऐसे क्लीनिकों के शुभारंभ के साथ बीटओ जल्द ही अगले छह महीनों में उत्तर प्रदेश, मध्य...

  • तंजानिया : देश के बाहर शुरू हुआ आईआईटी का पहला विदेशी कैंपस

    IIT Madras :- देश के बाहर आईआईटी का पहला कैंपस तंजानिया (जंजीबार) में सोमवार 6 नवंबर को प्रारंभ हो गया। तंजानिया में यह कैंपस आईआईटी मद्रास के सहयोग से स्थापित किया गया है। भारत सरकार के मुताबिक देश के बाहर यह पहला आईआईटी संस्थान तंजानिया और अन्य अफ्रीकी देशों के छात्रों को विश्व स्तरीय इंजीनियरिंग और प्रौद्योगिकी शिक्षा प्रदान करेगा। साथ ही दोनों देशों और महाद्वीपों के बीच शैक्षिक सहयोग में एक मील का पत्थर साबित होगा। आईआईटी मद्रास के जंजीबार परिसर का उद्घाटन जंजीबार के राष्ट्रपति और रिवोल्यूशनरी काउंसिल के अध्यक्ष डॉ. हुसैन अली मविनी ने किया।  इसमें तंजानिया...

  • विश्वविद्यालय में छात्रवृत्ति के लिए एक करोड़ रुपये का दान

    BHU University :- काशी हिन्दू विश्वविद्यालय (बीएचयू) ने 'कलिपटनापू फाउंडेशन' के साथ एक समझौता किया है। इसके तहत विश्वविद्यालय स्थित रसायन शास्त्र के ग्रेजुएशन और पोस्ट ग्रेजुएशन छात्रों के लिए 40 छात्रवृत्तियां स्थापित की जाएंगी। कलिपटनापू कोंडिया की स्मृति में यह छात्रवृत्तियां आरंभ करने के लिए उनसे जुड़ा यह फाउंडेशन विश्वविद्यालय को एक करोड़ रुपये की धनराशि देगा। विश्वविद्यालय के मुताबिक कलिपटनापू कोंडिया ने विश्वविद्यालय से बीएससी तथा एमएसससी की उपाधियां हासिल की थीं।  वे वर्ष 1922 से 1941 तक विश्वविद्यालय में रसायनशास्त्र के शिक्षक भी रहे। वे रसायनशास्त्र विभाग के अध्यक्ष भी रहे। वर्ष 1941 में विश्वविद्यालय छोड़ कर,...

  • राम मंदिर ट्रस्ट ने पुजारियों के लिए मांगा आवेदन

    Ram Mandir Trust :- श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट ने राम लला मंदिर के लिए अर्चकों (पुजारियों) की नियुक्ति के लिए अपनी आधिकारिक वेबसाइट पर एक अधिसूचना जारी की है। इच्छुक लोग, जिनकी आयु 20 से 30 वर्ष के बीच होनी चाहिए, वे 31 अक्टूबर तक ट्रस्ट को ईमेल करके आवेदन कर सकते हैं। अयोध्या क्षेत्र में रहने वाले उम्मीदवारों को प्राथमिकता दी जाएगी। चयन प्रक्रिया में निष्पक्षता सुनिश्चित करने के लिए ट्रस्ट ने प्रवेश परीक्षा लेने का निर्णय लिया है।  परीक्षा में सफल होने वाले उम्मीदवारों को छह महीने के प्रशिक्षण से गुजरना होगा। ट्रस्ट के मुताबिक, प्रशिक्षण...

