Bengal Politics: BJP के 300 कार्यकर्ता TMC में शामिल होने के लिए बैठे थे भूख हड़ताल पर, ‘गंगाजल से शुद्धि’ के बाद किया शामिल

बीरभूम |  बंगाल में भाजपा की राह आसान होती नहीं दिखाई दे रही है. मुकुल रॉय के भाजपा छोड़ TMC में शामिल होने के बाद से बंगाल की राजनीति एक बार फिर से गरमा गई है. TMC बार-बार दावा कर रही है कि भाजपा के कई नेता पार्टी में शामिल होने के लिए उत्सुक बैठे हैं. TMC ने तो यहां तक बयान दे दिया है कि हारे हुए विधायकों को तो छोड़िए भाजपा से जीत कर आए विधायक भी TMC में शामिल होना चाहते हैं. ताजा मामले में बंगाल के बीरभूम जिले में एक साथ भाजपा के 300 कार्यकर्ता TMC में शामिल हो गए. लगभग पूरे बंगाल में कुछ ऐसा ही देखने को मिल रहा है. लेकिन बीरभूम में भाजपा से TMC में शामिल होने वाले कार्यकर्ताओं पर गंगाजल डालकर उन्हें शुद्ध करने के बाद शामिल किया गया. चुनाव के पहले BJP में शामिल होने की थी भगदड़ अक्सर देखा जाता है कि राजनीति में कोई किसी का सगा नहीं होता. कुछ ऐसा ही दृश्य बंगाल की राजनीति में भी देखने को मिला है. बंगाल विधानसभा चुनाव 2021 के पहले जैसे भाजपा में शामिल होने के लिए होड़ सी मच गई थी. ऐसा लग रहा था मानो राज्य में भाजपा… Continue reading Bengal Politics: BJP के 300 कार्यकर्ता TMC में शामिल होने के लिए बैठे थे भूख हड़ताल पर, ‘गंगाजल से शुद्धि’ के बाद किया शामिल

मुकुल राज्यसभा जाएंगे, शुभ्रांग्शु बनेंगे मंत्री!

पुनः मूषिको भव के बाद मुकुल राय की किस्मत चमकने वाली है। वे तीन साल तक भाजपा में रहे लेकिन भाजपा ने उनको कुछ भी नहीं दिया। वे राज्यसभा से इस्तीफा देकर भाजपा में शामिल हुए थे लेकिन भाजपा ने उनको राज्यसभा नहीं भेजा। तीन साल के बाद उनको और उनके बेटे को पश्चिम बंगाल विधानसभा का चुनाव लड़ाया गया था, जिसमें वे खुद तो जीत गए, लेकिन बेटे की हार हो गई। अब दोनों पिता-पुत्र वापस तृणमूल में शामिल हो गए हैं। इसके साथ ही इस बात की चर्चा शुरू हो गई है कि ममता एक बार फिर मुकुल रॉय को राज्यसभा में भेजेंगी। ध्यान रहे पश्चिम बंगाल में राज्यसभा की दो सीटें खाली हैं। एक सीट मानस भुइंया की है, जो विधानसभा का चुनाव जीत कर राज्यसभा सदस्य हो गए हैं और दूसरी सीट दिनेश त्रिवेदी की है, जिन्होंने भाजपा में शामिल होने के बाद राज्यसभा से इस्तीफा दे दिया था। माना जा रहा है कि मानस भुइंया वाली सीट मुकुल रॉय को मिलेगी और दिनेश त्रिवेदी वाली सीट पर ममता बनर्जी भाजपा के दिग्गज नेता रहे पूर्व वित्त मंत्री यशवंत सिन्हा को भेजेंगी। दूसरी चर्चा यह है कि मुकुल रॉय के इस्तीफे से खाली होने वाली विधानसभा… Continue reading मुकुल राज्यसभा जाएंगे, शुभ्रांग्शु बनेंगे मंत्री!

भाजपा के अंतर्कलहः न चर्चा, न खबर!

