West Bengal : मां मां दुर्गा के साथ ममता बनर्जी की भी मूर्ती, BJP ने कहा- इससे घटिया राजनीति नहीं हो सकती…

कोरोना के प्रकोप को देखते हुए कम पूजा पंडालों के बनाने की अनुमति दी गई है. लेकिन बागुईहाटी क्षेत्र से उन्नयन समिति का दुर्गा पूजा पंडाल बनकर तैयार होने के पहले ही विवादों में आ गया है….

बंगाल में राज्यपाल नहीं पढ़ सके अभिभाषण

governor could not read speech : कोलकाता। पश्चिम बंगाल में राज्य सरकार बनाम राज्यपाल का विवाद थम नहीं रहा है। इस विवाद की झलक शुक्रवार को विधानसभा की कार्यवाही के दौरान दिखी। विधानसभा के बजट सत्र के पहले दिन तृणमूल कांग्रेस के विधायकों ने हंगामा करके राज्यपाल को अभिभाषण नहीं पढ़ने दिया ( governor could not read speech)। विधायकों के हंगामे की वजह से सदन में हालात इतने बिगड़ गए कि राज्यपाल जगदीप धनकड़ अपना अभिभाषण पढ़े बिना ही वापस चले गए। विवाद के चलते पांच मिनट में ही विधानसभा की कार्यवाही स्थगित कर दी गई। उड्डयन मंत्री सिंधिया ने पदभार ग्रहण करते ही दी 8 नई उड़ानों की सौगात, मंत्री बनते ही होने लगी बरनोल की राजनीति गौरतलब है कि विधानसभा का बजट सत्र राज्यपाल के अभिभाषण से शुरू होता है, जिसमें राज्यपाल सरकार की ओर से तैयार किया गया भाषण पढ़ते हैं। लेकिन सत्तारूढ़ पक्ष के विधायकों ने ही हंगामा करके राज्यपाल को भाषण नहीं पढ़ने दिया। गौरतलब है कि चुनाव के बाद हुई हिंसा को लेकर राज्यपाल के बयानों और उनके कामकाज से मुख्यमंत्री ममता बनर्जी नाराज हैं और उनकी पार्टी भी इसके लिए राज्यपाल का विरोध करती रही है। मेरे भारत की बेटी..भारतीय मूल की सिरिषा… Continue reading बंगाल में राज्यपाल नहीं पढ़ सके अभिभाषण

हिंदी पत्रकारिता दिवस पर बधाई

30 मई को भारत में हिंदी पत्रकारिता दिवस मनाया जाता है। इसी दिन कोलकाता से 1826 में याने 195 साल पहले हिंदी का पहला समाचार-पत्र ‘उदंत मार्तण्ड’ प्रकाशित हुआ था। इसके प्रकाशक और संपादक श्री युगलकिशोर शुक्ल थे। वह साप्ताहिक अखबार था। उसकी 500 प्रतियाँ छपती थीं लेकिन आज हिंदी के अखबारों की लाखों प्रतियाँ छपती हैं। यह पहला हिंदी अखबार अहिंदीभाषी बंगाल प्रांत से निकला था। हिंदी का पहला दैनिक अखबार ‘समाचार सुधावर्षण’ भी कलकत्ता से ही निकला था और उसके संपादक थे, डाॅ. अमर्त्य सेन के नानाजी श्री क्षितिमोहन सेन। लेकिन अब हिंदी इतनी फैल गई है कि उसके अखबार हिंदी-अहिंदी प्रदेशों के अलावा संसार के कई देशों से नियमित छप रहे हैं। यह भी पढ़ें: स्वतंत्रताः बताने की या छिपाने की? आज देश भर से निकलनेवाले लगभग एक लाख 20 हजार पत्रों में से सबसे ज्यादा हिंदी में ही निकलते हैं। हिंदी को गर्व है कि लगभग 50 हजार पत्र-पत्रिकाएँ आज हिंदी में प्रकाशित हो रही है और जहां तक प्रसार का सवाल है, उसमें भी हिंदी बेजोड़ है। देश में अंग्रेजी का रुतबा जरुर बड़ा भारी है। उसका मूल कारण हमारे बुद्धिजीवियों, नौकरशाहों और नेताओं की दिमागी गुलामी है लेकिन अंग्रेजी अखबारों की पाठक संख्या देश… Continue reading हिंदी पत्रकारिता दिवस पर बधाई

