• डाउनलोड ऐप
Friday, May 14, 2021
No menu items!
spot_img

लेख स्तम्भ

दुस्साहस भरी दलीलें

केंद्र सुप्रीम कोर्ट में कहा कि उसकी वैक्सीन नीति उपलब्धता और जोखिम के मूल्यांकन पर आधारित है। यह नीति न्यायसंगत, भेदभाव से मुक्त और दो आयु वर्ग समूहों (45 से अधिक और नीचे वाले) के बीच एक समझदारी भरे...

इसे बेनकाब करना जरूरी है

हालांकि इससे होगा कुछ नहीं, फिर भी एक विशेषज्ञ और नागरिक के तौर पर अपना एतराज जताने के लिए ये सही कदम उठाया गया है। ऐसे कदमों से इतना तो होता ही है कि ऐसे मसलों पर लोगों का...

ये सरकार सुनती नहीं

ब्रिटिश मेडिकल जर्नल लांसेट ने भारत में कोरोना महामारी की स्थिति पर लिखे अपने संपादकीय में आज की हालत के लिए सीधे तौर पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को जिम्मेदार ठहराया है। जाहिर है, उसमें बताए गए कारणों और तर्क...

किसी पर तो कार्रवाई हो!

अगर ये बात सच है, तो बिहार के भाजपा नेता राजीव प्रताप रूडी पर गंभीर कार्रवाई होनी चाहिए। अगर झूठ है, तो फिर बिहार में ही मधेपुरा के पूर्व सांसद और जन अधिकार पार्टी (जाप) के अध्यक्ष राजेश रंजन...

ये कहां आ गए हम!

एक खबर के मुताबिक राजस्थान में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ ने शनिवार को जगह-जगह हनुमान चालीसा का पाठ कराया, ताकि कोरोना महामारी का मुकाबला किया जा सके। एक दूसरी खबर के मुताबिक हैदराबाद के एक ज्योतिषी ने कहा है कि...

आगे बढ़ी अलगाव की भावना

अलगाव की भावना एक जगह हावी हो, तो उससे दूसरी जगह भी उसे हवा मिलती है। स्कॉटलैंड के ताजा चुनाव नतीजे को इसी रूप में समझा जा सकता है। ब्रिटेन ने आत्म-केंद्रित नजरिया अपनाते हुए खुद को यूरोपियन यूनियन...

अब भारी पड़ता मध्यमार्ग

पश्चिमी लोकतांत्रिक देशों में हाल में दिखे रुझान के आधार पर राजनीति शास्त्रियों ने कहा है कि सेंटर कान्ट होल्ड। यानी अब मध्यमार्ग नहीं टिकेगा। अब जमाना या तो धुर दक्षिणपंथ या फिर स्पष्ट वामपंथ का है। अमेरिका में...

हिंसा का कौन दोषी?

ये बात बार-बार उचित ही दोहराई जाती है कि लोकतंत्र में हिंसा का कोई स्थान नहीं है। दरअसल, किसी सामाजिक या राजनीतिक व्यवस्था में हिंसा के लिए जगह नहीं होनी चाहिए। मतभेद कितने सद्भावपूर्ण ढंग से निपटाए जाते हैं,...

ये तमाशा हुआ क्यों?

आईपीएल को बीच में रोक दिया गया। लेकिन सवाल है कि देश जिस पीड़ा और त्रासदी में है, उसके बीच ये तमाशा आखिर हुआ ही क्यों? ये बड़ी अजीब बात है कि जब दिल्ली में लॉकडाउन लगा है और...

बागी मूड में तालिबान

तालिबान ने यह दो टूक कहा है कि अब वह किसी संयम को बरतने के लिए बाध्य नहीं है। उसका पक्ष यह है कि उसने एक मई तक हिंसा ना करने का वादा किया था। ये समयसीमा बीत चुकी...

Latest News

सत्य बोलो गत है!

‘राम नाम सत्य है’ के बाद वाली लाइन है ‘सत्य बोलो गत है’! भारत में राम से ज्यादा राम...