कपिल मिश्रा पर एफआईआर का निर्देश

नई दिल्ली। अपने विवादित बयानों के लिए मशहूर रहे पूर्व आप नेता और अब भाजपा की टिकट पर विधानसभा चुनाव लड़ रहे कपिल मिश्रा की मुश्किलें बढ़ गई हैं। उनके एक ट्विट पर हुए विवाद के बाद केंद्रीय चुनाव आयोग ने उनके खिलाफ एफआईआर दर्ज करने का आदेश दिया। कपिल मिश्रा आम आदमी पार्टी की सरकार में मंत्री थे। पार्टी बदल कर वे इस बार भाजपा की टिकट पर मॉडल टाउन सीट से चुनाव लड़ रहे हैं। गौरतलब है कि सांप्रदायिक ध्रुवीकरण के लिए हिंदू-मुस्लिम वाले बयान दिए जा रहे हैं। पिछले दिनों कपिल मिश्रा ने आठ फरवरी को होने वाले मतदान को भारत और पाकिस्तान की लड़ाई की तरह बताया था। बहरहाल, चुनाव आयोग  कपिल मिश्रा के एक ट्विट को लेकर उनके खिलाफ एफआईआर दर्ज करने के निर्देश दिए हैं। चुनाव आयोग ने पुलिस को नागरिकता संशोधन कानून का विरोध करने वालों के खिलाफ किए गए सांप्रदायिक ट्विट पर कपिल मिश्रा के खिलाफ शिकायत दर्ज करने के लिए कहा है।

पाकिस्तान वाले बयान पर कपिल मिश्रा को चुनाव आयोग का नोटिस

चुनाव आयोग ने दिल्ली के मॉडल टाउन विधानसभा क्षेत्र से भाजपा (भारतीय जनता पार्टी) के उम्मीदवार कपिल मिश्रा द्वारा नागरिकता संशोधन अधिनियम (सीएए) और राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (एनआरसी) को लेकर शाहीन बाग में प्रदर्शन कर रहे

सभी के हैं शिवाजी महाराज: शिवसेना

शिवसेना ने एक समय अपनी सहयोगी रही भाजपा पर निशाना साधते हुए रविवार को कहा कि छत्रपति शिवाजी ‘‘किसी एक जाति या दल तक सीमित नहीं’’ हैं, बल्कि वह महाराष्ट्र के 11 करोड़ लोगों के हैं।

और लोड करें