LAC पर सैन्य शक्ति बढ़ा रहा ड्रैगन, फिर बढ़ सकती है India China Border Tension

नई दिल्ली। India China Border Tension : वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) पर हालात ठीक नहीं लग रहे हैं. चीन एक बार फिर से एलएसी पर अपनी सैन्य शक्ति बढ़ाने की नापाक कोशिश कर रहा है. एक रिपोर्ट्स में दावा किया जा रहा है कि चीन अब एलएसी पर भी अपनी सैन्य शक्ति बढ़ा रहा है. ड्रैगन के इस कदम से सीमा पर हालात सामान्य होने के संकेत नहीं मिल रहे हैं. यह भी पढ़ें:-  Corona Varriant : भारत में दूसरी लहर के लिए जिम्मेदार यह वैरिएंट, कोरोना वैरिएंट का पहली तस्वीर आई सामने इन इलाकों में जैसे सर्दियों का असर कम हो रहा है, वैसे ही चीन की पीपुल्स लिबरेशन आर्मी ने एलएसी से 25 से 120 किमी अंदर तक अपने अस्थाई व्यवस्था को स्थाई करने का काम तेज कर दिया है. टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के अनुसार, एक वरिष्ठ अधिकारी ने मंगलवार कहा कि, ‘पूर्वी लद्दाख के अग्रिम मोर्चों पर पीएलए की नई टुकड़ियां नहीं आई हैं, लेकिन चीन ने तनाव वाले क्षेत्र में सैन्य शक्ति बढ़ाने के बीच बलों की अच्छी खासी संख्या को बरकरार रखा है.’ यह भी पढ़ें:- Corona WorldWide: इस देश के लोगों का हाल भारत से भी बुरा, एक महीने में हुई 1 लाख मौतें … Continue reading LAC पर सैन्य शक्ति बढ़ा रहा ड्रैगन, फिर बढ़ सकती है India China Border Tension

चीन के मोर्चे पर क्या करेगी सरकार?

भारत सरकार महामारी में फंसी हुई है। कोरोना वायरस की दूसरी लहर ने भारत की स्थिति ब्राजील से भी बदतर कर दी है। केंद्र सरकार ने भले बिल्ली को देख कर कबूतर जैसे आंख बंद करता है वैसे आंख बंद कर ली है लेकिन इसका यह मतलब नहीं है कि खतरा नहीं है। खतरा भयावह है। कोरोना की दूसरी लहर ने भारत की दशा बुरी की है तो इसे रोकने के लिए लगाए जा रहे लॉकडाउन और कोरोना कर्फ्यू ने एक बार फिर अर्थव्यवस्था को घुटनों पर ला दिया है। तमाम एजेंसियों का आकलन है कि इस वर्ष की पहली तिमाही का हाल भी पिछले साल की पहली तिमाही जैसा होगा। हालांकि पिछली बार की तरह अर्थव्यवस्था माइनस 24 फीसदी नहीं रहेगी, लेकिन पहली तिमाही में अर्थव्यवस्था में भारी गिरावट होगी। भारत की इस स्थिति को चीन ने भांप लिया है और उसने फिर अपने तेवर दिखाने शुरू कर दिए हैं। कुछ दिन पहले कोरोना वायरस की रिकवरी के समय ऐसा लग रहा था कि चीन भारत के साथ संबंध सुधार कर रहा है। दोनों देशों के सैन्य अधिकारियों की नौवें दौर की वार्ता के बाद चीन ने पैंगोंग झील के पास सेना की वापसी शुरू कर दी थी। लेकिन… Continue reading चीन के मोर्चे पर क्या करेगी सरकार?

