भारत अब नकारात्मक रेटिंग में

भारत की आर्थिक साख नकारात्मक हो गई है। वैश्विक रेटिंग एजेंसी मूडीज ने भारत के क्रेडिट रेटिंग परिदृश्य को स्थिर से घटाकर नैगेटिव घोषित किया है। उसके अनुसार सरकार आर्थिक मोर्चे पर जारी सुस्ती को दूर करने में नाकाम रही है।

रुपया 31 पैसे लुढ़का

मुंबई। वैश्विक साख निर्धारक एजेंसी मूडीज की द्वारा भारतीय अर्थव्यवस्था की साख का परिदृश्य ‘स्थिर’ से ‘नकारात्मक’ करने से अंतरबैंकिंग मुद्रा बाजार में शुक्रवार को रुपए पर दबाव रहा और यह 31 पैसे टूटकर 71.28 रुपए प्रति डॉलर पर आ गया जो तीन सप्ताह से अधिक का निचला स्तर है। मूडीज ने भारतीय अर्थव्यवस्था में सुस्ती का क्रम आने वाले कुछ समय तक जारी रहने की बात कही है। उसने कहा है कि आर्थिक सुधार के सरकार के नीतिगत प्रयास विफल रहे हैं। इससे विदेशी निवेशकों ने बाजार से पूंजी निकाली। इसके साथ ही दुनिया की अन्य प्रमुख मुद्राओं के बास्केट में डॉलर सूचकांक में 0.20 फीसद की मजबूती से भी भारतीय मुद्रा पर दबाव पड़ा। रुपया सुबह 29 पैसे की गिरावट के साथ 71.26 रुपए प्रति डॉलर पर खुला और कारोबार के दौरान एक समय 71.33 रुपए प्रति डॉलर तक उतर गया। अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमतों में डेढ़ फीसदी से अधिक की नरमी से बीच कारोबार में यह 71.17 रुपए प्रति डॉलर तक मजबूत भी हुआ। अंतत: पिछले दिनों की तुलना में 31 पैसे कमजोर पड़कर 71.28 रुपये प्रति डॉलर पर बंद हुआ। यह 16 अक्टूबर के बाद भारतीय मुद्रा का न्यूनतम बंद भाव है।

सेंसेक्स 330 अंक लुढ़का

मूडीज द्वारा भारत के क्रेडिट रेटिंग परिदृश्य को घटाने के बाद आईटी, एफएमसीजी, धातु और ऊर्जा कंपनियों के शेयरों में गिरावट से आज बीएसई सेंसेक्स 330 अंक गिर गया।

मूडीज ने भारत की जीडीपी वृद्धि का अनुमान घटाया

रिजर्व बैंक ने भी हालिया मौद्रिक नीति समीक्षा बैठक के बाद जीडीपी वृद्धि दर का अनुमान घटाकर 6.10 प्रतिशत कर दिया है

और लोड करें