जानिए इन देशों की अलग-अलग प्रथा के बारे में, जिसे सुनकर आपकी रूह कांप उठेगी….गाय का खून चूसने से लेकर शव को जानवरों को खिलाने तक की प्रथा..

जानिए इन देशों की अलग-अलग प्रथा के बारे में, जिसे सुनकर आपकी रूह कांप उठेगी….गाय का खून चूसने से लेकर शव को जानवरों को खिलाने तक की प्रथा..

जानिए जापान की नायाब भेंट रुद्राक्ष के बारे में, जिसका पीएम मोदी आज करेंगे उदघाटन..जानिए इसकी खूबियां

वाराणसी |  आज यानि 15 जुलाई को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी वाराणसी आए है। पीएम मोदी सुबह 10:30 बजे वाराणसी पहुंच चुके है। और एयरपोर्ट पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पीएम को लेने पहुंचे। ( Know about Kashi’s Rudraksha ) वायुसेना के विशेष विमान से पीएम मोदी अपने संसदीय क्षेत्र वाराणसी पहुंचे। वाराणसी की राज्‍यपाल आनंदीबेन पटेल, सीएम योगी आदित्‍यनाथ, मंत्री आशुतोष टंडन और राधामोहन सिंह समेत कई नेता उनका स्वागत करते दिखाई दिए। प्रधानमंत्री मोदी अपने संसदीय क्षेत्र वाराणसी  में करीब आठ महीने बाद पहुंचे है। वह करीब पांच घंटे का वक्‍त यहां बिताएंगे और अन्तर्राष्ट्रीय कन्वेंशन सेंटर रुद्राक्ष समेत 1474 करोड़ रुपये की योजनाओं का लोकार्पण व शिलान्यास करेंगे। कार्यक्रम के दौरान रुद्राक्ष कन्वेंशन सेण्टर में इन्डोजापन कला और संस्कृति की झलक भी दिखेगी। लेकिन ये रुद्राक्ष क्या है, कब बना इसकी खूबियां जानते है इसके बारे में… also read: उत्तर प्रदेश में एक बार फिर काम करेगा ‘मोदी मैजिक’ ! अपने संसदीय क्षेत्र में अरबों की सौगात देने पहुंचे पीएम 2015 में रखी गई थी रुद्राक्ष की नींव ( Know about Kashi’s Rudraksha ) भारत में भगवान के प्रति बड़ी ही आस्था है यहां के पर्यटन स्थल में भी आपको अधिकतर मंदिर ही मिलेंगे। अनोखे और चमत्कारी मंदिर। ( Know… Continue reading जानिए जापान की नायाब भेंट रुद्राक्ष के बारे में, जिसका पीएम मोदी आज करेंगे उदघाटन..जानिए इसकी खूबियां

राजस्थान : राजस्थान राज्य में फिल्म टूरिज्म बढ़ाने के लिए अभिनेता आमिर खान से विचार विमर्श

