डोवाल व वांग यी ने निकाला फार्मूला?

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के सप्ताहांत में हुए लद्दाख के अग्रिम इलाकों के दौरे और लगातार बनाए जा रहे कूटनीतिक दबाव के चलते लगता है कि भारत-चीन सीमा गतिरोध का कोई समाधान निकल आया है।

मोदी का अचानक लद्दाख-दौरा

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अचानक लद्दाख का दौरा कर डाला। अचानक इसलिए कि यह दौरा रक्षामंत्री राजनाथसिंह को करना था। इस दौरे को रद्द करके मोदी स्वयं लद्दाख पहुंच गए। विपक्षी दल इस दौरे पर विचित्र सवाल खड़े कर रहे हैं।

शेयर बाजार पर रहेगा भारत-चीन तनाव का असर

कोरोना के कहर के बावजूद लगातार दूसरे सप्ताह घरेलू शेयर बाजार में तेजी बनी रही, लेकिन आगामी कारोबारी सप्ताह के दौरान बाजार पर भारत-चीन सीमा विवाद

राहुल गांधी के बयान पर भाजपा-कांग्रेस में तकरार

भारत-चीन की सीमा पर चल रहे तनाव को लेकर कांग्रेस सांसद राहुल गांधी द्वारा दिए गए बयान पर भाजपा और कांग्रेस के बीच तकरार हो रही है

ये कामयाबी फ़ौरी है

खबरों के मुताबिक अमेरिका और फ्रांस के एतराज के चलते संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में फिर से कश्मीर का मसला उठाने की कोशिश नाकाम हो गई। ऐसा स्थायी रूप से हुआ है या नहीं, यह नहीं मालूम। बहरहाल, चीन का फिर से इस मुद्दे को एजेंडे पर ले आना बताता है कि ये सवाल अब भी अंतरराष्ट्रीय मंचों पर भारत के लिए मुश्किलें खड़ा कर सकता है। इस साल 5 अगस्त को भारत सरकार ने जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाया था। चीन ने 16 अगस्त को संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में जम्मू-कश्मीर का मुद्दा उठाया था। अब पिछले 12 दिसंबर को पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद को पत्र लिख कर कश्मीर पर बढ़ते तनाव का जिक्र किया। चीन ने सुरक्षा परिषद के सदस्यों को लिखे पत्र में कहा कि स्थिति की गंभीरता को देखते हुए और तनाव बढ़ने की आशंका के बीच चीन पाकिस्तान के अनुरोध का समर्थन करता है और सुरक्षा परिषद में जम्मू-कश्मीर के हालात पर चर्चा कराने की मांग करता है। मगर गौरतलब है कि पिछली बैठक में भी ऐसा कोई बयान या फैसला नहीं लिया जा सका था, जिसे भारत के लिए असहज स्थिति पैदा होती। हालांकि सुरक्षा परिषद… Continue reading ये कामयाबी फ़ौरी है

यूएन में नहीं होगी कश्मीर मुद्दे पर चर्चा

संयुक्त राष्ट्र/नई दिल्ली। पाकिस्तान के मित्र चीन ने जम्मू कश्मीर मुद्दे पर 15 सदस्यीय सुरक्षा परिषद में मंगलवार को चर्चा कराए जाने का आह्वान किया था। कई सदस्यों के विरोध के बाद चीन ने कश्मीर के मुद्दे को लेकर यूएन में बहस कराने का अपना प्रस्ताव वापस ले लिया है। अन्य देशों ने भारत का समर्थन करते हुए कहा है कि यह द्विपक्षीय मामला है। मामले पर मंगलवार को दोपहर बाद बंद कमरे में परामर्श के दौरान ‘‘अन्य मामलों’’ के तहत सुरक्षा परिषद में चर्चा होने की पहले उम्मीद थी। हालांकि अब माना जाता है कि मंगलवार को चर्चा के लिए निर्धारित यह मामला बाद में हुए घटनाक्रमों के चलते अब आज चर्चा के लिए नहीं आएगा। फ्रांस के राजनयिक सूत्रों ने कहा कि कश्मीर पर सुरक्षा परिषद में मंगलवार को चर्चा नहीं होगी। इस संबंध में एक सूत्र ने कहा, ‘‘हमारी स्थिति बेहद स्पष्ट रही है। कश्मीर मुद्दे पर द्विपक्षीय चर्चा होनी चाहिए। हमने हाल में संयुक्त राष्ट्र सहित कई बार यह रेखांकित किया है।’’

और लोड करें