बिन ऑक्सीजन मौत.. इतना झूठ क्यों?

ऑक्सीजन की कमी से मौतें नहीं हुईं। भला ऐसे सत्य को कैसे झुठला सकते हैं, जिसकी फोटो हैं, जिसके मुंह जुबानी बोलते चेहरे हैं, जिसके रोते-बिलखते आंसू हैं! पूरी दुनिया ने, भारत के लोगों ने जब ऑक्सीजन की कमी से फड़फड़ाते लोगों को देखा है

अस्पताल के बाहर ऑक्सीजन के लिए तड़पते मरीज और सरकार का कहना ऑक्सीजन की कमी के कारण एक भी मौत नहीं..

अस्पताल के बाहर ऑक्सीजन के लिए तड़पते मरीज और सरकार का कहना ऑक्सीजन की कमी के कारण एक भी मौत नहीं..

ऑक्सीजन की मॉक ड्रिल में मरे 22 मरीज!

आगरा। उत्तर प्रदेश के आगरा के एक अस्पताल में एक भयावह खबर का खुलासा हुआ है। पता चला है कि अस्पताल प्रशासन ने कोरोना मरीजों को लगाई गई ऑक्सीजन की आपूर्ति रोक कर यह देखने का फैसला किया कि कितने मरीज कितनी देर तक बचे रह पाते हैं और इस मॉक ड्रिल में 22 मरीजों की जान चली गई। इस खबर का खुलासा होने के बाद आगरा के पारस अस्पताल को प्रशासन ने सील कर दिया है। साथ ही इसके मालिक के खिलाफ केस भी दर्ज कर लिया है। एक वीडियो सामने आने के बाद इस घटना का खुलासा हुआ है। प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मंगलवार को बैठक कर इस घटना पर संज्ञान लेते हुए पूरे मामले की जांच और दोषियों पर सख्त कार्रवाई करने के आदेश दिए। बताया जा रहा है कि आगरा और प्रदेश में जब कोरोना पीक पर था और चारों तरफ ऑक्सीजन की किल्लत थी तो अस्पताल के मालिक डॉक्टर अरिंजय जैन ने 26 अप्रैल को पांच मिनट के लिए ऑक्सीजन बंद करने की मॉक ड्रिल की। इस दौरान 22 मरीजों की मौत हो गई। जिस समय यह मॉक ड्रिल की गई उस समय अस्पताल में 96 मरीज भर्ती थे। सबसे भयावह बात यह… Continue reading ऑक्सीजन की मॉक ड्रिल में मरे 22 मरीज!

WORLD OCEAN DAY 2021: आज दुनियाभर में मनाया जा रहा है विश्व महासागर दिवस, जानें इसकी थीम और समुंद्र में रहने वाले अजीब जानवरों के बारें में..

WORLD OCEAN DAY 2021: आज विश्व भर में महासागर दिवस मनाय़ा जा रहा है। महासागर दिवस मनाने का एकमात्र उद्देश्य यह है कि लोगों में महासागर के प्रति जागरूकता फैलाना। लोग हर साल अपनी वैकेशन्स के लिए BEACH पर जाते है और वहां गंदगी फैला देते है। और उसे साफ करने का भी कोई नाम नहीं है। महासागर दिवस मनाने का एक उद्देश्य यह भी है कि लोग जान सकें कि महासागर हमारे लिए कितने महत्वपूर्ण है। इससे हमें अत्यंत महत्वपूर्ण सामग्री प्राप्त होती है। अगर यह हमारे मनोरंजन का एक साधन है तो इससे हमें अनेक औषधियां भी मिलती है। महासगरों से हमें कई तरह की दवाइयां मिलती हैं जिसमें कैंसर तक की दवाइयां शामिल हैं। इसलिए सभी लोगों की जिम्मेदारी बनती है कि वह महासागर के अस्तित्व को बनाए रखने और इनके सरंक्षण में अपना योगदान दें। समुंद्र में अनकों अजीबगरीब जीव रहते है जिन्हें कभी देखा भी नहीं होगा और ना ही सुना होगा। व्हेल मछली के बारे में सब ही जानते है कुछ लोगों ने उसे देखा भी होगा लेकिन आज हम बात करेंगे समुंद्र में रहने वाले ऐसे जीवों के बारे में जिन्हे देखर आश्चर्य में पड़ जाएगें। also read: India V Sri Lanka क्रिकेट घमासान!… Continue reading WORLD OCEAN DAY 2021: आज दुनियाभर में मनाया जा रहा है विश्व महासागर दिवस, जानें इसकी थीम और समुंद्र में रहने वाले अजीब जानवरों के बारें में..