राजस्थान टूरिस्ट प्लेस के साथ-साथ शूटिंग का भी केंद्र है.  यहां पर हॉलीवुड और बॉलीवुड दोनों की शुटिंग की जाती है. यहां की ऐतिहासिक धरोहर पर्यटकों का तो मन मोह लेती है. फिल्म निर्माताओं को भी यहां की संस्कृति खींच लाती है. राजस्थान के जयपुर में शुद्ध देसी रोमांस की शूटिंग हुई है. आमिर ने हाल ही में अपनी फिल्म लालसिंह चड्ढा की शूटिंग भी राजस्थान में की है। राज्य में फिल्म उद्योग के इन अवसरों को धरातल पर लाने के लिए राजस्थान फाउण्डेशन के आयुक्त  धीरज श्रीवास्तव द्वारा बॉलीवुड सेलिब्रिटी आमिर खान से वर्चुअल माध्यम से संवाद किया. इस कार्यक्रम में राज्य सरकार द्वारा प्रस्तावित फिल्म सिटी व फिल्म पॉलिसी के लिए सुझाव मांगे गये.  इसके अलावा राजस्थान में फिल्म ट्यूरिज्म व राजस्थान के स्थानीय कलाकारों को बढ़ावा देने एवं बॉलीवुड कलाकारों को यहां होने वाली परेशानियों को दूर करने हेतु भी सुझाव मांगे गये.  बॉलीवुड और हॉलीवुड के कलाकार राजस्थान की परम्परा,खान-पान,संस्कृति का आनंद उठाते हैं. राजस्थान में मेहमान को भगवान का दर्जा दिया जाता है. प्रत्येक मेहमान को  आदर-सत्कार से नवाजा जाता है कि वो बार-बार यहां आना पसंद करते हैं. इसे भी पढ़ें Rajasthan by-election 2021 : वीकेंड कर्फ्यू के बीच दोहरी जिम्मेवारी , 3 सीटों से… Continue reading राजस्थान : राजस्थान राज्य में फिल्म टूरिज्म बढ़ाने के लिए अभिनेता आमिर खान से विचार विमर्श

थारू संस्कृति का डंका दुनिया भर में बजवाएगी योगी सरकार

उत्तर प्रदेश की योगी सरकार थारू जनजाति की अनूठी सभ्यता और संस्कृति का डंका दुनिया भर में बजवाने की तैयारी कर रही है। जंगलों के बीच बसे थारु गांव अब विकास की मुख्य धारा से जुड़ेंगे

अंधे हैं लेकिन पता नहीं अंधे हैं!

भारत की समस्या हिंदू हैं। हिंदू की समस्या बुद्धि है। बुद्धि की समस्या गुलामी से बनी प्रवृत्तियां हैं। हिंदू की प्रवृत्तियां, उसका चेतन-अचेतन-अवचेतन का वह मनोभाव है

देश नागरिकों के संस्कार से बनता है: मोदी

अपने संसदीय क्षेत्र आये प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज कहा कि देश सिर्फ सरकार से नहीं बल्कि एक-एक नागरिक के संस्कार से बनता है।

पत्रकारिता पुरस्कार के लिए आवेदन आमंत्रित

साहित्य, संस्कृति और सामाजिक सरोकारों के लिए काम कर रही फिल्मस्थान संस्था की ओर से पत्रकारिता क्षेत्र में अखिल भारतीय स्तर पर विभिन्न पुरस्कार देने के लिए आवेदन आमंत्रित किए गए हैं।

तो भारत बहुत पहले  हिंदू राष्ट्र हो चुका होता!

बात-बात में विपक्ष के एक आला नेता ने कहा, यदि गोडसे ने गांधी को नहीं मारा होता तो भारत बहुत पहले हिंदू राष्ट्र हो चुका होता! वाक्य ने दिमाग के रसायन को खदबदा दिया। लगा कि यह वाक्य मौजूदा वक्त की राजनीति पर एक निष्कर्ष है।

बिना बने, लड़े, जीये ही निर्वाण!

इस पहेली का कोई जवाब नहीं है। और मुझे नहीं लगता कि हमारी सभ्यता की एंथ्रोपोलॉजी कभी इसका जवाब तलाश भी सकेगी। पहेली मतलब भला कैसे सिंधु नदी घाटी के सभ्यतागत पालने ने भारत के होमो सेपियंस को शिकारी से शिकार में तब्दील किया?

बिखरी सभ्यता में राज  की गायब इंद्रियां!

अपने डॉ. वेदप्रताप वैदिक ने कल फिर लिखा कि बने एक वृहद आर्यावर्त! कई हिंदू विचारक, महात्मा गांधी, डॉ. राम मनोहर लोहिया से ले कर तमाम तरह के सेकुलरअपने-अपने अंदाज में यह साझा सपना लिए रहे थे या लिए हुए हैं कि दक्षिण एशिया एक साझा चूल्हा है।

और लोड करें