खुशबू का भाजपा में शामिल होना

आज कल फिल्म अभिनेताओं- निर्माताओं का राजनीति में आना बहुत आम बात हो गई है। मगर एक समय था जब गिने चुने ही अभिनेता राजनीति में आते थे या उन्हें राजनीतिक दल चुनाव लड़ने का मौका दिया करते थे। फिर तो अमिताभ बच्चन से लेकर धर्मेद्र और हेमामालिनी व वैजयंती माला तक राजनीति में आई और फिर राजनीति में हमारे फिल्म अभिनेता हावी होने लगे।

कांग्रेस की महिला नेताओं की राजनीति

कांग्रेस पार्टी की नेता और राष्ट्रीय प्रवक्ता खुशबू सुंदर ने इस्तीफा दे दिया है। उन्होंने कांग्रेस से इस्तीफा देने के तुरंत बाद भाजपा ज्वाइन कर ली और कहा कि कांग्रेस में अनेक बड़े नेता हैं, जिनको जमीनी हकीकत नहीं पता है।

भाजपा में शामिल हुईं खुशबू सुंदर

तमिल, तेलुगू और मलयालम की 200 फिल्मों में काम करने वाली दक्षिण भारत की मशहूर अभिनेत्री खुशबू सुंदर ने आज भाजपा का दामन थाम लिया।

दक्षिण भारत की पहली किसान रेल का शुभारंभ

दक्षिण भारत की पहली किसान रेल का शुभारंभ आज आन्ध्र प्रदेश के अनंतपुर और दिल्ली के आदर्श नगर के बीच शुरु हो गया ।

कभी मुख्यमंत्री पद की ख्वाहिश नहीं रही: रजनीकांत

फिल्मों से राजनीति में आए दक्षिण भारत के सुपरस्टार रजनीकांत ने आज कहा कि उन्होंने कभी मुख्यमंत्री पद की ख्वाहिश नहीं रखी। उन्होंने कहा, वर्ष 1996 में जब मैं 45 साल का था,

बॉलीवुड में भी खास पहचान बनायी असिन ने

असिन को एक ऐसी अभिनेत्री के रूप में शुमार किया जाता है जिन्होंने न सिर्फ दक्षिण भारत बल्कि बॉलीवुड में भी अपने अभिनय से दर्शको को मंत्रमुग्ध किया। छब्बीस अक्टूबर 1985 को केरल के कोच्चि में जन्मी असिन ने अपने करियर की शुरूआत विज्ञापन फिल्मों से की। असिन ने बतौर अभिनेत्री अपने करियर की शुरूआत वर्ष 2001 में प्रदर्शित मलयालम फिल्म से की। इसके बाद असिन ने दक्षिण भारत की कई तमिल-तेलगु और मलयालम फिल्मों में काम किया है। असिन ने बॉलीवुड में अपने करियर की शुरूआत वर्ष 2008 में प्रदर्शित फिल्म गजनी से की। इस फिल्म में उनकी जोड़ी आमिर खान के साथ काफी पसंद की गयी। गजनी टिकट खिड़की पर सफल रही। इसके बाद असिन ने सलमान खान के साथ रेड्डी जैसी सुपरहिट फिल्मों में भी काम किया। असिन ने वर्ष 2012 में अजय देवगन के साथ बोल बच्चन जैसी सुपरहिट फिल्मों में भी काम किया है। असिन की पिछले वर्ष अभिषेक बच्चन के साथ फिल्म ऑल इज वेल प्रदर्शित नहीं हुयी लेकिन फिल्म बॉक्स ऑफिस पर कोई कमाल नहीं दिखा सकी। असिन ने माइक्रोमैक्स के संस्थापक राहुल शर्मा के साथ शादी की है।

दक्षिण भारत में भी अब फलेगी बिहार की ‘शाही लीची’

मुजफ्फरपुर। बिहार के लोग अगर दक्षिण भारत में रह रहे हैं और वे बिहार की शाही लीची को ‘मिस’ कर रहे हैं तो अब उन्हें चिंता करने की जरूरत नहीं है। वे वहां रहकर भी अब शाही लीची का स्वाद चख सकेंगे। मजेदार बात है कि बिहार में लीची का स्वाद लोग आमतौर पर गरमी में चखते हैं जबकि दक्षिण भारत के लोग लीची का आंनद नवंबर, दिसंबर महीने में उठाएंगें। मुजफ्फरपुर स्थित राष्ट्रीय लीची अनुसंधान केंद्र के निदेशक, विशालनाथ ने शुक्रवार को बताया इस बार सर्दियों में कर्नाटक, केरल और तमिलनाडु में इसकी फसल तैयार होगी। इसकी तैयारी राष्ट्रीय लीची अनुसंधान केंद्र द्वारा पिछले सात सालों से चल रही थी, जो अब सफल हुई है। उन्होंने बताया कि अनुसंधान केंद्र की एक टीम भी इस सप्ताह इन इलाकों का दौरा करने जा रही है, जहां क्षेत्र के लीची किसानों से मिलकर उनकी समस्याओं का समाधान करेगी। विशालनाथ कहते हैं कि अगस्त में वे भी इन क्षेत्रों में जाकर लीची की फसल को देख चुके हैं। उन्होंने कहा कि केरल के वायनाड, इडुक्की और कल्पेटा, कर्नाटक के कोडबू, चिकमंगलूर और हसन तथा तमिलनाडु के पलानी हिल्स व ऊंटी जिलों में लीची की बागवानी की शुरुआत हुई है। इन जिलों के… Continue reading दक्षिण भारत में भी अब फलेगी बिहार की ‘शाही लीची’

और लोड करें