कार्रवाई तो ठीक, लेकिन..

बलरामपुर की ये घटना भी कम मार्मिक नहीं है। बेशक ऐसे कानूनी प्रावधान होंगे, जिनके तहत नदी में शव फेंकना अपराध होगा। लेकिन कोरोना काल में आखिर क्यों बड़े पैमाने पर लोगों ने अपने प्रियजनों के शव नदियों में फेंके, एक संवेदनशील सरकार से इस पहलू पर गौर करने की अपेक्षा होती। यह भी पढ़ें: नेता बदलेगा, नीति नहीं उत्तर प्रदेश सरकार गिरफ्तारी और डंडे की जुबान बेहतर जानती है, यह तो अब तक सबको मालूम हो चुका है। लेकिन कोरोना काल में भी तमाम मानवीय संवेदनाओं को ताक पर रख कर सिर्फ इसी तरीके से काम चलाया जाएगा, यह इस सरकार के कट्टर विरोधियों के लिए भी पहले मानना मुश्किल था। लेकिन जिस तरह ऑक्सीजन की कमी बताने वालों पर पिछले दिनों कार्रवाई हुई, उसके बाद कई लोगों की राय बदली। अब बलरामपुर की ये घटना भी कम मार्मिक नहीं है। बेशक ऐसे कानूनी प्रावधान होंगे, जिनके तहत नदी में शव फेंकना अपराध होगा। लेकिन कोरोना काल में आखिर क्यों बड़े पैमाने पर लोगों ने अपने प्रियजनों के शव नदियों में फेंके, एक संवेदनशील और मानवीय सरकार से इस पहलू पर गौर करने की अपेक्षा होती। लेकिन जब मौजूदा सरकार के वैचारिक गुरु राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की तरफ से… Continue reading कार्रवाई तो ठीक, लेकिन..

कोरोना की तीसरी लहर में एक दिन में आ सकते है 45,000 केस,944 मीट्रिक टन ऑक्सीजन की जरूरत पड़ सकती है-IIT की Delhi सरकार को चेतावनी

New Delhi | कोरोना की दूसरी लहर ने भारत को ऐसे-ऐसे मंजर दिखाये है जिसकी कभी कलपना भी नहीं की जा सकती थी। ऐसे में वैज्ञानिकों ने कोरोना की तीसरी लहर आने का अंदेशा दे दिया है। भारत में कोरोना की तीसरी लहर आना तय है और तीसरी लहर में दूरी लहर से दोगुने मामले आएंगे। IIT कानपुर के वैज्ञानिकों की ओर से तीसरी लहर की चेतावनी के बाद अब IIT दिल्‍ली की ओर से कोरोना की तीसरी लहर को लेकर एक रिपोर्ट तैयार की गई है, जो काफी चौंकाने वाली है। इस रिपोर्ट में यह कहा है कि कोरोना की तीसरी लहर में एक दिन में 45,000 मामले दर्ज होंग।हालत इतना गंभीर होगी कि 9000 मरीज रोजाना अस्पताल में भर्ती होंगे। दूसरी लहर के मुकाबले 30-60 फीसदी तक ज्‍यादा मामले देखने को मिल सकते हैं जो एक बड़ी संख्‍या है। इसके लिए दिल्ली सरकार को पुरी तैयारी कर लेनी चाहिए। रिपोर्ट में कहा गया है कि  दिल्ली को कोरोना के सबसे बुरे दौर से निपटने के लिए तैयार रहना चाहिए। यह रिपोर्ट कोरोना की तीसरी लहर को लेकर दिल्ली हाई कोर्ट में जमा कराई गई है। इसे भी पढ़ें वैक्सीन से बनी एंटीबॉडी कोरोना के नए-नए वैरिएंट को जन्म देगी-… Continue reading कोरोना की तीसरी लहर में एक दिन में आ सकते है 45,000 केस,944 मीट्रिक टन ऑक्सीजन की जरूरत पड़ सकती है-IIT की Delhi सरकार को चेतावनी

इसे कहते हैं सितारा..डांस से इंडिया का दिल जीतने वाले राघव जुयाल अपने गांव में लोगों की बचा रहे जिंदगियां