  • झारखंड में 690 प्रयोगशाला सहायकों की भर्ती परीक्षा का परिणाम जारी

    JSSC Result :- झारखंड स्टाफ सेलेक्शन कमीशन में राज्य में प्रयोगशाला सहायक के 690 पदों पर बहाली के लिए हुई लिखित परीक्षा के रिजल्ट शनिवार को जारी किए हैं। परीक्षा में कुल 802 कैंडिडेट सफल घोषित किए गए हैं। इनके प्रमाण पत्रों की जांच और काउंसिलिंग के बाद इनकी नियुक्ति पर अंतिम मुहर लगेगी। इन पदों पर नियुक्तियों के लिए परीक्षा बीते 27 जुलाई से 12 अगस्त तक ली गई थी।  झारखंड स्टाफ सेलेक्शन कमीशन के इतिहास में पहली बार इतने कम समय में किसी प्रतियोगिता परीक्षा का रिजल्ट जारी किया गया है। परीक्षा के लिए आवेदन मंगाने की प्रक्रिया...

  • तंजानिया नवंबर में शुरू होगा देश के बाहर पहला आईआईटी

    IIT :- देश के बाहर आईआईटी का पहला कैंपस तंजानिया (जंजीबार) में स्थापित किया जा रहा है। केंद्रीय शिक्षा मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने मंगलवार को बताया कि यह कैंपस इसी साल नवंबर शुरु में होने वाला है। तंजानिया में यह कैंपस आईआईटी मद्रास के सहयोग से स्थापित किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि देश के बाहर यह पहला आईआईटी संस्थान तंजानिया और अन्य अफ्रीकी देशों के छात्रों को विश्व स्तरीय इंजीनियरिंग और प्रौद्योगिकी शिक्षा प्रदान करेगा। साथ ही दोनों देशों और महाद्वीपों के बीच शैक्षिक सहयोग में एक मील का पत्थर साबित होगा। कौशल-केंद्रित और बाजार से जुड़ी उच्च...

  • डीयू में ‘भारतीय भक्ति परंपरा’ पर आधारित अंडर ग्रैजुएट पाठ्यक्रम

    Undergraduate Course :- दिल्ली विश्वविद्यालय में 'भारतीय भक्ति-परंपरा और मानव मूल्य' पर आधारित एक अंडर ग्रैजुएट पाठ्यक्रम शुरू किया गया है। यह पाठ्यक्रम न केवल मानविकी बल्कि इंजीनियरिंग, साइंस और मैनेजमेंट के छात्रों के लिए भी उपलब्ध होगा। विश्वविद्यालय के डीन, प्लानिंग प्रोफेसर निरंजन कुमार के मुताबिक इसमें भक्ति, चिंतन, व्यवहार और मानवता के मूल्यों का प्रकाशन है। दिल्ली विश्वविद्यालय के मुताबिक यह एक अखिल भारतीय पाठ्यक्रम है, जिसे दिल्ली विश्वविद्यालय में भी अपनाया गया है। भारत के कुछ प्रमुख भक्त और उनके विचार इसमें शामिल किए गए हैं।  इसे दिल्ली विश्वविद्यालय की वैल्यू एडिशन कोर्स कमेटी ने डिजाइन किया...

  • आईआईटी मद्रास को इंडियन ग्रीन बिल्डिंग का प्लैटिनम सर्टिफिकेशन

    IIT Madras :- आईआईटी मद्रास को ‘इंडियन ग्रीन बिल्डिंग काउंसिल (आईजीबीसी) ने प्लैटिनम सर्टिफिकेशन’ प्रदान किया है। इस तरह आईआईटी मद्रास देश के सबसे बड़े और सर्वोच्च रेटिंग प्राप्त करने वाले स्वच्छ परिसरों में से एक हो गया है। प्लेटिनम सर्टिफिकेशन, संसाधनों के सदुपयोग और पर्यावरण के प्रति जिम्मेदारी के लिए दिया जाता है। इससे न केवल परिचालन का खर्च कम होता है बल्कि अनमोल संसाधन भी बचते हैं। आईआईटी मद्रास ने इस आकलन में 90 में 82 अंक प्राप्त कर सबको प्रभावित किया है।  आईआईटी मद्रास ने एक ठोस कचरा दहन संयंत्र स्थापित किया है। प्रतिदिन दो टन मिश्रित...