कांग्रेस पार्टी में सब कुछ ठीक नहीं है इस बात की चर्चा पिछले सात साल से चल रही है। हर बार जब कांग्रेस का कोई नेता पार्टी छोड़ता है तो इस बात की चर्चा होती है कि पार्टी खत्म होने की ओर बढ़ रही है और पार्टी आलाकमान यानी राहुल गांधी किसी लायक नहीं हैं। उनकी टीम बहुत खराब है और इसलिए कांग्रेस के नेता पार्टी छोड़ रहे हैं या पार्टी में अंतर्कलह है। लेकिन ऐसा ही कुछ भाजपा में भी होता है तो उसकी चर्चा नहीं होती है। हकीकत यह है कि इस समय कांग्रेस से ज्यादा अंतर्कलह भाजपा में चल रही है लेकिन मीडिया में न तो सामने दिख रही खबर दिखाई जाती है और न सूत्रों के हवाले से कोई खबर आती है। यह भी पढ़ें: तीरथ सिंह को उपचुनाव की चिंता उत्तर प्रदेश में पिछले तीन महीने से ज्यादा समय से तनाव है। प्रधानमंत्री के करीबी आईएएस अधिकारी एके शर्मा को दिल्ली से जाते ही प्रदेश में उप मुख्यमंत्री बनना था और गृह व कार्मिक विभाग संभालना था। लेकिन वे तीन महीने से बनारस में कोविड प्रबंधन देख रहे हैं क्योंकि मुख्यमंत्री ने उनको उप मुख्यमंत्री बनाने से इनकार कर दिया। मुख्यमंत्री का सीधे प्रधानमंत्री से… Continue reading भाजपा के अंतर्कलहः न चर्चा, न खबर!

अब शुभेंदु बनाम दिलीप घोष

पश्चिम बंगाल में भाजपा के भीतर शुरू हुई कलह थमने का नाम नहीं ले रही है। भाजपा के उपाध्यक्ष मुकुल रॉय और उनके बेटे शुभ्रांग्शु रॉय के तृणमूल कांग्रेस में लौट जाने और राजीब बनर्जी के पार्टी छोड़ने की तैयारियों के बीच भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष दिलीप घोष और विधायक दल के नेता शुभेंदु अधिकारी के बीच विवाद शुरू हो गया है। शुभेंदु अधिकारी अपनी स्थिति मजबूत बनाए रखने के लिए चाहते हैं कि कोई विधायक पार्टी नहीं छोड़े। वे विधायक दल के नेता हैं और उनके बारे में यह धारणा है कि वे बहुत मजबूत हैं। लेकिन इसके बावजूद अगर विधायक पार्टी छोड़ते हैं तो उनकी स्थिति कमजोर होगी। तभी उन्होंने पार्टी छोड़ने की तैयारी कर रहे विधायकों को चेतावनी दी है और कहा है कि उनके ऊपर दलबदल विरोधी कानून लागू होगी और विधानसभा से इस्तीफा देना होगा। यह भी पढ़ें: भाजपा के अंतर्कलहः न चर्चा, न खबर! दूसरी ओर दिलीप घोष और भाजपा के पुराने नेता चाहते हैं कि तृणमूल से आए सारे लोग वापस चले जाएं। सो, दिलीप घोष ने कहा है कि जो लोग सत्ता की चाह में भाजपा में आए हैं वे वापस चले जाएं तो बेहतर होगा। इस तरह दिलीप घोष तृणमूल कांग्रेस… Continue reading अब शुभेंदु बनाम दिलीप घोष

Bengal Politics : ममता बनर्जी ने मुकुल रॉय के लौटने को लड़के की घर वापसी बताया, शुभेंदु सरकार का नाम आते हीं उठकर निकल पड़ीं…