UTTARAKHAND: जन्मभूमि ने पुकारा तो बॉलीवुड की चकाचौंध से छोड़कर राघव अपने गांव उत्तराखंड पहुंच गये। मास्क से लेकर ऑक्सीजन तक लोगो के लिए उपलब्ध करवा रहे है। अपनी बेमिसाल डांसिग से लोगो के दिलों में राज करने वाले राघव जुयाल इन दिनों लोगों की जिंदगिया बचाने में जी-जान से लगे है। राघव अपनी मातृभूमि के लोगों को बचाने में लगे है।पूरे उत्तराखंड में कोरोना से लड़ रहे लोगों की मदद राघव कर रहे है। राघव पिछले 15 दिनों से सोशल मीडिया पर काफी एक्टिव है। वे लोगों से उत्तराखंड को बचाने की अपील कर रहे है। राघव ने रोते हुए सेव UK की एक वीडियो भी अपलोड की है। कुंभ के बाद से उतंराखंड में कोरोना आग की तरह फैला है। जिसके बाद लोग संक्रमित मिल रहे है। बढ़ते कोरोना से ऑक्सीजन की कमी हो गई है जो शहरी इलाकों में ही पूरी नहीं हो पा रही है। जिन लोगों को ऑक्सीजन, दवाइयां की कमी हो रही है राघवव उनकी कमी पूरी कर रहे है। गांव वालों के पास सभी सुविधाए पहुंचा रहे है। पहाड़ी इलाकों में स्वास्थ्य सुविधाएं ना के बराबर होती है। कोई भी व्यक्ति गंभीर रूप से बीमार हो तो उसे शहर ले जाना पड़ता है… Continue reading इसे कहते हैं सितारा..डांस से इंडिया का दिल जीतने वाले राघव जुयाल अपने गांव में लोगों की बचा रहे जिंदगियां

WELCOME THIRD WAVE : स्वैग से करेंगे कोरोना की तीसरी लहर का स्वागत, रेड कार्पेट पर आई तीसरी लहर

ऐसे लग रहा है लोगों को कोरोना से कोई डर नहीं है। कोरोना ने लाशों का समुद्र बिछा रखा है। कोरोना रोज मौत का एक नया आंकड़ा लेकर तैयार रहता है। लेकिन कुछ लोग ऐसे है जो कोरोना की तीसरी लहर का दिल खोलकर स्वागत कर रहे है।अस्पतालों में लोग ऑक्सीजन,बैड, वेंटिलेटर का इंतजार करते दम तोड़ रहे है। शमशान घाट में लंबी लाइन देखकर रूह कांप जाती है। लेकिन लोग कोरोना का स्वागत करने में लगे है। कोरोना 2020 में भारत में आया था। तब से यह अत्यंत आंक्रामक हो चुका है। हर दिन अपना रूप बदलता है और शक्तिशाली बन जाता है। इन दिनों सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हो रहा है, जिसमें लोग पार्टी करते हुए नजर आ रहे हैं। सरकार जनता से अपील कर रही है सावधान रहें, भीड़ इक्कठी ना करें..लेकिन लापरवाह जनता का कोई क्या कर सकते है? इसे भी पढ़ें दिल्ली के गंगाराम अस्पताल में ब्लैक फंगस का भयावह मामला, दो मरीजों की आंतों में मिला म्यूकरमाइकोसिस कोरोना का जमकर स्वागत सोशल मीडिया साइट ट्विटर पर यह वीडियो वन विभाग में अधिकारी (Indian Forest Officer) प्रवीण अंगुसामी ने शेयर किया है। इस वीडियो को देखकर लग रहा है कि जैसे लोग कोरोना की… Continue reading WELCOME THIRD WAVE : स्वैग से करेंगे कोरोना की तीसरी लहर का स्वागत, रेड कार्पेट पर आई तीसरी लहर

राजस्थान : कोरोना मरीजो को जिंदगी की ऑक्सीजन दे रहा जयपुर का सिक्ख समाज, एक कॉल पर पहुंचती है मदद

