ये फैसला बेहद विवादास्पद

फैसला कुछ रोज पहले आया। लेकिन जब इसके बारे में देश में जानकारी फैली, तब इस पर प्रतिक्रियाएं आनी शुरू हुईं। फैसले पर जताया गया आक्रोश जायज है।