  • तकनीकी संस्थानों में बदलाव जरूरी, नए कार्यक्रम बनाने होंगे: योगी

    Yogi Adityanath :- उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि तकनीकी संस्थानों को घिसे-पिटे कार्यक्रमों को छोड़कर न्यू ऐज कोर्सेज को लागू करना होगा। आज का समय तकनीक का है, इसका उपयोग राष्ट्र निर्माण और लोककल्याण में किया जा सकता है। उत्तर प्रदेश में 2017 तक केवल दो साइबर थाने थे। आज प्रदेश के हर जनपद में एक-एक साइबर थाना है और हर जिले में साइबर हेल्प डेस्क है। मुख्यमंत्री योगी ने मंगलवार को मदन मोहन मालवीय प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय में 12 करोड़ रुपये की लागत से निर्मित अत्याधुनिक सुविधाओं से सुसज्जित नए प्रशासनिक भवन का लोकार्पण किया।...

  • यूपी में कक्षा 9 से 12 तक 1.07 करोड़ छात्रों ने लिया प्रवेश

    Uttar Pradesh Board :- उत्तर प्रदेश बोर्ड के 27 हजार से अधिक माध्यमिक विद्यालयों में 2023-24 सत्र में कक्षा 9 से 12 तक 1,07,79,463 छात्रों ने दाखिला लिया है। कक्षा 9 और 11 के लिए अग्रिम पंजीकरण और कक्षा 10 और 12 की परीक्षाओं के लिए पंजीकरण की अंतिम तिथि 10 सितंबर थी। यूपी बोर्ड सचिव दिव्यकांत शुक्ला के अनुसार, यूपी बोर्ड की 2024 हाईस्कूल और इंटरमीडिएट परीक्षाओं के लिए कुल 55,03,863 छात्रों ने पंजीकरण कराया है, इसमें कक्षा 10 में 29,54,036 और कक्षा 12 में 25,49,827 अन्य शामिल हैं। इसी प्रकार, कक्षा 9 में 27,51,807 छात्रों और कक्षा 11...

  • नालंदा विश्वविद्यालय में ‘फेस्टिवल ऑफ डेमोक्रेसी’ का आयोजन

    Nalanda University :- अंतरराष्ट्रीय लोकतंत्र दिवस के मौके पर नालंदा विश्वविद्यालय में शुक्रवार को फेस्टिवल ऑफ डेमोक्रेसी का आयोजन किया जा रहा है। इस मौके पर पूर्व राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा, केंद्रीय स्कृति राज्य मंत्री मीनाक्षी लेखी सहित कई देशों के राजदूत भी शामिल होंगे। इस कार्यक्रम मे भाग लेने के लिए रामनाथ कोविंद और असम के मुख्यमंत्री यहां पहुंच गए हैं। भारतीय सांस्कृतिक अनुसंधान परिषद की ओर से नालंदा विश्वविद्यालय में आयोजित लोकतंत्र का उत्सव, जी 20 सम्मेलन के दौरान केंद्रीय संस्कृति मंत्रालय की तरफ से भारत मंडपम में लगाए गए 'लोकतंत्र की जननी'...

  • आईआईटी ने विकसित की फंगस-वायरस को निष्क्रिय करने वाली डिवाइस

    IIT Jodhpur :- घर के अन्दर वायु गुणवत्ता के लिए आईआईटी ने एक नवीन कोल्ड-प्लाज्मा डिटर्जेंट इन एनवायरनमेंट (कोड) डिवाइस विकसित किया है। आईआईटी जोधपुर ने यह शोध किया है। शोध में इस डिवाइस की व्यापक रूप से जांच की गई है जिसमें यह सामने आया है कि यह डिवाइस 99.99 प्रतिशत से अधिक हानिकारक विषाणुओं को निष्क्रिय करती है व उच्च गुणवत्ता वाली इंडोर वायु प्रदान करती है। यह तकनीक विद्युत खपत काफी कम करती है। कमरे या हॉल की हवा में मौजूद बैक्टीरिया, फंगस और वायरस को निष्क्रिय करता है। धूल और पराग कणों आसानी से पकड़ता है...

और लोड करें