भारत सहित पूरे विश्व भर में कोरोना का प्रकोप चल रहा है। कोरोना मरीजों को पुरे देश में ऑक्सीजन सिंलेंडर की कमी हो रही है। मरीज अस्पताल के बाहर ऑक्सीजन की भीख मांगते हुए अपनी जान दे रहे है तो कोई बैड के लिए लंबा इंतज़ार कर अपनी आखिरी सांसे गिन रहा है। लेकिन सिक्ख समाज हमेश से ही जिंदादिली की एक मिसाल बनता आया है। कोविड महामारी के दौर में ऑक्सीजन की कमी से पीड़ित मरीजों की उखड़ती सांसों के दर्द को महसूस कर सिक्ख समाज एक बार फिर इस पीड़ा को कम करने के लिये सामने आया है। राजधानी जयपुर का सिक्ख समाज उखड़ती सांसों को बचाने के लिए फ्री ऑक्सीजन और एम्बुलेंस लेकर बस एक कॉल पर कोविड मरीज के दरवाजे पर पहुंच रहा है। पिछले लॉकडाउन में भी जब अनेकों मजदूर और जरूरतमंद सड़क पर भूखे सो रहे थे तब सिक्ख समाज ने गुरुद्वारों में लंगर लगाकर उनका पेट भरा था। इस वक्त जब देश मुश्किल हालात से गुज़र रहा है जब भी सिक्ख समाज के लोग ऑक्सीजन सिंलेंडर लोगों तक पहुंचा कर उनकी जान बचा रहे है। ऐसे कई ट्रस्ट और एनजीओं है ऐसे समय में लोगों तक अनकी जरूरत का सामान पहुंता रहे है।… Continue reading राजस्थान : कोरोना मरीजो को जिंदगी की ऑक्सीजन दे रहा जयपुर का सिक्ख समाज, एक कॉल पर पहुंचती है मदद

हनुमान बेनिवाल बोले राजस्थान में कोविड संकट के लिए केंद्र-राज्य जिम्मेदार, अफसरों पर एफआईआर हो, सीएम अशोक गहलोत ने की पीएम मोदी से बात

जयपुर | राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी (RLP) और नागौर के सांसद हनुमान बेनीवाल (Nagour MP Hanuman Beniwal) ने रविवार को राजस्थान में कोरोना वायरस (Rajasthan Situation on Corona Virus) की बिगड़ती स्थिति को लेकर केंद्र और राज्य सरकार दोनों पर तीखा हमला किया। उन्होंने ऑक्सीजन, वेंटिलेटर, दवाओं की कमी और इतने सारे युवाओं की मौत का हवाला दिया और बोले कि जिम्मेदार अधिकारियों / सरकार के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की जानी चाहिए। दूसरी ओर राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (Rajasthan Chief Minister) ने रविवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) से कोविड-19 की स्थिति पर बात की, उन्होंने राज्य में ऑक्सीजन संकट (Oxygen Crisis in Rajasthan) का भी हवाला दिया और उम्मीद जताई कि केंद्र सरकार जल्द ही जीवन की आपूर्ति यानी आक्सीजन की कमी को पूरा करेगी। उन्होंने रक्षा मंत्री राजनाथसिंह (Defence Minister Rajnath Singh) से भी संवाद किया है। हनुमान बेनीवाल बोले कि, “केंद्र सरकार और राज्य सरकार के घटिया कामकाज के कारण स्थिति और खराब हो गई है। देश में कोरोना संक्रमण फैलने के लिए देश का चुनाव आयोग भी उतना ही जिम्मेदार है क्योंकि वे बढ़ते संक्रमण को देखते हुए पांच राज्यों में विधानसभा चुनाव स्थगित कर सकते थे, लेकिन उन्होंने ऐसा नहीं किया।” यह… Continue reading हनुमान बेनिवाल बोले राजस्थान में कोविड संकट के लिए केंद्र-राज्य जिम्मेदार, अफसरों पर एफआईआर हो, सीएम अशोक गहलोत ने की पीएम मोदी से बात

16 मईः हमारी तारीख, हमारी प्राप्ति, पर चिंता की भी तारीख!