ऑक्सीमीटर को बोलो टाटा, स्मार्टफोन में इस ऐप से चेक करें अपना ऑक्सीजन लेवल

पुरा देश सवा साल से कोरोना से जंग लड़ रहा है। कोरोना पर नियंत्रण पाने के लिए कई राज्य सरकारों ने लॉकडाउन जैसी पाबंदिया लगा रखी है। देश में कोरोना का प्रकोप इतना भयंकर है कि मेडिकल इक्विपमेंट के संसाधन उपलब्ध नहीं हो रहे है। जैसे थर्मामीटर, ऑक्सीमीटर जैसे उपकरण मिलने अत्यंत मुश्किल हो रहे है। हमारी जिंदगी में ऑक्सीमीटर में इन दिनों महत्वपुर्ण भूमिका निभा रहा है। Oximeters की बढ़ती डिमांड के कारण उनके रेट में भी इजाफा हुआ है। कोरोना वायरस लगातार अपना रूप बदल रहा है। कोरोना का नया वैरिएंट अत्यंत भयानक है। जब देश में 3 लाख के पार मरीज मिल रहे है तो लोगों का ऑक्सीजन लेवल बिगड़ रहा है ऐसेमें लोग चाहते है कि वे घर पर ही अपना ऑक्सीजन लेवल चेक करें। लेकिन बाजार में ऑक्सीमीटर उपलब्ध ही नहीं है। हाल ही में कोलकाता बेस्ड हेल्थ स्टार्टअप ने एक मोबाइल ऐप डेवलप की है जो कि Oximeter की जगह पर इस्तेमाल किया जा सकत है। आइये आपको बताते हैं… इसे भी पढ़ें INDIAN VARRIANT RESTRICTION : सरकार ने इंडियन वैरिएंट शब्द पर लगाई पाबंदी..मीडिया कंपनी से कंटेट हटाने को कहा CarePlix Vital ऐप से कर सकते है चेक हेल्थ स्टार्टअप द्वारा डेवलप की गई इस… Continue reading ऑक्सीमीटर को बोलो टाटा, स्मार्टफोन में इस ऐप से चेक करें अपना ऑक्सीजन लेवल

ARIJIT SINGH MOTHER NO MORE : अरिजीत सिंह की मां ने कोरोना से हारी जंग, कोलकाता के एक अस्पताल में इलाज के दौरान तोड़ा दम

अपनी आवाज से लाखो लोगो को दीवाना बना देने वाले अरिजीत सिंह आज बेहद गमगीन है। अरिजीत सिंह की मां का कोरोना से निधन हो गया है। वह कोरोना संक्रमित थी। कोरोना की वजह से उनके सेहत लगातार खराब हो रही थी, जिसकी बाद उन्हें कोलकाता के एक अस्पताल में भर्ती कराया गया था, वहीं आज इलाज के दौरान उन्होंने दम तोड़ दिया। कोलकता में कोरोना से हालत बेहद खराब है। भारत के कुछ राज्यों में कोरोना के मामले कम जरूर हो रहे है लेकिन मौतों का आंकड़ा नहीं रूक रहा है। सरकारों ने अपनी तरफ से अथक प्रयास कर लिए है फिर भी कोरोना का राक्षस नियंत्रण में नहीं हो रहा है। इसे भी पढ़ें इंसानी गिद्ध: कोरोना संक्रमित शवों के अंतिम संस्कार के दौरान शरीर से नोच लेते थे आभूषण और अन्य कीमती चीजें… स्वास्तिका मुखर्जी ने दी जानकारी आपको बता दें कि बीते दिनों ‘दिल बेचारा’ फेम एक्ट्रेस स्वास्तिका मुखर्जी ने ट्वीट किया था, जिसमें उन्होंने लिखा था कि गायक अरिजीत सिंह की मां की तबीयत खराब है और उन्‍हें A- ब्‍लड की जरूरत है। जिसके बाद सामने आया था कि सिंगर अरिजीत सिंह की मां बीमार हैं। सिंगर की मां के निधन से पूरे बॉलीवुड में शोक… Continue reading ARIJIT SINGH MOTHER NO MORE : अरिजीत सिंह की मां ने कोरोना से हारी जंग, कोलकाता के एक अस्पताल में इलाज के दौरान तोड़ा दम