कोलकाता । Bengal Politics Mamta : कभी पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी का राइट हैंड कहे जाने वाले शुभेंदु सरकार पर उनकी नाराजगी कितनी है इससे आज एक घटनाक्रम से समझा जा सकता है. मुकुल रॉय के टीएमसी में शामिल होने के बाद आज ममता बनर्जी ने उनके साथ एक प्रेस वार्ता को संबोधित किया. प्रेस वार्ता के दौरान ममता बनर्जी ने भाजपा पर कड़े हमले किए. ममता बनर्जी ने कहा कि कई लोग वापस टीमसी में आना चाहते हैं. ममता बनर्जी ने कहा कि पार्टी छोड़कर भाजपा में शामिल होने के बाद चुनाव हार चुके नेताओं को इतनी आसानी से शामिल नहीं किया जा सकता है वे गद्दार हैं. वही मुकुल रॉय के वापस टीएमसी में आने पर ममता बनर्जी ने कहा कि घर का लड़का वापस आया. इस प्रेस वार्ता के दौरान कुछ ऐसा हुआ तो सबको काफी अजीब लगा. शुभेंदु का नाम सुनते ही उठकर निकल गई ममता  Bengal Politics Mamta :  प्रेस वार्ता के दौरान पत्रकारों का ममता बनर्जी काफी संस्था से जवाब दे रही थी. लेकिन जब एक पत्रकार ने शुभेंदु सरकार से संबंधित कुछ सवाल ममता बनर्जी से पूछा तो वह अचानक खड़ी होकर निकल गई. प्रेस वार्ता के दौरान हुई इस घटना… Continue reading Bengal Politics : ममता बनर्जी ने मुकुल रॉय के लौटने को लड़के की घर वापसी बताया, शुभेंदु सरकार का नाम आते हीं उठकर निकल पड़ीं…

मोदी सरकार मंत्रिमंडल : फेरबदल कब?

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपनी सरकार में कब फेरबदल करेंगे? यह सवाल अब भाजपा नेताओं को परेशान करने लगा है। केंद्रीय मंत्रिमंडल में फेरबदल की अटकलें लगाते लगाते नेता अब थकने लगे हैं और इस बारे में बात क

सिंधिया, सुशील मोदी का लंबा इंतजार

कांग्रेस छोड़ कर भाजपा में शामिल हुए ज्योतिरादित्य सिंधिया और बिहार छुड़ा कर केंद्र की राजनीति में लाए गए सुशील कुमार मोदी का इंतजार क्या खत्म होगा? सिंधिया पिछले साल मार्च से इंतजार कर रहे हैं। उनके और उनके समर्थकों का धीरज छूट रहा है तभी पिछले दिनों 21 मई को पूर्व प्रधानमंत्री दिवंगत राजीव गांधी की पुण्यतिथि के मौके पर सिंधिया ने उनको आधुनिक भारत का निर्माता बताते हुए ट्विट किया। यह भी पढ़ें: मोदी मंत्रिमंडलः फेरबदल कब? हालांकि बाद में उन्होंने ट्विट बदल दिया और आधुनिक भारत का निर्माता बताने वाली बात हटा दी। लेकिन उन्होंने मैसेज दे दिया कि उनको राजीव गांधी को आधुनिक भारत का निर्माता बताते देर नहीं लगेगी। वैसे भी मध्य प्रदेश में दमोह सीट के उपचुनाव में तमाम जोर लगाने के बाद भी भाजपा के हारने और कांग्रेस की जीत ने भाजपा की चिंता बढ़ाई है। सो, सिंधिया का इंतजार खत्म होने की संभावना दिख रही है। यह भी पढ़ें: तीन विधायक, केंद्रीय मंत्री के दावेदार! सुशील मोदी के लिए पिछले साल नवंबर से कहा जा रहा है कि उनको बिहार से दिल्ली इसलिए लाया गया है ताकि उनको मंत्री बनाया जा सके। वे मंत्री बनना तो तय मान रहे हैं पर ट्विटर… Continue reading सिंधिया, सुशील मोदी का लंबा इंतजार

तीन विधायक, केंद्रीय मंत्री के दावेदार!