हम तिथियों की महत्ता मानते हुए, उसकी पूजा करते हुए जीते है। उनका खास अर्थ उसके खास भाव से होता है। तारीख विशेष के हम कतृज्ञ होते हैं। तारीख बहाना होती है उत्सव का, समझने का, रस-रंग में डूबने का। उनसे हम इसलिए भी प्रेम करते है क्योंकि वे जीवन के मकसद की याद दिलाती हैं। तारीखें उष्म, मूल्यवान और स्वप्निल होती हैं। 16 मई एक ऐसी ही खास तारीख है, खास अर्थ लिए हुए। यह भी पढ़ें :   त्रासद है यह नया भारत यह तारीख हमारे लिए, ‘नया इंडिया’ की छोटी सी टीम के लिए उत्सव की है तो राहत के साथ चिंता की भी। उत्सव-संतोष-खुशी इसलिए कि ‘नया इंडिया’ आज अपने अस्तित्व के 11 वर्ष पूरे कर रहा है। लंबी सांस के साथ राहत इस कारण कि बिना प्राण वायु, साधन-संसाधन-विज्ञापन के बावजूद ‘नया इंडिया’ जिंदा है। लेकिन दिल-दिमाग बोझिल है इस सवाल से कि– क्या हम बदहाल-अंधकारमय वक्त में लक्ष्मी के श्राप, धन-साधन की अनिश्चितता, अभाव में जिंदा रह पाएंगे? पिछले दो साल, तिल-तिल कर खत्म होती ऑक्सीजन के… उत्सव रूखे-सूखे लेकिन वही सवालों की आग जलाने, फड़फड़ा देने वाली। पिछले वर्ष में ‘नया इंडिया’ फरवरी से ही शत-प्रतिशत घर से काम में बनता-निखरता और धार… Continue reading 16 मईः हमारी तारीख, हमारी प्राप्ति, पर चिंता की भी तारीख!

दिल्ली सरकार ने बनाया Oxygen Concentrator Bank, केजरीवाल बोले- नए Corona केस घटकर 6500 पर आए

नई दिल्ली | पिछले 24 घंटे में दिल्ली में कोरोना (Corona) के 6500 नए केस आए हैं। इसके साथ ही अब दिल्ली में कोरोना की पॉजिटिविटी दर (Positivity rate) घटकर 11 फीसदी रह गई है। आज यह पॉजिटिविटी दर 12 फीसदी थी। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) ने कहा कि हम दिल्ली में ऑक्सीजन कंसंट्रेटर बैंक (Oxygen Concentrator Bank) शुरू कर रहे हैं। अक्सर देखा जा रहा है कि किसी को कोरोना हुआ और उनकी ऑक्सीजन कम होने लगी। यदि रोगी को तुरंत ऑक्सीजन दे दी जाए तो तबीयत ज्यादा बिगड़ने से बचाई जा सकती है। वहीं यदि समय पर ऑक्सीजन नहीं मिलती तो तबीयत बिगड़ते बिगड़ते इतनी बिगड़ जाती है कि कई बार रोगी को आईसीयू ले जाना पड़ता है। इनमें से कई मामलों में रोगियों की मौत हो जाती है इसलिए कोरोना के मामले में समय पर ऑक्सीजन मिलना जरूरी है। ऐसे मरीजों के लिए ही हमने यह ऑक्सीजन कंसंट्रेटर बैंक बनाया है। इसे भी पढ़ें – Women’s Cricket : इंग्लैंड में होने वाली सभी प्रारूपों की सीरीज के लिए भारतीय महिला टीम घोषित दिल्ली के हर जिले में 200-200 ऑक्सीजन कंसंट्रेटर का बैंक बनाया गया है। ऐसे मरीज जो होम आइसोलेशन में हैं अगर उन्हें ऑक्सीजन… Continue reading दिल्ली सरकार ने बनाया Oxygen Concentrator Bank, केजरीवाल बोले- नए Corona केस घटकर 6500 पर आए

कोरोना में मदद कर रहे लोगों की मुसीबत

कोरोना वायरस की महामारी की पिछली लहर में फिल्म अभिनेता सोनू सूद महानायक बन कर उभरे थे। उन्होंने हजारों लोगों को उनके घर पहुंचने में मदद की। इस बार की लहर में वे खुद भी कोरोना संक्रमित हुए इसके बावजूद वे लोगों की मदद कर रहे हैं। पर इस बार उनके अलावा कुछ और नायक उभरे हैं, जो अलग अलग राज्यों में कोरोना संक्रमितों की मदद कर रहे हैं। ऑक्सीजन के सिलेंडर उपलब्ध कराने से लेकर अस्पताल में बेड्स दिलाने और दवाओं का इंतजाम करने तक वे सब काम में अपना निजी नेटवर्क बना कर लोगों की मदद कर रहे हैं। इसमें कांग्रेस के युवा नेता श्रीनिवास बीवी, आम आदमी पार्टी के नेता दिलीप पांडेय, बिहार के पूर्व सांसद पप्पू यादव या पटना में ऑक्सीजन मैन के नाम से मशहूर गौरव राय आदि हैं। इन सबकी किसी ने किसी तरह से मुसीबत बढ़ गई है। असल में केंद्र और राज्य सरकारों को यह अच्छा नहीं लग रहा है कि वे तो लोगों की मदद करने में फेल हो जाएं और कोई दूसरी व्यक्ति अपने निजी प्रयासों में सफल हो जाए। तभी इन सभी नायकों पर किसी न किसी तरह की कार्रवाई हो रही है। बिहार में पप्पू यादव को तो… Continue reading कोरोना में मदद कर रहे लोगों की मुसीबत