बंगाल में हिंसा, पीएम ने राज्यपाल से की बात

नई दिल्ली। पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव नतीजे आने के बाद राज्य के कई हिस्सों में हिंसा भड़क गई है। रविवार को शुरू हुई हिंसा में अब तक 11 लोगों के मारे जाने की खबर है। भाजपा का आरोप है कि तृणमूल कांग्रेस के कार्यकर्ता भाजपा समर्थकों के ऊपर हमले कर रहे हैं। दूसरी ओर तृणमूल कांग्रेस के राज्यसभा सांसद डेरेक ओ ब्रायन ने कहा है कि चुनाव जीतने वाली पार्टी अपने ही राज्य में क्यों दंगा शुरू कराएगी। उनका आरोप है कि भाजपा के लोग हिंसा फैला रहे हैं। इस बीच मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने राज्य के लोगों से शांति बनाए रखने की अपील की है। रविवार को आए नतीजों के बाद अब तक छह जिलों से हिंसा की खबरें आई हैं और दो दिन में करीब 11 लोगों के मारे जाने की खबर है। इस बीच मंगलवार को भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने पश्चिम बंगाल का दौरा किया और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राज्यपाल जगदीप धनकड़ को फोन करके बात की। उन्होंने बंगाल में आगजनी और हत्याओं पर चिंता जाहिर की है। दूसरी तरफ, सुप्रीम कोर्ट में मंगलवार को एक याचिका दायर की गई, जिसमें मांग की गई है कि सुप्रीम कोर्ट केंद्र सरकार को बंगाल… Continue reading बंगाल में हिंसा, पीएम ने राज्यपाल से की बात

बंगाल की बेटी राज करेगी

कोलकाता। विधानसभा चुनाव से पहले तृणमूल कांग्रेस ने अपने नए चुनावी नारे में कहा था- बंगाल को चाहिए अपनी बेटी। तब भाजपा ने कहा था कि बंगाल के लोग बेटी की विदाई कर देंगे। भाजपा का यह दावा उसको बहुत भारी पड़ा है। पश्चिम बंगाल के लोगों ने अपनी बेटी को राज करने के लिए चुना है। लगातार तीसरी बार पश्चिम बंगाल के मतदाताओं ने ममता बनर्जी की पार्टी को प्रचंड बहुमत के साथ राज्य की सत्ता सौंपी है। आठ चरण में हुए विधानसभा चुनाव में ममता बनर्जी की पार्टी 214 सीटों पर जीत के साथ सरकार में लौटी है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उनको जीत पर बधाई दी है और केंद्र की तरफ से हर संभव मदद का वादा किया है। दो महीने से ज्यादा समय तक चला विधानसभा चुनाव 29 अप्रैल को संपन्न हुआ था। राज्य की 294 विधानसभा सीटों के लिए आठ चरणों में हुए मतदान का आखिरी चरण 29 अप्रैल को पूरा हुआ। रविवार को सुबह आठ बजे से 108 मतदान केंद्रों पर वोटों की गिनती शुरू हुई थी और पहले दो घंटे तक तृणमूल कांग्रेस और भाजपा के बीच बराबरी का मुकाबला होता दिख रहा था। पर 10 बजे के बाद तस्वीर बदलने लगी और… Continue reading बंगाल की बेटी राज करेगी

लंबे नाटक के बाद नंदीग्राम जीतीं ममता!

