अवसर सिर्फ हमारी खाम-ख्याली में!

जिस वक्त ‘आत्म-निर्भर भारत’ की बात कह कर प्रधानमंत्री मोदी एक तरह से ‘मेक-इन-इंडिया’ योजना की नाकामी स्वीकार कर रहे हैं, उसी वक्त भारत के लिए दुनिया के मैनुफैक्चरिंग हब बनने के अवसर की भी बात कही जा रही है। आखिर ‘मेक-इन-इंडिया’ में क्या होना था? यही तो कि भारत में उत्पादन होता, जिसे दुनिया… Continue reading अवसर सिर्फ हमारी खाम-ख्याली में!

LUCKNOW, MAY 14 (UNI) Migrant labours at Faizabad highway want to reach their hometown by any means as every means of traveling is closed due to COVID-19 pandemic lockdown , in Lucknow on Thursday.UNI PHOTO-LKWPC4U

जिस तकलीफ़ से घर लौटा हूं, अब फिर जाने की हिम्मत नहीं होगी’

श्रमिक स्पेशल ट्रेन के किराये को लेकर सरकार के विभिन्न दावों के बीच गुजरात से बिहार लौटे कामगारों का कहना है कि उन्होंने टिकट ख़ुद खरीदा था। उन्होंने यह भी बताया कि डेढ़ हज़ार किलोमीटर और 31 घंटे से ज़्यादा के इस सफ़र में उन्हें चौबीस घंटों के बाद खाना दिया गया। उमेश कुमार राय… Continue reading जिस तकलीफ़ से घर लौटा हूं, अब फिर जाने की हिम्मत नहीं होगी’

महिला की सड़क पर हुई डिलीवरी, डेढ़ घंटे बाद फिर चलना शुरू किया

भोपाल– महाराष्ट्र के नासिक से मध्य प्रदेश के सतना तक की 11 सौ किलोमीटर की पैदल यात्रा के दौरान पिपरगांव में मां को प्रसव-पीड़ा हुई और रास्ते में ही बच्चे को जन्म दिया। यहीं नहीं, डेढ़ घंटे बाद उसने फिर पैदल चलना शुरू कर दिया। सेंधवा बॉर्डर से पुलिस अब इन्हें क्वरैंटाइन सेंटर में लेकर… Continue reading महिला की सड़क पर हुई डिलीवरी, डेढ़ घंटे बाद फिर चलना शुरू किया

PATNA, MAY 14 (UNI):- Migrants arriving from Rohtak by Sramik train board a bus during nationwide lockdown in the wake of coronavirus pandemic in Patna,Thursday.UNI PHOTO-7U

जत्था गंगोत्री से 300 किमी पैदल चलकर पहुंचा सहारनपुर, एक ने तोड़ा दम

सहारनपुर। लॉकडाउन के चलते काम बंद हो गया, पैसे भी खत्म हो गए। ऐसे में भूखे मरने से बचने के लिए 11 मजदूरों का एक जत्था गंगोत्री से पैदल चलकर सहारनपुर तो पहुंचा, लेकिन एक मजदूर करीब 300 किलोमीटर के सफर की थकान बरदाश्त नहीं कर पाया और तबियत बिगड़ गई। उपचार के लिए सहारनपुर… Continue reading जत्था गंगोत्री से 300 किमी पैदल चलकर पहुंचा सहारनपुर, एक ने तोड़ा दम

LUCKNOW, MAY 14 (UNI) Migrant labours at Faizabad highway want to reach their hometown by any means as every means of traveling is closed due to COVID-19 pandemic lockdown , in Lucknow on Thursday.UNI PHOTO-LKWPC14U

‘घर’ पहुंचाने के लिए वसूल रहे तीन हजार रुपए, ट्रक में भरे 57 मजदूर फिर…

मुंबई | मजदूरों को अपने घर लौटने के दौरान भारी परेशानी का सामना कर रहा है।महाराष्ट्र में मुंबई-नासिक राजमार्ग पर एक ट्रक पुरुषों, महिलाओं और बच्चों से भरा होने के बावजूद और सवारियों के लिए इंतजार में खड़ा है। करीब 40 डिग्री की गर्मी के बीच इसे यूं ही खड़े हुए करीब पांच घंटे हो… Continue reading ‘घर’ पहुंचाने के लिए वसूल रहे तीन हजार रुपए, ट्रक में भरे 57 मजदूर फिर…

आठ महीने की गर्भवती बीवी व बेटी को 800 किमी खींचकर लाया मजदूर

New Delhi | यह बालाघाट का एक मजदूर है, जो हैदराबाद में नौकरी करता था। वह 800 किलोमीटर दूर से हाथ से बनी लकड़ी की एक गाड़ी में बैठा कर अपनी आठ महीने की गर्भवती पत्नी और दो साल की बेटी को लेकर गाड़ी खींचता हुआ बालाघाट पहुंचा है। कुछ दूर तक तो इस मजदूर… Continue reading आठ महीने की गर्भवती बीवी व बेटी को 800 किमी खींचकर लाया मजदूर

Corona Virus Crisis | वायरस से पहले घायल भारत!

New Delhi | 25 मार्च से 15 मई के 52 दिनों में भारत में लोग इतना पैदल चले हैं, गर्मी में इतने झुलसे हैं, इतने प्यासे-भूखे रहे हैं, थके हैं, टूटे, मरे हैं कि मानवता की याददाश्त में महामारी से पूर्व की ऐसी दास्तां ढूंढे नहीं मिलेगी। कोविड-19 का वायरस लोगों को मारने लगे उससे… Continue reading Corona Virus Crisis | वायरस से पहले घायल भारत!

कोरोना के बाद क्या-क्या बदलेगा?

कोरोना वायरस की महामारी को लेकर गंभीर सामाजिक, आर्थिक और राजनीतिक विमर्श के साथ साथ कुछ हल्की-फुल्की चर्चाएं भी चल रही हैं। सब अपने हिसाब से अंदाजा लगा रहे हैं कि कोरोना वायरस खत्म हो जाएगा या जब सब लोग इसके साथ जीना सीख जाएंगे तो जीवन कैसा होगा।