सांप्रदायिक पार्टियों से दूर रहे कांग्रेस

कांग्रेस ऐतिहासिक गलती कर रही है। आजादी की लड़ाई के दौरान कांग्रेस ने देश के सभी…

सिर्फ वैक्सीन से नहीं बनेगी बात

भारत में ‘दुनिया का सबसे बड़ा वैक्सीनेशन अभियान’ 16 जनवरी को शुरू हुआ था और मार्च…

आरक्षण मिलेगा, नौकरी भले न मिले!

नरेंद्र मोदी के प्रधानमंत्री रहते ऐसा सोचना भी पाप है कि आरक्षण की व्यवस्था खत्म हो…

सेवा करना तो सरकार का काम है!

सरकारी कंपनियों को बेचने के अभियान को अब तक केंद्रीय मंत्री जिस जुमले के जरिए सही…

कोरोना के लौटने का खतरा

अभी यह तो नहीं कह सकते हैं कि कोरोना का खतरा वापस अपने पुराने रूप में…

किसान कब तक इंतजार करेंगे?

केंद्र सरकार के बनाए तीन कृषि कानूनों के विरोध में आंदोलन कर रहे किसानों को अब…

पेट्रोल कीमतों पर बेसिर-पैर की बातें!

पेट्रोलियम उत्पादों की बढ़ती कीमतों को लेकर केंद्र सरकार की ओर से जो कुछ भी कहा…

बाबू बनाम विशेषज्ञ की बहस

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सरकारी बाबू यानी अफसरशाही बनाम विशेषज्ञता की बहस छेड़ दी है। उन्होंने…

बधाई हो! पेट्रोल सौ रुपए का हुआ

मजबूत लोगों की डिक्शनरी में नामुमकिन शब्द नहीं होता है। उनके होते सब कुछ मुमकिन होता…

उठाने होंगे अभिव्यक्ति के खतरे!

अभिव्यक्ति की आजादी को लेकर पिछली एक सदी में जितनी कविताएं या गद्य लिखा गया है,…

क्या लद्दाख पर कांग्रेस का कहा काल्पनिक?

जिस दिन से चीन और भारत की सरकार ने लद्दाख में शांति बहाली के समझौते और…

आंदोलन जारी रखने की चुनौती

कहते हैं कि हर चीज की एक्सपायरी डेट होती है यानी हर चीज को किसी न…

भारत का पूंजीवाद अनोखा है

भारत में कुछ बातों को एक झीने परदे में ढक कर रखने की परंपरा रही है।…

भाजपा का क्लोन बनती कांग्रेस!

डोनाल्ड ट्रंप से ठीक पहले जिस अमेरिकी राष्ट्रपति का कार्यकाल सिर्फ चार साल के लिए रहा…

संपूर्ण मानवता के खिलाफ हिमालयी भूल!

हिमालय की चोटियों पर और उसकी तलहटी में भी कुछ ऐसा हो रहा है, जिसे आंख…

एलआईसी बेचने के सारे तर्क फालतू

भारतीय जीवन बीमा निगम यानी एलआईसी ऑफ इंडिया को बेचने के सारे तर्क फालतू हैं, सिवाए…

यह देश का आंदोलन है!

केंद्र सरकार क्या किसान आंदोलन को इसी तरह चलते रहने देगी? दो अक्टूबर या उससे आगे…

देश इतना कमजोर कैसे हो गया?

भारत 138 करोड़ की आबादी, विशाल भूभाग, गौरवशाली सांस्कृतिक परंपराओं और हजारों साल की सभ्यता की…

सरकार अपनी जीत न देखे!

यूं ही हमेशा उलझती रही है जुल्म से खल्क, न उनकी रस्म नई है न अपनी…

‘शाइनिंग इंडिया’ से ‘सेल इंडिया’ तक!

भारतीय जनता पार्टी के शासन का सच है- ‘शाइनिंग इंडिया’ से ‘सेल इंडिया’! भाजपा के पहले…

बजट या सरकारी संपत्तियों की बंपर सेल?

यह समझना मुश्किल है कि वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने देश का आम बजट पेश किया…

ऐतिहासिक या कामचलाऊ बजट?

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा है कि इस बार उनका बजट सौ साल में एक…

सब अहिंसा की बात कर रहे हैं!

अच्छा है, जो सब लोग अहिंसा की बात कर रहे हैं। जिनको महात्मा गांधी फूटी आंख…

शर्मिंदा तो मीडिया को होना चाहिए!

केंद्र सरकार के बनाए तीन कृषि कानूनों के विरोध में आंदोलन कर रहे किसान संगठनों के…

महापुरुषों का चुनावी मुद्दों में बदलना

यह भारत का दुर्भाग्य है कि देश के सारे महापुरुष अब एक पार्टी के राजनीतिक एजेंडे…

बाइडेन की शपथ में असली अमेरिका!

बाइडेन जीते हैं तो अमेरिका जीता है! बाइडेन की जीत अमेरिका की महान लोकतांत्रिक परंपराओं और…

गलती सिर्फ नेहरू की नहीं है!

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने भारत सरकार की चीन नीति को लेकर सवाल उठाया तो भाजपा…

बढ़ाए सामाजिक विकास पर खर्च

केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण अपने तीसरे बजट की तैयारी कर रही हैं। इस बार का…

वंशवाद पहले भाजपा खत्म करे!

पुरानी कहावत है कि ‘हम सुधरेंगे, जग सुधरेगा’। यह भी कहा जाता है कि ‘दुनिया आपके…

कृषि कानूनों पर अब आगे क्या?

केंद्र सरकार के बनाए तीन कृषि कानूनों और किसान आंदोलन में अब आगे क्या होगा? सुप्रीम…

Amazon Prime Day Sale 6th - 7th Aug