कोलकाता। पश्चिम बंगाल की सबसे प्रतिष्ठा वाली नंदीग्राम सीट पर देर रात तक नाटक चलता रहा। हालांकि देर रात तक चुनाव आयोग की नतीजों की वेबसाइट पर बताया गया कि ममता बनर्जी को तीन हजार से ज्यादा वोटों से आगे निकल गई हैं। पहले न्यूज एजेंसी के हवाले से खबर आई कि ममता बनर्जी 12 सौ वोट से जीत गईं। फिर उसके बाद खबर आई कि 19 सौ वोट से भाजपा के शुभेंदु अधिकारी जीत गए। फिर देर रात चुनाव आयोग की वेबसाइट पर दिखाया गया कि ममता बनर्जी तीन हजार से ज्यादा वोट से लीड कर रही हैं। नंदीग्राम सीट पर नाटक का आलम यह रहा कि ममता बनर्जी ने खुद स्वीकार कर लिया कि वे हार गईं। उन्होंने प्रेस कांफ्रेंस में कहा कि नंदीग्राम के लोगों का फैसला मंजूर है, लेकिन हम राज्य जीत गए। इसके बाद उन्हें चुनौती देने वाले शुभेंदु अधिकारी ने प्रेस बयान जारी करके अपनी जीत का ऐलान किया और नंदीग्राम के लोगों का आभार जताया। लेकिन उसके बाद अचानक चुनाव आयोग की वेबसाइट पर आंकड़े बदल गए। शाम सात बजे के बाद तक जहां ममता बनर्जी 10 हजार से पीछे चल रही थीं, वहीं रात 10 बजे वे 3,122 वोटों से आगे निकल… Continue reading लंबे नाटक के बाद नंदीग्राम जीतीं ममता!

बड़ी जीत के बावजूद

पश्चिम बंगाल के चुनाव नतीजे को भारतीय जनता पार्टी के लिए एक झटका समझा जाएगा, तो सिर्फ इसलिए कि पार्टी ने जितनी ताकत झोंकी थी और अपनी प्रतिष्ठा जिस रूप में वहां दांव पर लगा दी थी, नतीजा उसके मुताबिक नहीं रहा। बल्कि उसने जो ध्रुवीकरण किया, उसका लाभ तृणमूल कांग्रेस को मिला। तमाम भाजपा विरोधी वोट उसके खेमे में चले गए और उसने लगातार तीसरी बार बड़ी जीत दर्ज कर ली। इस बार की जीत इसलिए और ज्यादा बड़ी लगती है, क्योंकि मुकाबले का धरातल समान नहीं था। यहां बात सिर्फ निर्वाचन आयोग की भाजपा समर्थक भूमिका की नहीं है। बल्कि पैसा और प्रचार के मामले में भी ममता बनर्जी का नरेंद्र मोदी- अमित शाह की जोड़ी से कोई मुकाबला नहीं है। हार- जीत से अलग होकर देखें तो भाजपा का प्रदर्शन बुरा नहीं है। उसने यहां भी दिखाया कि देश के ज्यादातर हिस्सों की तरह पश्चिम बंगाल में एक तिहाई से ज्यादा मतदाता उसके पक्ष में गोलबंद है। दूसरी बात यह कि पिछले लोक सभा चुनाव की तुलना में महाराष्ट्र, हरियाणा, दिल्ली और बिहार में भाजपा गठबंधन के वोटों में जितनी गिरावट आई थी, उतनी पश्चिम बंगाल में नहीं आई। तो लिहाज से कहा जा सकता है कि… Continue reading बड़ी जीत के बावजूद

एक्जिट पोल में ममता की जीत

नई दिल्ली। पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव के आठवें और अंतिम चरण का मतदान खत्म होने के साथ ही पांच राज्यों में मतदान की प्रक्रिया संपन्न हो गई और शाम तक मीडिया समूहों के एक्जिट पोल का नतीजा भी आ गया। ज्यादातर मीडिया समूहों और सर्वेक्षण करने वाली एजेंसियों के एक्जिट पोल में पश्चिम बंगाल में ममता बनर्जी की पार्टी तृणमूल कांग्रेस के जीतने की संभावना जताई गई है। छह में से चार सर्वेक्षणों में कहा गया है कि ममता बनर्जी की पार्टी चुनाव जीतेगी। दो सर्वेक्षणों में भाजपा को सबसे बड़ी पार्टी बनने की संभावना जताई गई है। हालांकि उसमें भी पार्टी को बहुमत मिलता नहीं दिख रहा है। जहां तक बाकी राज्यों का सवाल है कि तमिलनाडु में डीएमके-कांग्रेस गठबंधन को प्रचंड बहुमत मिलने का अनुमाना है। केरल में दशकों बाद पहली बार ऐसा होता दिख रहा है कि लेफ्ट पार्टियां लगातार दूसरी बार सत्ता में आएंगी। सारे एक्जिट पोल नतीजों में सीपीएम के नेतृत्व वाले एलडीएफ की जीत की संभावना जताई गई है। कांग्रेस नेतृत्व वाला यूडीएफ सत्ता से दूर रह जाएगा। असम में भाजपा-अगप गठबंधन के फिर से सत्ता में वापसी की संभावना है। उधर पुड्डुचेरी में रंगास्वामी की पार्टी एनआर कांग्रेस गठबंधन के सत्ता में आने… Continue reading एक्जिट पोल में ममता की जीत

