कूटनीति अब घरेलू राजनीति के लिए!

देश के राजनीतिक दलों के बीच तमाम मतभेदों के बावजूद विदेश और रक्षा नीति पर एक राय होने की परंपरा रही है। नेहरू के जमाने से विदेश और रक्षा नीति के मामले में सरकार देश हित को ऊपर रखते हुए फैसले लेती थी और विपक्षी पार्टियों का समर्थन भी उसे मिलता था। सरकारें कूटनीति के… Continue reading कूटनीति अब घरेलू राजनीति के लिए!