Rajasthan: मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने दिए निर्देश, Lockdown की हो सख्ती से पालना

जयपुर | राजस्थान में वैश्विक महामारी कोरोना (global epidemic corona) की दूसरी लहर की चैन तोड़नेे के लिए आज सुबह पांच बजे से चौबीस मई तक सख्त लॉकडाउन (Lockdown) लागू हो गया। इस दौरान आपात एवं जरुरी सेवाकार्य, मेडिकल, डेयरी सहित आवश्यक सेवाओं को छूट रहेगी। इससे पहले मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (CM Ashok Gehlot) ने कहा कि प्रदेशव्यापी लॉकडाउन (Lockdown) की सख्ती से पालना सुनिश्चित की जाए। उन्होंने अधिकारियों से कहा कि प्रदेशवासियों की जीवन रक्षा के लिए लॉकडाउन (Lockdown) का असर पहले दिन से ही गांव-ढाणी तक दिखना चाहिए। इसमें किसी तरह की कोई ढिलाई नहीं हो। जो भी व्यक्ति गाइडलाइन का उल्लंघन करें, उस पर सख्ती से कार्रवाई की जाए। उन्होंने कहा कि जांच, उपचार, वैक्सीनेशन एवं संसाधनों के विस्तार के तमाम प्रयासों के साथ-साथ संक्रमण का प्रसार रोकने के लिए सरकार कड़ाई से लॉकडाउन (Lockdown) की पालना कराएगी। इसके बिना इस घातक लहर को रोक पाना संभव नहीं है। इसे भी पढ़ें – Delhi: सरोज अस्पताल में कोरोना से हड़कंप, 80 डॉक्टर पाए गए कोरोना संक्रमित, एक की मौत, OPD सेवाएं बंद उन्होंनें रविवार रात मुख्यमंत्री निवास पर वीडियो कॉफ्रेंन्स के माध्यम से कोविड संक्रमण, लॉकडाउन (Lockdown) तथा संसाधनों की उपलब्धता सहित अन्य संबंधित विषयों पर उच्च स्तरीय… Continue reading Rajasthan: मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने दिए निर्देश, Lockdown की हो सख्ती से पालना

दिल्ली और मुंबई का फर्क

कोरोना वायरस का एपीसेंटर रहे मुंबई में अब रोज ढाई हजार के करीब केसेज आ रहे हैं और टेस्टिंग कम करने के बावजूद राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में औसतन 20 हजार केस रोज आ रहे हैं। दिल्ली में ऑक्सीजन की उपलब्धता सुनिश्चित करने के लिए दिल्ली हाई कोर्ट ने लगातार 10 दिन तक केंद्र सरकार को फटकार लगाई और सुप्रीम कोर्ट ने भी दो टूक निर्देश देते हुए केंद्र से कहा कि वह हर दिन सात सौ मीट्रिक टन ऑक्सीजन दिल्ली को उपलब्ध कराए, वरना अदालत सख्त रुख अख्तियार करेगी। इसके उलट मुंबई या पूरे महाराष्ट्र में कहीं भी ऑक्सीजन की कमी की खबर नहीं आई। तभी हाई कोर्ट और सुप्रीम कोर्ट दोनों ने मुंबई मॉडल अपनाने की नसीहत दी। दिल्ली में अस्पताल के बेड्स, ऑक्सीजन सिलेंडर, टेस्टिंग और वैक्सीनेशन चारों के लिए हाहाकार है, जबकि मुंबई में एकाध अपवाद को छोड़ दें सब कुछ बिल्कुल सहज अंदाज में चल रहा है। सवाल है कि दिल्ली और मुंबई में ऐसा रात और दिन का फर्क क्यों है? कायदे से तो दिल्ली में स्थिति बेहतर होनी चाहिए थी क्योंकि वह राष्ट्रीय राजधानी है और एक साथ कई सरकारें काम कर रही हैं? इसका एक हिस्सा सीधे देश के प्रधानमंत्री के अधीन आता… Continue reading दिल्ली और मुंबई का फर्क

और लोड करें