Bengal Election 2021 : कोरोना के कारण मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने भी कम की अपनी रैलियां

कोलकाता| पश्चिम बंगाल में बढ़ते कोरोना (Corona) मामलों को देखते हुए राज्य में चल रहे विधानसभा चुनाव के लिए मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (Chief Minister Mamata Banerjee) ने कोलकाता (Kolkata) में सभी बड़ी रैलियों को रद्द कर दिया है कोलकाता (Kolkata) में कोरोना महामारी के तेजी से बढ़ते मामलों ने आम लोगों के साथ नेताओं को भी हिलाकर रख दिया है। महामारी के बढ़ते प्रसार को देखते हुए मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (Chief Minister Mamata Banerjee) ने कोलकाता (Kolkata) में सभी बड़ी रैलियों (rallies) को रद्द कर दिया है और जिलों में होने वाली रैलियों के समय को कम कर दिया है। उन्होंने कोलकाता के कुछ हिस्सों में अपने पार्टी के सहयोगियों से अपने अभियान को कम करने का भी आग्रह किया है, जहां अगले दो चरणों में 26 और 29 अप्रैल को मतदान होंगे। इसे भी पढ़ें – Delhi Lockdown: सीएम केजरीवाल के एलान के बाद राशन नहीं शराब का स्टॉक रखने की  दिखी होड़  तृणमूल कांग्रेस (Trinamool Congress) के प्रवक्ता डेरेक ओ ब्रायन ने कहा, ममता बनर्जी (Mamata Banerjee) अब कोलकाता में चुनाव प्रचार (Election Campaign) नहीं करेंगी। 26 अप्रैल को शहर में चुनाव प्रचार (Election Campaign) के अंतिम दिन केवल एक प्रतीकात्मक बैठक करेंगी। सभी जिलों में उनकी चुनावी रैलियों… Continue reading Bengal Election 2021 : कोरोना के कारण मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने भी कम की अपनी रैलियां

West Bengal में कोरोना वायरस से संक्रमित कांग्रेस प्रत्याशी Rezaul Haq की अस्पताल में मौत

सूत्रों ने बताया कि सुबह पांच बजे के आस-पास उन्होंने दम तोड़ दिया। शमशेरगंज में 26 अप्रैल को सातवें चरण में मतदान होना है।

West Bengal Election 2021 : लगातार दो बार CM बनीं ममता बनर्जी के पास कितनी सम्पत्ति है?

कोलकाता। पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव 2021 में मतदान का पहला चरण शुरू होने में सप्ताहभर का समय बचा है। बंगाल की 294 सीटों के लिए 27 मार्च से लेकर 29 अप्रेल तक वोट डाले जाएंगे। दो मई को मतों की गणना होगी। West Bengal Assembly Elections 2021 के मैदान में ममता बनर्जी ने तीसरी बार सीएम बनने के लिए ताल ठोक रखी है। ममता बनर्जी ने बंगाल की नंदीग्राम ​सीट से नामांकन पत्र दाखिल किया है। नामांकन पत्र दाखिल करते समय ममता दीदी ने चुनाव आयोग को दिए अपने शपथ पत्र में संपत्ति का भी खुलासा किया है। इसे भी पढ़ें-  BJP सांसद ने फिर दिया विवादित बयान कहा- तीसरे बच्चे को जन्म देने के पहले सरकार से लेना होगा NOC ममता बनर्जी के शपथ पत्र के अनुसार उनके पास 69 हजार 255 रुपए कैश हैं। खुद का कोई मकान, कार व खेती या व्यावसायिक इस्तेमाल के लिए जमीन नहीं है। करीब 18 लाख 82 हजार की अचल संपत्ति है। इसके अलावा 9 ग्राम 750 मिलीग्राम के आभूषण हैं। बता दें कि पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव 2021 के शपथ पत्र में ममता बनर्जी ने साल 2019 व 2018 की इनकम का भी जिक्र किया है। साल 2019—20 में ममता दीदी की कुल आय दस लाख… Continue reading West Bengal Election 2021 : लगातार दो बार CM बनीं ममता बनर्जी के पास कितनी सम्पत्ति है?