भारत ने सभी जगह से सैनिक हटाने को कहा

पूर्वी लद्दाख में पैंगोंग झील के उत्तरी और दक्षिणी सिरे से भारत और चीन के सैनिकों के पीछे हटने के बाद पहली बार गुरुवार को दोनों देशों के विदेश मंत्रियों की वार्ता हुई।

जयशंकर -वांग यी ने सवा घंटे तक बात की

पूर्वी लद्दाख के पैंगोंग झील इलाके में वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर भारत एवं चीन की सेनाओं के पीछे हटने पर संतोष व्यक्त करते हुए भारत ने चीन से एलएसी के बाकी हिस्सों से भी सेनाओं

एलएसी पर तनाव कम करने को भारत-चीन सैन्य वार्ता शुरू

वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर तनाव को कम करने के लिए भारत और चीन के बीच सैन्य वार्ता आज सुबह शुरू हुई। कोर कमांडर की बैठक का 10वां दौर सुबह 10 बजे चीनी क्षेत्र के मोल्दो में शुरू हुआ।

80 चीनी कंपनियां भारत में कार्यरत है : अनुराग ठाकुर

चीन की सीमा पर वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर तनाव के जारी रहने के बीच वित्त राज्य मंत्री अनुराग ठाकुर ने राज्यसभा में बताया कि देश में 80 चीनी कंपनियां सक्रिय रूप से कारोबार कर रही हैं,

एलएसी पर क्या होगा?

भारत और चीन के बीच लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा पर संकट हल करने की कोशिश का असली स्वरूप क्या है, इसको लेकर देश में भरोसा पैदा करने की जरूरत है।

सीमा पर हालात तनावपूर्ण, चीन के साथ युद्ध से इनकार नहीं : बिपिन रावत

भारत के ‘चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ’ जनरल बिपिन रावत ने शुक्रवार को दावा किया कि पूर्वी लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर स्थिति तनावपूर्ण बनी हुई है

उम्मीद तो नहीं बंधती

भारत और चीन की सेनाओं के बीच वास्तविक नियंत्रण रेखा पर लद्दाख में चल रहे गंभीर तनाव के बीच दोनों देशों के विदेश मंत्रियों ने मॉस्को में बातचीत की। पहले खबर आई कि दोनों देश एलएसी पर आमना-सामना खत्म करने के लिए सहमत हो गए हैं।

चीन से लौटे अगवा भारतीय नागरिक

अरुणाचल प्रदेश से अगवा किए गए पांच भारतीय नागरिकों को चीन ने वापस लौटा दिया है। पांचों भारतीय नागरिकों को चीन की सेना ने शनिवार को भारतीय सेना को सौंप दिए। इन पांचों नागरिकों की 12 दिन बाद वापसी हुई।

चीन से इतना डरना क्यों?

दुनिया का हर जानकार मानता है कि चीन ने सीमा पर यथास्थिति तोड़ी। वह आक्रामक है। मई 2020 से पहले भारतीय सेना का जो गश्ती इलाका था उसमें चीनी सेना घुसी है। सीमा पर वह लड़ाई का इंफ्रास्ट्रक्चर बना रहा है।

चीन के आगे एसएस फोर्स है काम की

हमारे देश में बहुत से व्यक्ति व संगठन ऐसे है जो जिदंगी भर गुमनामी में रहते हुए भी देश की सुरक्षा व स्वतंत्रता बनाए रखने में अंहम भूमिका अदा करते हैं। ऐसा ही एक संगठन स्पेशल फ्रंटियर फोर्स (एसएफएफ) है।

चीन बढ़ा रहा है सैनिक

पूर्वी लद्दाख की पैंगोंग झील के दक्षिणी किनारे पर भारतीय जवानों के साथ झड़प में कामयाब नहीं होने के बाद चीन अब उत्तरी इलाके में अपनी सैनिक तैनाती बढ़ा रहा है।

चीन को लाल आंख दिखाने का समय

नरेंद्र मोदी गुजरात के मुख्यमंत्री थे तो उन्होंने उस समय के प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह पर तंज करते हुए कहा था कि वे चीन को लाल आंख क्यों नहीं दिखाते हैं? अब समय आ गया है कि प्रधानमंत्री के तौर पर नरेंद्र मोदी खुद चीन को लाल आंख दिखाएं।

चीन से सभी चिंतित

चीनी सेना के बारे में अमेरिकी कांग्रेस में अपनी सालाना रिपोर्ट में पिछले दिनों पेंटागन- यानी अमेरिका रक्षा मंत्रालय ने कहा कि अगले एक दशक के अंदर चीन अपने परमाणु हथियारों की संख्या दोगुनी कर सकता है।

और लोड करें