देश के अलग अलग राज्यों के कम से कम तीन विधायक केंद्र सरकार में मंत्री बनने के दावेदार बताए जा रहे हैं। जानकार सूत्रों के मुताबिक असम के पूर्व मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल को केंद्र में मंत्री बनना है। यह भी कहा जा रहा है कि पार्टी आलाकमान की ओर से उनको हरी झंडी मिली हुई है। यह भी पढ़ें: मोदी मंत्रिमंडलः फेरबदल कब? ध्यान रहे वे नरेंद्र मोदी की पहली सरकार में मंत्री थे और 2016 का विधानसभा चुनाव जीतने के बाद पार्टी ने उनको असम का मुख्यमंत्री बनाया था। इस बार भी उनके मुख्यमंत्री रहते पार्टी जीती है पर उनकी बजाय हिमंता बिस्वा सरमा को सीएम बनाया गया है। तभी से सोनोवाल को एक बार फिर दिल्ली लाने की चर्चा तेज हो गई है। वैसे भी प्रदेश की राजनीति में उनके लिए करने को कुछ नहीं बचा है। हिमंता सरमा के मुख्यमंत्री बनने के बाद किसी के पास करने को कुछ नहीं बचा है। यह भी पढ़ें: सिंधिया, सुशील मोदी का लंबा इंतजार बहरहाल, सोनोवाल के अलावा एक और पूर्व मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत हैं, जिनको पिछले दिनों ही हटाया गया था। वे एक बार फिर सक्रिय हो गए हैं और कहा जा रहा है कि केंद्र में मंत्री… Continue reading तीन विधायक, केंद्रीय मंत्री के दावेदार!

कौन-कौन बनेगा केंद्र में मंत्री?

दिल्ली में एक बार फिर गेसिंग गेम शुरू हो गया है कि केंद्र में कौन कौन मंत्री बनेगा। हालांकि सबको पता है कि नरेंद्र मोदी सरकार बनने के बाद किसी पद के लिए जिसके नाम की ज्यादा चर्चा हो जाती है उसका पत्ता कट जाता है। फिर भी कई तरह की अटकलें चल रही हैं। नेता एक-दूसरे से जानकारी ले और दे रहे हैं। किसी को पक्की खबर नहीं है पर राजनीतिक समीकरण और राज्यों में सामाजिक संतुलन के समीकरण के हिसाब से कुछ नामों की अटकलें लगाई जा रही हैं। यह भी पढ़ें: मोदी मंत्रिमंडलः फेरबदल कब? दिल्ली की अटकलों के हिसाब से असम से सर्बानंद सोनोवाल का नाम पक्का माना जा रहा है और पश्चिम बंगाल से मुकुल रॉय के बनने की संभावना जताई जा रही है। कहा जा रहा है कि भाजपा आलाकमान की नजर पूर्वी भारत पर है इसलिए असम, बंगाल, ओड़िशा से नए मंत्री जरूर बनेंगे। झारखंड से भी एक मंत्री बनना लगभग तय है। ध्यान रहे पार्टी राज्य में 12 सीटों पर जीती है और हमेशा दो मंत्री बनते रहे हैं, जिसमें से एक आदिवासी समुदाय से तो दूसरा गैर आदिवासी समुदाय से होता है। पिछली बार जयंत सिन्हा मंत्री थे। इस बार गैर… Continue reading कौन-कौन बनेगा केंद्र में मंत्री?

बंगाल में भाजपा की समानांतर सरकार

कई बार संसद में और कई विधानसभाओं में देखने को मिला है कि सत्ता पक्ष किसी मसले पर बहस के लिए तैयार नहीं होता है तो विपक्षी नेता अपनी संसद जमा लेते हैं। वे संसद परिसर में या संसद स्थगित होने के बाद सदन में ही यह तमाशा करते हैं। भारतीय जनता पार्टी कुछ उसी तरह का तमाशा पश्चिम बंगाल में कर रही है। वह चुनाव हार गई तो उसने अपनी समानांतर सरकार बना ली है। राज्यपाल कार्यालय राज्य के मुख्यमंत्री सचिवालय की तरह काम करने लगा है और केंद्रीय एजेंसियों को राज्य के बाकी काम में लगा दिया गया है। केंद्र सरकार इसके जरिए अपने समर्थकों और कार्यकर्ताओं को दिखाना चाह रही है कि लोगों ने हरा दिया तो क्या है भाजपा अब भी अपनी सरकार चला सकती है। यह भी पढ़ें: बंगाल का तमाशा, ध्यान भटकाने की साजिश तभी कोरोना वायरस की महामारी से लेकर राज्य के कुछ हिस्सों में हुई हिंसा के मामले में मुख्यमंत्री से ज्यादा सक्रियता राज्यपाल दिखा रहे हैं। उन्होंने हिंसा प्रभावित क्षेत्रों का दौरा किया और असम तक पहुंच गए, यह देखने कि पलायन कर रहे लोग वहां कैसे रह रहे हैं। उन्होंने अधिकारियों को सीधे निर्देश दिए और यह धमकी भी दी… Continue reading बंगाल में भाजपा की समानांतर सरकार