Bengal election 2021 : सड़क के खंभे बताएंगे ‘दीदी’ को कैसे लगी चोट, फोरेंसिक विभाग ने की जांच

kolkata: बंगाल चुनाव (Bengal election) को लेकर देशभर में चर्चाएं हो रही हैं. केंद्र में बैठी BJP सरकार बंगाल में किसी भी तरह से सत्ता हासिल करने को आतुर है. दूसरी तरफ बंगाल की सीएम ममता बनर्जी (MAMTA BANERJEE) भी BJP के हर दाव का करारा जवाब दे रही है. 10 मार्च को बंगाल के नंदीग्राम (NANDIGRAM) में दीदी के घायल होने के बाद से जैसे बंगाल के चुनाव में एक नया मोड़ आ गया है. अभी भी दीदी की चोट को लेकर TMC ओर BJP के कार्यकर्ताओं के बीच जबानी जंग जारी है. हालांकि चुनाव आयोग ने ममता ‘दीदी’ के चोटिल होने को एक दुर्घटना (ACCIDENT) करार दे दिया था. इसके बाद भी दोनों ही पार्टियां एक दूसरे पर हमलावर है. इसा कड़ी में आज राज्य के फोरेंसिक विभाग (Forensic Department ) ने नंदीग्राम में उन इलाकों के खंभों का निरीक्षण किया है जहां ममता बनर्जी चुनाव प्रचार के दौरान घायल हुई थीं. राज्य सरकार खंभों की जांच कर ये जानने का प्रयास कर रही है कि आखिर ऐसा भी क्या हुआ जिससे ममता बनर्जी घायल हो गयी. इसे भी पढ़ें- Bengal election 2021 : ओवैसी की बारात छोड़कर दुल्हा हुआ फरार ! नंदीग्राम में सड़क किनारे खंभों का किया… Continue reading Bengal election 2021 : सड़क के खंभे बताएंगे ‘दीदी’ को कैसे लगी चोट, फोरेंसिक विभाग ने की जांच

Bengal election 2021 : ओवैसी की बारात छोड़कर दुल्हा हुआ फरार !

KolKata : पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव 2021 (Bengal election)  देश भर में चर्चा का विषय बना हुआ है. चुनावों की घोषणा के पहले ओवैसी (owaisi)  की पार्टी  AIMIM को भी एक मजबूत पक्ष के रूप में देखा जा रहा था. लेकिन  मौजूदा हाल में बंगाल का यह रण BJP और TMC के बीच ही दिखाई देता है. ताजा जानकारी के अनुसार असादुदीन ओवैसी की पार्टी एआईएमआईएम के राज्य प्रभारी ने ही पाला बदल दिया है. AIMIM के पश्चिम बंगाल प्रभारी जमीर उल हसन ने पार्टी छोड़कर ममता दीदी का साथ देने का फैसला लिया है. इस खबर के फैलने के बाद से लोगों ने सोशल मीडिया में जमकर ओवैसी की क्लास लगाई. सोशल मीडिया (SOCIAL MEDIA) पर ए यूजर ने यहां तक लिख दिया कि बंगाल में ओवैसी की बारात का घोड़ा ही बारात छोड़कर भाग गया है. पार्टी बदलने के बाद हसन ने नंदीग्राम सीट पर सीएम ममता बनर्जी (MAMTA BANERJEE ) का समर्थन करने का फैसला लिया. TMC में शामिल होते ही उन्होंने भाजपा पर कड़ा हमला किया और TMC  के पुराने सहयोगी सुरेंद्र अधिकारी को मीर जाफर बता दिया. इसे भी पढ़ें- रांची में पति के अवैध संबंध से परेशान होकर निशानी मिटाने के लिए बेटी को बोरी… Continue reading Bengal election 2021 : ओवैसी की बारात छोड़कर दुल्हा हुआ फरार !

और लोड करें