WhatsApp में अब डिलीट किये हुए मैसेज को भी देख सकते है,आइये जानते है WhatsApp में डिलीट किये मैसेज के किस प्रकार देखा जा सकता है…

WhatsApp  बहूत फेमस मैसेंजिग ऐप है. कुछ समय पहले WhatsApp को फेसबुक ने खरीद लिया था. हाल में WhatsApp का निजता का विवाद चल रहा था. इसके बाद भी WhatsApp लाखो-करोड़ों लोगो का का पसंदीदा चैटिंग ऐप बना हुआ है. WhatsApp समय-समय पर अपने नए-नए फीचर्स ज़ारी करता रहता है. WhatsApp अपना एक और नया फीचर्स लेकर आया है जिसमें आप अपने डिलीट किये हुए मैसेज को देख सकते हैं. आइए जानते है WhatsApp के नई सुविधा के बारे में….. इसे भी पढ़ें  Corona: 24 घंटे के लिए ‘स्वास्थ्य आग्रह’ पर बैठेंगे मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान   क्या है WhatsApp के नए फीचर में साल 2017 में WhatsApp ने सेंड किए मैसेज को डिलीट करने का फीचर जारी किया था. इस फीचर से यूजर्स अपने भेजे हुए मैसेज को डिलीट कर सकते हैं. लेकिन एक तरीका है जिससे WhatsApp पर डिलीट किए गए मैसेज को भी देखा जा सकता है. ऐसा संभव एंड्रॉयड फोन पर थर्ड पार्टी ऐप की मदद से किया जा सकता है. आपको बता दें कि इस तरह के थर्ड पार्टी ऐप्स सिक्योर नहीं हो सकते हैं. वो आपको अन्य डेटा का भी उपयोग कर सकते हैं. इस वजह से ये मैथेड अपने ही रिस्क पर ट्राई करें.… Continue reading WhatsApp में अब डिलीट किये हुए मैसेज को भी देख सकते है,आइये जानते है WhatsApp में डिलीट किये मैसेज के किस प्रकार देखा जा सकता है…

फेसबुक में अब यूजर्स को मिलेगा हार्डवेयर सुरक्षा कुंजी का विकल्प

डेटा की गोपनीयता और सुरक्षा का बेहतर ख्याल रखते हुए फेसबुक की तरफ से अगले साल उपयोगकर्ताओंको नए विकल्प दिए जाएंगे ताकि उनके अकांउट की सुरक्षा और अधिक बेहतर ढंग से हो सके।

किस्तों में सूचना दे रही है सरकार

केंद्र सरकार संसद में किस्तों में सूचना दे रही है। पहले सूचना होने से इनकार कर रही है और जब मीडिया में इसके लिए आलोचना हो रही है तो सूचना जारी कर दी जा रही है।

विशेष ट्रेनों में 97 मजदूर मरे थे

कोरोना वायरस का संक्रमण रोकने के लिए अचानक लागू किए गए लॉकडाउन की अवधि में पलायन करने वाले प्रवासी मजदूरों की मौत का आंकड़ा नहीं रखने के लिए निशाने पर आई सरकार ने अब माना है कि विशेष ट्रेनों में 97 मजदूरों की मौत हुई थी।

मजदूरों का आंकड़ा भी नहीं बताएगें!

क्या सचमुच केंद्र सरकार के पास इस बात का आंकड़ा नहीं है कि लॉकडाउन के दौरान शहरों और महानगरों से पलायन करने वाले करीब एक करोड़ मजदूरों में से पलायन के दौरान कितने मरे और कितने लोगों की नौकरी गई?

सरकार की कमाल की प्राथमिकता

केंद्र सरकार ने संसद में खड़े होकर साफ कह दिया कि लॉकडाउन में पलायन करने वाले मजदूरों की मौत का आंकड़ा उसके पास नहीं है और इसलिए मुआवजा देने का सवाल ही नहीं उठता है।

टेलीविजन चैनलों पर बड़ा सवाल है

केंद्र सरकार के श्रम व नियोजन मंत्रालय ने मॉनसून सत्र के पहले दिन लिखित जवाब में बता दिया कि उसके पास प्रवासी मजदूरों का डाटा नहीं है।

आरोग्य सेतु एप निजता का गंभीर उल्लंघन : कांग्रेस

कांग्रेस ने कहा है कि आरोग्य सेतु एप में हमारा डाटा सुरक्षित नहीं है और इसमें हमारी निजता का उल्लंघन हो रहा है।

असीमित डाटा, कॉल्स की मांग संबंधी याचिका खारिज

उच्चतम न्यायालय ने देशव्यापी लॉकडाउन के मद्देनजर पूूरे देश मेंं उपभोक्ताओं को असीमित मुफ्त फोनकॉल, डाटा, मुफ्त डीटीएच सेवा आदि मुहैया कराने संबंधी याचिका आज खारिज कर दी।

असीमित डाटा, कॉल्स की मांग को लेकर सुप्रीम कोर्ट में याचिका

कोरोना वायरस ‘कोविड-19’ के कारण जारी राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन के मद्देनजर जम्मू- कश्मीर में टूजी के बजाय 4जी इंटरनेट सेवा मुहैया कराये जाने संबंधी याचिका के बाद अब पूूरे देश मेंं उपभोक्ताओं को असीमित मुफ्त फोनकॉल, डाटा, मुफ्त डीटीएच सेवा आदि मुहैया कराने की मांग उच्चतम न्यायालय से की गयी है।

और लोड करें