अपने या बाहरी को नेता बनाएगी भाजपा?

पश्चिम बंगाल में नतीजे आने के बाद सरकार बन गई, विधायकों की शपथ हो गई, स्पीकर का चुनाव हो गया पर अभी तक भाजपा विधायक दल के नेता का चुनाव नहीं हुआ है। क्योंकि भाजपा को समझ में नहीं आ रहा है कि किसको नेता बनाएं। चुनाव से ठीक पहले तृणमूल कांग्रेस छोड़ कर भाजपा में शामिल हुए शुभेंदु अधिकारी भाजपा विधायक दल और विधानसभा में नेता विपक्ष पद के दावेदार बताए जा रहे हैं। लेकिन अगर भाजपा उनको नेता बनाती है तो उनसे पहले तृणमूल कांग्रेस छोड़ कर भाजपा में शामिल हुए मुकुल रॉय को कहीं और एडजस्ट करना होगा क्योंकि वे दोनों साथ काम नहीं कर सकते हैं। वैसे मुकुल रॉय भी अपनी दावेदारी किए हुए हैं लेकिन मुश्किल यह है कि वे कभी विधायक नहीं रहे हैं, जबकि शुभेंदु अधिकारी का बतौर विधायक लंबा अनुभव है और वे मुख्यमंत्री को हरा कर विधायक बने हैं। सो, उनको बनाने से विधानसभा में भाजपा मजबूत रहेगी। शुभेंदु अधिकारी या मुकुल रॉय की बहस के बीच एक बड़ी मुश्किल राष्ट्रीय स्वंयसेवक संघ और भाजपा के पुराने नेताओं की है। संघ के पदाधिकारी चाहते हैं कि बाहर से आए किसी नेता की बजाय भाजपा अपने किसी पुराने नेता को विपक्ष के… Continue reading अपने या बाहरी को नेता बनाएगी भाजपा?

राज्यसभा के लिए मुकुल राय का दबाव

तृणमूल कांग्रेस छोड़ कर भाजपा में शामिल हुए मुकुल रॉय भाजपा पर दबाव बना रहे हैं। अगले साल राज्य में चुनाव होने वाले हैं और उससे पहले अचानक यह खबर आई है कि मुकुल रॉय  पार्टी से नाराज हैं

मुकुल रॉय की मुश्किलें बढ़ीं

आमतौर पर दूसरी पार्टियों से भाजपा में गए नेताओं को भाजपा ने उपकृत किया है। बाहरी नेताओं को सांसद, विधायक, मंत्री बनाया गया है। इस मामले में तृणमूल कांग्रेस छोड़ कर भाजपा में गए मुकुल रॉय अकेले अपवाद दिख रहे हैं। उनको अभी तक भाजपा ने कुछ नहीं दिया है।

मुकुल राय को भाजपा से कुछ नहीं मिला

विपक्षी पार्टी छोड़ कर जो भी नेता भाजपा में शामिल हुआ उसे कुछ न कुछ जरूर मिला। कांग्रेस छोड़ कर आए हिमंता बिस्वा सरमा तो पूर्वोत्तर में इन दिनों भाजपा के सबसे बड़े नेता हैं। महाराष्ट्र में नारायण राणे को भी भाजपा ने राज्यसभा में भेजा है।

और लोड करें