नई संसद के निर्माण का क्या होगा?

केंद्र सरकार ने सारी योजनाओं पर रोक लगा दी है। अगले साल 31 मार्च तक सिर्फ उन्हीं योजनाओं पर अमल होगा या पैसे आवंटित होंगे

सेंट्रल विस्टा के पैसे कोरोना में लगे

जिस दिन से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उनकी केंद्र सरकार ने नई संसद बनाने और इंडिया गेट से लेकर राष्ट्रपति भवन के बीच के खाली हिस्सों में सरकारी दफ्तरों के लिए नई इमारतें बनाने का फैसला किया है उसी दिन से कांग्रेस पार्टी इसका विरोध कर रही है।

एचसीपी डिजाइन होगी सेंट्रल विस्टा परियोजना की परामर्शदाता

नई दिल्ली। देश की सत्ता का केंद्र मानी जाने वाली रायसीना पहाड़ी के आसपास के सरकारी भवनों और संसद भवन (सेंट्रल विस्टा) के नवीनीकरण की परियोजना के परामर्शदाता के तौर पर अहमदाबाद की ‘एचसीपी डिजाइन, प्लानिंग ऐंड मैनेजमेंट प्राइवेट लिमिटेड’ को चुना गया है। इसके लिए बोलियां मंगाई गई थी जिसमें इसकी बोली विजयी रही। ये खबर भी पढ़ें: सत्र में आ सकता है नागरिकता कानून केंद्रीय लोक निर्माण विभाग (सीपीडब्ल्यूडी) के महानिदेशक प्रभाकर सिंह ने शुक्रवार को यह जानकारी दी। इस परियोजना के तहत कंपनी सेंट्रल विस्टा और संसद भवन के नवीनीकरण के लिए वास्तु और इंजीनियरिंग कामकाज की रुपरेखा और एक साझा केंद्रीय सचिवालय विकसित करने के लिए परामर्श देगी। संवाददाताओं को संबोधित करते हुए सिंह ने कहा कि ‘एचसीपी डिजाइन, प्लानिंग एंड मैंनेजमेंट’ पूर्व में कई योजनाओं पर काम कर चुकी है। ये खबर भी पढ़ें: संसद सत्र का शीतकालीन सत्र 18 नवंबर से यह कंपनी इससे पहले साबरमती रिवरफ्रंट विकास परियोजना में भी शामिल रही है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी हाल ही में महात्मा गांधी की 150वीं जयंती के मौके पर यहां एक बड़े कार्यक्रम में शरीक हुए थे। सिंह ने कहा कि एचसीपी डिजाइन, प्लानिंग एंड मैंनेजमेंट को इस परियोजना के परामर्शदाता के तौर पर चुना… Continue reading एचसीपी डिजाइन होगी सेंट्रल विस्टा परियोजना की परामर्शदाता

और लोड करें